shayarisms4lovers June18 248 - ऐ दिल है मुश्किल शायरी – आज जाने की जिद न करो

ऐ दिल है मुश्किल शायरी – आज जाने की जिद न करो

Emotional Shayari Ghazal Hindi Shayari Inspirational Shayari Intzaar Shayari Ishq Shayari Life shayari Love Poem Love Shayari Romantic Shayari Shayari Urdu Shayari Whatsapp Status Yaadein Shayari Yaar Shayari Zindagi Shayari

ऐ दिल है मुश्किल

जब प्यार में प्यार न हो
जब दर्द में यार न हो
जब आँसूओ में मुस्कान न हो
जब लफ़्ज़ों में जुबान न हो
जब साँसे बस यूं ही चले
जब हर दिन में रात ढले
जब इंतज़ार सिर्फ वक़्त का हो
जब याद उस कमबख्त की हो
क्यों वो हो राही जो हो किसी और की मंजिल
जब धड़कनों ने साथ छोड़ दिया
ऐ दिल है मुश्किल , ऐ दिल है मुश्किल

AE Dil Hai Muskil

jab pyar mein pyar na ho
jab dard mein yaar na ho
jab anssooao mein muskan na ho
jab lafzzo main jubaan na ho
jab sanse bas yoon hi chale
jab har din main raat dhale
jab intezaar sirf waqt ka ho
jab yaad us kambaqat ki ho
kyon wo ho raahi jo ho kisi aur ki manjil
jab dhadkno ne sath chod diya
AE dil hai muskil , AE dil hai muskil


जनून हद से बढ़ चला है

बात बस से निकल चली है
दिल की हालत संभल चली है
अब जनून हद से बढ़ चला है
अब तबियत निहाल हो चली है

Janoon Haad se Bhad Chala Hai

Baat bas se nikal chali hai
Dil ki halat sambhal chali hai
Ab janoon haad se bhad chala hai
Ab Tabiyat Nihal ho chali hai


सौ अंधेरों में भी रोशन हूँ

सौ अंधेरों में भी रोशन हो उस हक़ीक़त की तलाश है
तेरी दहलीज़ पर छोड़ आए उस मोहब्बत की तलाश है
झुके तो इबादात समझे जमाने वाले
मिटने पे जो हासिल हो उस ज़नत की तलाश है

Sau Andheron Mein Bhi Roshan Hain

Sau andheron mein bhi roshan ho uss haqiqaat ki talash hai
Teri dehleez par chod aaie us mohabbat ki talash hai
Jhuke to Ibaadaat samjhe jamaane wale
Mitne pe jo hasil ho us janat ki talash hai


एक तरफ़ा प्यार

एक तरफ़ा प्यार की ताक़त ही कुछ और होती है
वो रिश्तों की तरह दो लोगो में नहीं बंटती
सिर्फ मेरा हक़ है इस पर सिर्फ मेरा

Ek Tarfa Pyar

Ek tarfa pyar ki taqat hi kuch aur hoti hai
Wo rishton ki tarah do logo main nahi bantti
sirf mera haq hai is par sirf mera


बाज़ी इश्क़ की

अगर बाज़ी इश्क़ की बाज़ी है
तो जो चाहे लगा लो दिल के सिबा
तो अगर जीत गए तो क्या कहना
अगर हारे भी तो बाज़ी मात नहीं

Baazi Ishq Ki

Agar Baazi ishq ki baazi hai
to jo chahe laga lo dil ke siba
to agar jeet gaye to kya kehna
agar haare bhi to baazi maat nahi