shayarisms4lovers mar18 98 - जब उठा मेरा जनाज़ा – मेरा जनाज़ा उर्दू शायरी

जब उठा मेरा जनाज़ा – मेरा जनाज़ा उर्दू शायरी

Shayari

मेरा जनाज़ा ज़माने में निकला

जब मेरा जनाज़ा इस ज़माने से निकला
मेरे जनाज़े को देखने सारा ज़माना निकला
मगर मेरे जनाज़े में वो न निकला
जिसके लिए मेरा जनाज़ा ज़माने में निकला

Mere Janaze Mein Wo Na Nikla

Jab Mera Janaza is Zamane Se Nikla
Mere Janaze Ko Dekhne Sara Zamana Nikla
Magar Mere Janaze Mein Wo Na Nikla
Jiske Liye Mera Janaza Zamane Se Nikla


मेरे जनाज़े के पीछे

एक वादा था तेरा हर वादे के पीछे
तू मिलेगा मुझे हर गली ,हर दरवाज़े के पीछे
पर तू तो बड़ा ही बेवफा निकला मेरी जान
एक तू ही नहीं था मेरे जनाज़े के पीछे

Mere Janaze ke Peeche

Ek wada tha tera har wade ke peeche
Tu milega muje har gali,har darwaze ke peeche
Par tu bada bewafa nikla meri jaan
Ek tu hi nahi tha mere janaze ke peeche

तेरे जनाज़े के पीछे

एक वादा था मेरा हर वादे के पीछे
मैं मिलूंगा तुझसे हर गली , हर दरवाज़े के पीछे
पर तुमने ही मुद के नहीं देखा मेरी जान
मेरा भी जनाज़ा था तेरे जनाज़े के पीछे

Tere Janaze ke Peeche

Ek wada tha mera har wade ke peeche
Main milunga tujse har gali, har darwaze ke peeche
Par tumne hi mud ke nahi dekha
Mera Bhi janaza tha tere janaze ke peeche..


मेरी अर्थी

जिस दिन मेरी अर्थी इस दुनिया से विदा होगी
एक अलग समां होगा एक अलग बात होगी
कहना उस बेवफा से मर गया तुम्हारा आशिक़
अब न हम है और न हमारी बातें होंगी

Meri Arthi

Jis Din Meri Arthi is Duniya se Vida Hogi
Ek Alag Sama Hoga Ek Alag Baat Hogi
Kehna Us Bewafa Se Mar gaya Tumhara ashiq
Ab Na Hum Hai Aur Na Hamari batain Hongi..


जब लाश होगी कफ़न में

मिलना है तो मिल इसी दुनिया के चमन में
फिर क्या मिलना होगा जब लाश होगी कफ़न में

Jab Laash Hogi Kafan Mein

Milna Hai to Mil isi Duniya Ke Chaman Mein
Phir Kya Milna Hoga Jab Laash Hogi Kafan Mein..


मेरा जनाज़ा पढ़ा गया

फ़र्क़ सिर्फ इतना सा है
तेरी डोली उठी मेरी मयत उठी
फूल तुझ पर भी पड़े फूल मुझ पर भी पड़े
तू सज के गई मुझे सजाया गया
तू उठ के गई मुझे उठाया गया
सहेलियां तेरी भी थी दोस्त मेरे भी थे
महफ़िल वहां भी थी लाग् यहाँ भी थी
उन का हँसना वहां इन का रोना यहाँ
दो बोल तेरे पढ़े दो बोल मेरे पढ़े
तेरा निकाह पढ़ा गया मेरा जनाज़ा पढ़ा गया
तुझे अपनाया गया मुझे दफनाया गया

MERA JANAZA PADHA GAYA

FARQ SIRF ITNA SA HAI
TERI DOLI UTHI MERI MAYAT UTHI
PHOOL TUJH PAR BHI PADE,
PHOOL MUJH PAR BHI PADE,
TU SAJH KE GAI MUJHE SAJAYA GAYA
TU UTH KE GAI MUJHE UTHAYA GAYA
SAHELIYAN TERE BHI THI DOST MERE BHI THE
MEHFIL WAHAN BHI THI LAG YAHAN BHI THI
UUN KA HASNA WAHAN IN KA RONA YAHAN
DO BOL TERE PADHE DO BOOL MERE PADHE
TERA NIKAH PADHA GAYA MERA JANAZA PADHA GAYA
TUJHAY APNAYA GAYA MUJY DAFNAYA GAYA..


मेरा जनाज़ा

ऐ मेरा जनाज़ा उठाने वालो
देखना कोई बेवफा पास न हो
अगर हो तो उस से कहना
आज तो ख़ुशी का मौका है उदास न हो

Mera Janaza

AE mera janaza uthane waalo
dekhna koi bewafa paas na ho
Agar ho to us se kehna
aaj to khushi ka mauka hai udaas na ho..


जनाज़ा गुज़रेगा मेरा

यह हम भी गवारा करते हैं
यह तुम भी गवारा कर ले ना
रो रो के गुज़ारी है हम ने
तुम हँस के गुज़ारा कर ले ना
बेताबी हद से बढ़ जाये और नींद न आये रातों को
तो डूब के मेरी यादों में दुनिया से किनारा कर ले ना
जिस वक़्त जनाज़ा गुज़रेगा मेरा तेरे कूचे से
जज़्बात पे काबू कर के खिड़की से नज़ारा कर ले ना .

Janaza Guzrega Mera

Yeh Hum Bhi Gawara Kartay Hain
Yeh Tum Bhi Gawara kar lay na.
Ro Ro Ke Guzari Hai Hum Ne
Tum Hans ke Guzara Kar Lay na
Betabi Hadh Sa Badh Jaye Aur Neend na Aaye Ratoon Ko
To Doob Ke Meri Yadoon Mein Duniya se Kinara Kar Lay na
Jis Waqt Janaza Guzrega mera Tere Kochay se
Jazbaat pe Kabu Kar ke Khirki se Nazara Kar Laina…


जनाज़ा मेरा

जनाज़ा मेरा उठ रहा था
फिर भी तकलीफ थी उनको आने में
बेवफा घर में बैठी पूछ रही थी
और कितनी देर है दफनाने में

Janaza Mera

Janaza Mera Uth Raha Tha
Phir Bhi Takleef Thi Unko Aaney Mein
Bewafa Ghar Mein Baithey Pooch Rahi Thi
Aur Kitni Dair Hai Dafnaney Mein..


मरने का मज़ा

कोई दिखा के रोये , कोई छुपा के रोये
हमें रुलाने वाले हमें रुला के रोये
मरने का मज़ा तो तब है यारो
जब कातिल भी जनाज़े पर आ कर रोये

Marne Ka Maza

Koi Dikha Ke Roye, Koi Chupa Ke Roye
Hamein Rulaney Baley
Hamain Rula Ke Roye
Marne Ka Maza To Tab Hai Yaaro
Jab Katil Bhi Janaze Par Aa Kar Roye..


एक डोली एक जनाज़ा

एक डोली एक जनाज़ा टकरा गया
देखने वाले भी हैरान थे
ऊपर से आवाज़ आयी यह कैसी विदाई है
मेहबूब की डोली को विदा करने यार की मयत आयी है

EK DOLI EK JANAZA

EK DOLI EK JANAZA
EK DOLI EK JANAZA takra gaya
Dekhne wale bhi hairan the
uper se awaz aayi ye kisi vedai hai
mehoob ki DOLI ko vida karne yaar ki mayat Aayi hai

For Daily Updates Follow Us On Facebook