shayarisms4lovers mar18 199 - बेखुदी बेसबब नहीं ‘ग़ालिब’ – Best Collection of “Ghalib”

बेखुदी बेसबब नहीं ‘ग़ालिब’ – Best Collection of “Ghalib”

Mirza Ghalib Shayari Urdu Shayari

खुदा के वास्ते

खुदा के वास्ते पर्दा न रुख्सार से उठा ज़ालिम
कहीं ऐसा न हो जहाँ भी वही काफिर सनम निकले

मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी – उर्दू शायरी – जहाँ भी वही काफिर सनम निकले

Khuda ke Waaste

Khuda ke waaste parda na kaabe se uthaa zaalim
Kaheen aisa na ho yahan bhi wahi kaafir sanam nikle

Mirza Ghalib Shayari – Urdu shayari – yahan bhi wahi kaafir sanam nikle

वो निकले तो दिल निकले

ज़रा कर जोर सीने पर की तीर -ऐ-पुरसितम् निकले जो
वो निकले तो दिल निकले , जो दिल निकले तो दम निकले

मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी – उर्दू शायरी – वो निकले तो दिल निकले

Wo Nikle To Dil Nikle

Zara kar jor seene par ki teer-e-pursitam niklejo
Wo nikle to dil nikle, jo dil nikle to dam nikle

Mirza Ghalib Shayari – Urdu shayari – Wo nikle to dil nikle

कागज़ का लिबास

सबने पहना था बड़े शौक से कागज़ का लिबास
जिस कदर लोग थे बारिश में नहाने वाले
अदल के तुम न हमे आस दिलाओ
क़त्ल हो जाते हैं , ज़ंज़ीर हिलाने वाले

मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी – उर्दू शायरी – पहना था बड़े शौक से कागज़ का लिबास

Kaagaz ka Libaas

Sabnay pahnaa tha baday shaukk se kaagaz ka libaas
Jis kadarr logg thay baarish me nahaanay walay
Adal ke tum na humay aas dilaaoo
Katl ho jatay hain, zanzeer hilanay walay

Mirza Ghalib Shayari – Urdu shayari – pahnaa tha baday shaukk se kaagaz ka libaas

शब-ओ-रोज़ तमाशा

बाजीचा-ऐ-अतफाल है दुनिया मेरे आगे
होता है शब-ओ-रोज़ तमाशा मेरे आगे

मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी – उर्दू शायरी – शब-ओ-रोज़ तमाशा मेरे आगे

Shab-o-Roz Tamasha

Bazeecha-ae-atfaal hai duniya mere aage
hota hai shab-o-roz tamasha mere aage

Mirza Ghalib Shayari – Urdu shayari – hota hai shab-o-roz tamasha mere aage

बेखुदी बेसबब नहीं ‘ग़ालिब

फिर उसी बेवफा पे मरते हैं
फिर वही ज़िन्दगी हमारी है
बेखुदी बेसबब नहीं ‘ग़ालिब’
कुछ तो है जिस की पर्दादारी है

मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी – उर्दू शायरी – बेखुदी बेसबब नहीं ‘ग़ालिब

Bekhudi Besabab Nahi “Ghalib”

Phir Usi Bewafa Pe Marte Hain
Phir Wahi Zindagi Hamari Hai
Bekhudi Besabab Nahi ‘ghalib’
Kuch To Hai Jis Ki Pardadari Hai

Mirza Ghalib Shayari – Urdu shayari – Bekhudi Besabab Nahi “Ghalib”

जन्नत की हकीकत

हमको मालूम है जन्नत की हकीकत लेकिन
दिल के खुश रखने को “ग़ालिब” यह ख्याल अच्छा है

मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी – उर्दू शायरी – “ग़ालिब” यह ख्याल अच्छा है

Jannat ki Haqeeqat

Humko maaloom hai jannat ki haqeeqat lekin,
dil ke khush rakhne ko, Ghalib yeh khayaal achcha hai

Mirza Ghalib Shayari – Urdu shayari – “Ghalib” yeh khayaal achcha hai

जवाब

क़ासिद के आते -आते खत एक और लिख रखूँ
मैं जानता हूँ जो वो लिखेंगे जवाब में

मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी – उर्दू शायरी – जो वो लिखेंगे जवाब में

Jawaab

Qaasid ke aate-aate khat ek aur likh rakhoon
Main jaanta hoon jo wo likhenge jawaab mein

Mirza Ghalib Shayari – Urdu shayari – jo wo likhenge jawaab mein