हर धड़कन में एक राज़ होता है – धड़कन उर्दू शायरी

Aankhon ki Shayari aarazuu-ae-sahil Aitbar Dhadkan Emotional Shayari Hindi Shayari

बहुत देर कर दी तुमने मेरी धड़कन महसूस करने में
वो दिल नीलाम हो गया जिस को कभी हसरत तुम्हारे दीदार की थी

हर धड़कन में एक राज़ होता है

हर धड़कन में एक राज़ होता है
हर बात कहने का एक अंदाज़ होता है
जब तक ठोकर न लगे इश्क़ में
हर किसी को अपने महबूब पे नाज़ होता है

Har Dhadkan Mein Ek Raaz Hota Hai

Har Dhadkan mein ek raaz hota hai
Har baat kehne ka ek andaaz hota hai
Jab tak thokar na lage ishq mein
Har kisiko apne mehboob pe naaz hota hai


धड़कन ज़रा थम जा

शोर न कर धड़कन ज़रा थम जा कुछ पल के लिए
बड़ी मुश्किल से मेरी आँखों में उसका खवाब आया है

Dhadkan Zara Tham Ja

Shor Na Kar Dhadkan Zara Tham Ja Kuch Pal Ke Liye
Badi Muskil Se Meri Aankhon Mein Uska Khawab Aaya hai


दिल की धड़कन को धड़का गया कोई

दिल की धड़कन को धड़का गया कोई
मेरे ख्वाबों को जगा गया कोई
हम तो अनजाने रास्तो पे यूं ही चल रहे थे
अचानक ही प्यार का मतलव भी सीखा गया कोई

Dil ki Dhadkan ko Dhadka Gaya Koi

Dil ki dhadkan ko dhadka gaya koi
Mere khawaboon ko jgaa gaya koi
Hum to anjane rasto pe yoon hi chal rahe the
Achanak hi pyar ka matlab sikha gaya koi


दिल का धड़कना माँगोगे

मेरी धड़कनो से दिल का धड़कना माँगोगे
एक दिन तुम मुझसे मेरा प्यार उधर माँगोगे
मैं वो फूल हूँ जो तेरे चमन से न खिलेगा
एक दिन तुम अपनी वीरान ज़िन्दगी के लिए बहार माँगोगे

Dil Ka Dhadknaa Mangoge

Meri Dhadkano Se Dil Ka Dhadknaa Mangoge
Ek Din Tum Mujhse Mera Pyaar Udhar Mangoge
Main Wo Phool Hoon Jo Tere Chaman Se Na khilega
Ek din tum Apni Viran Zindagi Ke Liye Bhaar Mangoge


मेरी साँसे उसकी धड़कन में बस्ती है

आज भी मेरे दिल में वो रहती है
आज भी मेरे सपनो में वो दिखती  है
क्या हुआ अब हम दूर है एक दुसरे से पर
आज भी मेरी साँसे उसकी धड़कन में बस्ती है

Meri Saanse Uski Dhadkan Mein Basti Hai

Aaj Bhi Mere Dil Mein Wo rehti Hai
Aaj Bhi Mere Sapno Me Wo Dikhti Hai
Kya Hua Ab Hum Door Hai Ek Dosre Se Par
Aaj Bhi Meri Saanse Uski Dhadkan mein basti Hai


धड़कन है मेरे दिल की

धड़कन है मेरे दिल की तू आँखों का नूर है
अफ़सोस नहीं कोई , अगर तू मुझसे दूर है
तू मेरी साँसों में बस गया है इस कदर
कभी महसूस नहीं होता के तू मुझसे दूर है

Dhadkan Hai Mere Dil Ki

Dhadkan Hai Mere Dil Ki Tu Aankho Ka Noor Hai
Afsos Nahi Koi, Agar Tu Mujhse Dur Hai
Tu Meri Sanso Mein Bas Geya Hai Is Kadar
Kbhi Mehsoos Nahi Hota Ke Tu Mujhse Dur Hai


दिल की धड़कन

दिल की धड़कन है , ख्यालों में मेरे रहता है
कौन है वो , जो सवालों में मेरे रहता है

जिस का देखा न चेहरा उस से वफ़ा करता हूँ
दिल के आईने में , मैं उस से मिला करता हूँ

मैं नहीं जानता यह किस की तलब है मुझ को
किस का अरमान इरादों में मेरे रहता है

ख्वाब है वो मेरा , हक़ीक़त बनाऊं कैसे
अपनी हसरत को मैं , तक़दीर बनाऊं कैसे
मुझ को मिलता है सकूँ , उस का तसबुर कर के
वो इशारा जो इशारों में मेरे रहता है

किस की तारीफ में लिखी यह ग़ज़ल क्या जानू
किस को कहता हूँ मोहब्बत का जनून क्या जानू

मैं तो बस एक ही उम्मीद में रहता हूँ सदा
उस को देखूँ जो नज़रों में मेरी रहता है

Dil ki Dhadkan

Dil ki dhadkan hai, khyaalon mein mere rehta hai
Kaun hai wo, jo swaalon mein mere rehta hai

Jis ka dekha na chehra us se wafa karta hoon
Dil ke aaine mein , main us se mila karta hoon

Main nahin jaanta yeh kis ki talab hai mujh ko
Kis ka armaan iraadon mein mere rehta hai

Khwaab hai wo mera, haqiqat banaoon kaise
Apni hasrat ko mein, taqdeer banaoon kaise

Mujh ko milta hai sakoon, us ka tasabur kar ke
Wo ishara jo isharon mein mere rehta hai

Kis ki tareef mein likhi yeh ghazal kya janu
Kis ko kehta hoon mohabbat ka janoon kya janu

Main to bas ek hi umeed mein rehta hoon sadaa
Us ko dekhoon jo nazron mein meri rehta hai

Leave a Reply