pexels photo 701816 - दर्द के फूल भी खिलते हैं बिखर जाते हैं – जावेद अख्तर

दर्द के फूल भी खिलते हैं बिखर जाते हैं – जावेद अख्तर

Ghazal Shayari Urdu Poetry

दर्द के फूल 

दर्द के फूल भी खिलते हैं बिखर जाते हैं
ज़ख्म कैसे भी हों कुछ रोज़ में भर जाते हैं

उस दरीचे में भी अब कोई नहीं और हम भी
सर झुकाए हुए चुप -चाप गुज़र जाते हैं

रास्ता रोके खडी है यही उलझन कब से
कोई पूछे तो कहें क्या की किधर जाते हैं

नरम आवाज़ भली बातें मोहज़्ज़ब लहजे
पहली बारिश में ही यह रंग उतर जाते हैं

Dard ke Phool  – Javed Akhtar

dard ke phool bhi khilate hain bikhar jaate hain
zaKhm kaise bhii hoon kuchh roz mein bhar jaate hain

us dariiche mein bhii ab koi nahin aur ham bhii
sar jhukaae hue chup-chaap guzar jaate hain

raastaa roke khaadi hai yahii ulajhan kab se
koi puuchhe to kahen kyaa ki kidhar jaate hain

narm aavaaz bhalii baate.n mohazzab lahaje
pahalii baarish mein hii ye rang utar jaate hain…