‘स्वच्छता ही सेवा आंदोलन’ | Swachhata Hi Seva Movement

Public Post

Swachhata Hi Seva Movement

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के स्वच्छता अभियान ने जहां देश में नई क्रांति ला दी है वहीं देश के हर कोने में लोग आज साफ-सफाई के प्रति जागरूक भी हुए हैं। स्वच्छता अभियान से मिली सफलता के बाद प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी  2 अक्टूबर को महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती के मौके पर  स्वच्छता ही सेवा आंदोलन‘ (Swachhata Hi Seva Movement)  के माध्यम से देश के राष्टपिता महात्मा गांधी को सच्ची श्रद्दांजली देंगे।

‘स्वच्छता ही सेवा आंदोलन’ – Swachhata Hi Seva Movement

पीएम मोदी ने 15 सितंबर से स्वच्छता ही सेवा आंदोलन‘ – Swachhata Hi Seva Movement की शुरुआत करने की घोषणा की है। यह अभियान 15 सितंबर से 2 अक्टूबर तक गांधी जयंती तक चलेगा।

आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 4 साल पहले गांधी जयंती पर ही स्वच्छता अभियान की शुरुआत की थी और इन 4 सालों में सफाई के प्रति लोग काफी हद तक जागरूक हुए हैं मानो कि स्वच्छता अभियान के माध्यम से प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी ने सफाई के लिए लोगों के मन में एक नई चेतना का विकास किया है।

जिसके तहत हर क्षेत्र के लोगों ने सफाई मिशन में अपना भरपूर सहयोग भी दिया है। दिग्गज नेता, राजनैतिक दलों के कार्यकर्ता, शैक्षणिक संस्थान, समाज सेवा संस्थान समेत, फिल्म स्टार, बॉलीवुड सभी ने मोदी के स्वच्छ भारत के सपने को पूरा करने में अहम भूमिका निभाई है। वहीं इसके लिए प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी ने सभी लोगों का धन्यवाद किया और उनकी जमकर प्रशंसा भी की।

प्रधानमंत्री ने कहा कि बापू का ही आशीर्वाद है कि बीते 4 सालों में सभी भारतवासी स्वच्छ क्रांति के दूत बन चुके हैं. देश के हर कोने में समाज के हर वर्ग के लोगों ने स्वच्छ भारत के उनके सपने को पूरे करने के लिए जो भी कर सकते हैं वह सब किया.

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपने एक वीडियो के माध्यम से भी लोगों से अपील की है कि सभी लोग ‘स्वच्छता ही सेवा’ आंदोलन का हिस्सा बने साथ ही उन्होनें ‘स्वच्छ भारत’ बनाने की कोशिशों को मजबूत करने की भी अपील की है।

यही नहीं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अपने टिव्टर अकाउंट में ‘स्वच्छता ही सेवा आंदोलन’ की शुरुआत करने की बात कही थी उन्होंने कहा, ‘मैं उन लोगों के साथ बातचीत करना चाहता हूं जिन्होंने स्वच्छ भारत मिशन को मजबूत करने के लिए ग्राउन्ड लेवल पर मेहनत से काम किया है’.

आपको बता दें कि स्वच्छता भारत अभियान के तहत देश में करीब 8.5 करोड़ शौचालय बनकर तैयार हो गए हैं इसके साथ ही अब करीब 90 फीसदी भारतीय शौचालय की सुविधा का लाभ ले पा रहे हैं.

वहीं जब मोदी ने सफाई अभियान की शुरुआत की थी जब सफाई को लेकर लोग इतने जागरूक नहीं थे। कई घरों में गंदगी की वजह से घातक बीमारियां दस्तक दे रही थी, जिसकी मुख्य वजह खुले में शौच थी सिर्फ 40 फीसदी लोगों के पास ही शौचालय की सुविधा उपलब्ध थी।

जिसको देखते हुए मोदी ने देश को खुले में शौच मुक्त बनाने का संकल्प लिया था। और आज आम जन के सहयोग से भारत के सवा 4 लाख से भी ज्यादा गांव, 430 जिले और 2800 नगर, शहर और कस्बे और 19 राज्य एवं केंद्र शासित प्रदेशों में शौच की सुविधा मौजूद हैं।

इसमें कोई दोराय नहीं है कि खुले में शौच मुक्त भारत से न सिर्फ कई गंभीर बीमारियों का खतरा कम हुआ है बल्कि कई मासूमों की जान भी बची है। वहीं अगर विश्व स्वस्थ्य संगठन की माने तो शौचायलों के इस्तेमाल से करीब 3 लाख मासूमों की जिंदगी बची है। जो कि अपने आप में बड़ी सफलता है।

जिसके बाद अब प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने 15 सिंतबर से बड़े स्तर पर स्वच्छता ही सेवा कार्यक्रम आयोजन करने का फैसला लिया है।

एक तरफ जहां प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने एक वीडियो के जरिए स्वच्छता ही सेवा कार्यक्रम से बड़े स्तर पर लोगों से जु़ड़ने का आग्रह किया है वहीं दूसरी तरफ बॉलीवुड के दिग्गज स्टार अमिताभ बच्चन ने भी वीडियो के तहत लोगों से मोदी के इस अभियान से जुड़ने की अपील की है।

आपको बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ‘स्वच्छता ही सेवा’ कार्यक्रम को बड़े स्तर पर बॉलीवुड सपोर्ट मिला है। इस अभियान से ऐश्वर्या राय बच्चन, अक्षय कुमार भारत के महान क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर भी जुड़ेंगे और अपना सहयोग देंगे।

स्वच्छता ही सेवा आंदोलनका मुख्य लक्ष्य The main goal of Swachhata Hi Seva Movement

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के इस मुहिम का लक्ष्य स्वच्छ भारत अभियान के तहत निर्धारित किए लक्ष्य को हासिल करना है आपको बता दें कि प्रधानमंत्री मोदी ने स्वच्छ भारत अभियान के तहत भारत में ज्यादा से ज्यादा शौचालयों का निर्माण करवाना, ग्रामीण इलाकों में स्वच्छता कार्यक्रमों को बढ़ावा देना, सड़कों की सफाई करवाना रखा था जिसका मुख्य मकसद  स्वच्छ भारत का निर्माण करना था।

स्वच्छ भारत अभियान – Swachh Bharat mission के तहत मोदी सरकार का उद्देश्य साल 2019 तक पूरे भारत को खुले में शौच मुक्त के लक्ष्य को पूरा करना रखा गया था। इसी उद्देश्य को पूरा करने के लिए और महात्मा गांधी को सच्ची श्रद्धांली देने के लिए मोदी ने स्वच्छता ही सेवा आंदोलनकी घोषणा की है जिसके तहत विशाल स्तर पर सफाई अभियान चलाया जाएगा और महात्मा गांधी के स्वच्छ भारत के सपने को पूरा किया जाएगा।

यही नहीं प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के इस अभियान से जहां बड़े स्तर पर लोग सफाई के प्रति जागरूक होंगे। वहीं एक स्वच्छ और स्वस्थ भारत का निर्माण में भी मद्द मिलेगी क्योंकि स्वच्छ भारत मिशन के तहत देश के ग्रामीण इलाकों के लोगों के रहन-सहन में भी सुधार करने की कोशिश की गई है जिसका असर आस-पास के पर्यावरण पर भी पड़ा है और ज्यादा से ज्यादा लोग सफाई अभियान से जुड़े हैं।

सफाई अभियान से जगह-जगह भरी गंदगी से छुटकारा मिलने में मद्द मिली और घातक बीमारियों का खतरा भी कम हुआ।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के स्वच्छ भारत अभियान का लक्ष्य 2019 तक भारत के ग्रामीण इलाकों में करीब 1.96 लाख करोड़ रुपये की लागत से 1.2 करोड़ शौचालयों का निर्माण करना था और खुले में शौच मुक्त भारत को हासिल करने का लक्ष्य रखा गया था। जिसको अब मोदी के ‘स्वच्छ ही सेवा आंदोलन’ के तहत पूरा किया जाएगा।

महात्मा गांधी की 150 वीं जयंती के मौके पर जहां स्वच्छ भारत अभियान के चार साल पूरे होने का जश्न मनाया जाएगा साथ ही महात्मा गांधी के क्लीन इंडिया के सपने को पूरा किया जाएगा इसलिए मोदी ने स्वच्छ भारत अभियान के लक्ष्य को जल्द हासिल करने के लिए गांधी जयंती पर सच्ची श्रद्दांजली देने के लिए स्वच्छ ही सेवा आंदोलन करने की घोषणा की है जिसके तहत ज्यादा से ज्यादा लोगों को जोड़ा जाएगा।

मोदी की स्वच्छ भारत के निर्माण की यह पहल वाकई सराहनीय है। अगर मोदी की ये मुहिम रंग लाती है तो गंदगी से फैलने वाली न जाने कितनी बीमारियों से छुटकारा मिलेगा और गंदगी की वजह से हर साल होने वाली मौत के आंकड़ों में भी कमी आएगी।

लेकिन प्रधानमंत्री की इस मुहिम को बिना जनसहयोग के सफल नहीं बनाया जा सकता है इसलिए अगर वाकई आप लोग स्वच्छ और स्वस्थ भारत का निर्माण करना चाहते हैं तो मोदी के 15 सिंतबर से चलाए जाने वाले ‘स्वच्छता ही सेवा आंदोलन‘ – Swachhata Hi Seva Movement का हिस्सा जरूर बने और स्वच्छ भारत के निर्माण में अपना सहयोग करें।