shayarisms4lovers mar18 215 - जिंदगी की रंग-ओ-बू – Shayari of Life

जिंदगी की रंग-ओ-बू – Shayari of Life

Shayari Zindagi Shayari

मंजूर कब थी हमको वतन से दूरियां

आईना-ऐ-ख़ुलूस-ऐ-वफ़ा चूर हो गए
जितने चिराग-ऐ-नूर थे बे नूर हो गए
मालूम यह हुआ की वो रास्ते का साथ था
मंज़िल करीब आई और हम दूर हो गए
मंजूर कब थी हमको वतन से यह दूरियां
हालात की जफ़ाओं से मजबूर हो गए
कुछ आ गयी हमे एहले-ऐ-वफ़ा ऐ दोस्तों
कुछ वो भी अपने हुस्न पे मगरूर हो गए
चरागों की ऐसी इनायत हुई हफ़ीज़
के जो ज़ख़्म भर चले थे वो नासूर हो गए

Manzoor Kab Thi Humko Watan Se Dooriyan

Aaina-AE-Khuloos-E-Wafa Churr Ho Gaye
Jitne Chirag-AE-Noor The Benoor Ho Gaye
Malum Yeh Hua Ki Wo Raaste Ka Sath Tha
Manzil Kareeb Aayi aur Hum Door Ho Gaye,
Manzoor Kab Thi Humko Watan Se Yeh Dooriyan
Haalaat Ki Jafaoon Se Majboor Ho Gaye
Kuch Aa Gayi Hume Ahl-AE-Wafa Mein Ae dosto
Kuch Wo Bhi Apne Husn Pe Magroor Ho Gaye
Charagon Ki Aisi Inayaat Hui Hafeez
Ke Jo Zakham Bhar Chale the Wo Nasoor Ho Gaye

 


ऐ इंसान जरा संभल के चल

कल रात हम गुनगुनाते निकले दिल में कुछ अरमान थे
एक तरफ थे जंगल , एक तरफ श्मशान थे
रस्ते में एक हड्डी पैरो से टकराई , उस के यह बयान थे
ऐ इंसान जरा संभल के चल , वरना कभी हम भी इंसान थे

Ae insaan jara sambhal ke chal

Kal raat hum gungunate nikle dil mein kuch armaan the
Ek taraf thi jangal the, ek taraf shmshan the
Raste mein ek haddi paon se takrai, us ke ye bian the
Ae insaan jara sambhal ke chal, warna kabhi hum bhi insaan the

 


मुहब्बत के सिवा कुछ भी नहीं

ज़िन्दगी क़ैद-ऐ-मुसलसल के सिवा कुछ भी नहीं
किया था जुर्म-ऐ-वफ़ा इस के सिवा कुछ भी नहीं
जीने की आरज़ू में रोज़ मर रहे हैं
दवा तेरी मोहब्बत के सिवा कुछ भी नहीं
खींचती है अपनी तरफ गुलशन की रंग-ओ-बू
ख्वाइश फूलों मैं खुशबू के सिवा कुछ भी नहीं
भूल जाना एक नय्मत है खुदा की इसलिए
भूलना तेरा हकीकत के सिवा कुछ भी नहीं
थोड़ा है फ़र्क़ बस इंसान और हैवान में
बाकि इस दुनिया में मुहब्बत के सिवा कुछ भी नहीं

Mohabbat ke siwa kuch bhi nahi

Zindagi qaid-ae-musalsal ke siwa kuch bhi nahi
Kiya tha jurm-ae-wafa iss ke siwa kuch bhi nahi
Jeenay ki arzo main roz mar rahey hain
Dawa teri mohabbat ke siwa kuch bhi nahi
Khinchti hai apni taraf gulshan ki rang-o-bu
Khwaish phoolon main khushboo ke siwa kuch bhi nahi
Bhool jana ek naymat hai khuda ki isliye
Bhoolna tera haqeeqat ke siwa kuch bhi nahi
Thoda hai farq bas insan aur hewan main
baki is duniya mein mohabbat ke siwa kuch bhi nahi

 


ज़िन्दगी के फैसले

मुहब्बत ज़िन्दगी के फैसलों से लड़ नहीं सकती
किसी को खोना पड़ता हैं , किसी का होना पड़ता हैं

 

Zindagi Ke Faisle

Muhabbat Zindagi Ke Faislon Say Lad Nahi Sakti
Kisi Ko Khona Padta Hain, Kisi ka Hona Padta Hain