shayarisms4lovers may18 72 - यादों का आईना – Unique Collection of Pakistani Urdu Shayari and Poetry

यादों का आईना – Unique Collection of Pakistani Urdu Shayari and Poetry

Shayari

तेरे शोख तासुबर में

ख़ामोश थे लव और मैं गुफ़्तार में गुम थी
पलके न झमकती थी के मैं दीदार में गुम थी
तन मन ने सजाये है तेरे शोख तासुबर में
यादों का आईना था मैं सिंगार में गुम थी

 

Tere Shokh Tasubur Mein

khamosh the luv aur main guftar mein gum thi
palke na Jhamkti thi ke main didar mein ghum thi
tan man ne sajaye hai tere shokh tasubur mein
yadon ka aiina tha main shingar mein gum thi

 


जुदाई के मौसम

जुदाई के मौसम सताने लगे है
वो फिर टूट कर याद आने लगे है
तख़्युल के परवाज़ को कैसे रोकू
वो गोया मेरे घर फिर आने लगे है
निशो रोक लो वो जाने लगे है
मनाने में जिन को ज़माने लगे है

 

Judai ke Mausam

judai ke mausam satane lage hai
wo phir toot kar yaad ane lage hai
takhayul ke parwaz ko kaise roku
wo goya mere ghar phir ane lage hai
nisho rok lo wo jane lage hai
manane main jin ko jamane lage hai

 


ज़िन्दगी-ऐ-ज़िन्दगी

हम तेरी धुन मैं परेशान ज़िन्दगी-ऐ-ज़िन्दगी
और तू हम से गुरेजा ज़िन्दगी-ऐ-ज़िन्दगी
तू कहीं साकी गली में खो गयी है और यहाँ
डंस गया इंसान को इंसान ज़िन्दगी-ऐ-ज़िन्दगी

 

Zindagi-ae-zindagi

hum teri dhun main preshan zindagi-ae-zindagi
Aur tu hum se gujejan zindagi-ae-zindagi
tu kahin saki gali mein khow gayi hai aur yahan
das gaya insaan ko insaan zindagi-ae-zindagi

 


दीवानगी

होश मंदी का सीला है शायद
यह जो दीवानगी अब तारी है
मेह्बे नज़ारा है वो आँख अभी
सो तमाशा भी अभी जारी है

 

Diwangi

hosh mandi ka sila hai shayad
yeah jo diwangi ab tari hai
mehbe nazara hai wo ankh abhi
so tamasha bhi abhi zaari hai

 


ख्याल और किसी का

ऐसा नहीं देखा कहीं हाल किसी और का
पहलू में कोई और ख्याल और किसी का

 

Khyal Aur Kisi Ka

aisa nahi dekha kahin haal kisi aur ka
pehlu mein koi aur khyal aur kisi ka

 


फैसला दिल का

फकत निगाह से होता है फैसला दिल का
न हो निगाह में शोखी तो दिलबरी क्या है

 

Faisla Dil Ka

fakat nigah se hota hai faisla dil ka
na ho nigah main shokhi to dilbari kya hai