लव शायरी | 80 Best Romantic Whatsapp Love Shayari in Hindi

Emotional Shayari Hindi Shayari Ishq Shayari Love Shayari
अच्छा लगता है तेरा नाम मेरे नाम के साथ
जैसे कोई सुबह जुडी हो हसीन शाम के साथ

 

वो पूछते हैं हमसे कि क्या हुआ है हमें
कैसे बताएं उन्हें कि उन्हीं से इश्क हुआ है

 
तुम्हारा तो गुस्सा भी इतना प्यारा लगता है
कि दिल करता है दिन भर तुम्हें ही तंग करते रहें

 
किसी से प्यार करो
और तजुर्बा कर लो
ये रोग ऐसा है
जिसमें दवा नहीं लगती

 
नशा था उनके प्यार का
जिसमें हम खो गए
उन्हें पता भी नहीं चला
कि कब हम उनके हो गए

 छुपाने लगा हूँ आजकल
कुछ राज अपने आप से
सुना है कुछ लोग मुझको
मुझसे ज्यादा जानने लगे हैं

 

थोड़ा मैं, थोड़ी तुम
और थोड़ी सी मुहब्बत
बस इतना काफी है
जीने के लिए

 
इजहार ऐ मुहब्बत पे
अजब हाल है उनका
आखें तो रजामंद हैं
पर लब सोच रहे हैं

 
वो जो लाखों में एक होता है ना
मेरे लिए वो अनमोल शख्स हो तुम

 
तेरे रंग में ऐसे
रंगीन हो गए हैं हम
कि तेरे बिना जिंदगी के
रंग फीके लगने लगे

 
इक झलक जो मुझे
आज तेरी मिल गयी
फिर से आज
जीने की वजह मिल गयी

 
नशा था उनके प्यार का
जिसमें हम खो गए
उन्हें पता भी नहीं चला
कि कब हम उनके हो गए

 
ख्वाहिश ए जिंदगी बस इतनी सी है कि
साथ तुम्हारा हो और जिंदगी कभी खत्म ना हो

 
कुछ रिश्तों को कभी भी नाम ना देना
इन्हें चलने दो ऐसे ही, इल्जाम ना देना
ऐसे ही रहने दो तुम, तिश्रीगी हर लफ्ज में
के अल्फाजों को मेरे अंजाम ना देना

 
मेरी मुहब्बत की हद ना तय कर पाओगे तुम
तुम्हें सांसों से भी ज्यादा मुहब्बत करते हैं हम

 
उदास आपको देखने से पहले ये आँखें ना रहें
खफा हो आप हमसे तो हमारी साँसे ना रहें
अगर भूले से भी गम दिए हों हमने आपको
तो आपकी जिंदगी में हम क्या हमारी यादें भी ना रहें

 
कोई कहता है प्यार नशा बन जाता है
कोई कहता है प्यार सजा बन जाता है
पर प्यार करो अगर सच्चे दिल से
तो प्यार जी जीने की वजह बन जाता है

 
रखा करो नजदीकियां
जिंदगी का कुछ भरोसा नहीं
फिर मत कहना चले भी गए
और बताया भी नहीं

 
ये आखें हैं जो तुम्हारी
किसी गलज की तरह खूबसूरत हैं
कोई पढ़ ले इन्हें अगर इक दफा
तो शायर हो जाये

 
एहसास के दामन में आंसू गिराकर तो देखो
प्यार कितना है आजमा के तो देखो
तुम्हें भूलकर क्या होगी दिल की हालत
किसी आईने पे पत्थर गिरा कर देखो

 
जिंदगी का हर वो रंग दिलकश लगता है
जो आपके प्यार में हम पर चढ़ता है

 
सस्ता ना समझ ये इश्क का सौदा
तेरी हंसी के बदले पूरी जिंदगी दे रहा हूँ

 
फूल खिलते हैं बहारों का समां होता है
ऐसे मौसम में ही तो प्यार जवां होता है
दिल की बातों को होंठों से नहीं कहते
ये फ़साना तो निगाहों से बयां होता है

 
जब खामोश आँखों से बात होती है
ऐसे ही मुहब्बत की शुरुआत होती है
तुम्हारे ही ख्यालों में खोये रहते हैं
पता नहीं कब दिन और कब रात होती है

 
उदास नहीं होना क्यूंकि मैं साथ हूँ
सामने ना सही पर आसपास हूँ
पलकों को बंद कर जब भी दिल में देखोगे
मैं हर पल तुम्हारे साथ हूँ

 
तेरे बाद किसी को
प्यार से ना देखा हमने
हमें इश्क का शौक है
आवारगी का नहीं

 
खुशबू कैसे ना आये मेरी बातों से यारों
मैंने बरसों से एक ही फूल से मुहब्बत की है

 

आखिर क्यों मुझे तुम इतना दर्द देते हो
जब भी मन में आये क्यों रुला देते हो
निगाहें बेरुखी हैं और तीखे हैं लफ्ज
ये कैसी मुहब्बत है जो तुम मुझसे करती हो

Leave a Reply