shayarisms4lovers mar18 214 - हिंदी और उर्दू शायरी – हुस्न -ऐ -अदा – शायरी

हिंदी और उर्दू शायरी – हुस्न -ऐ -अदा – शायरी

Shayari

सांवली सी सूरत

हुस्न -ऐ-मुजसिम हो या सांवली सी सूरत …!!
इश्क़ अगर रूह से हो तो हर रूप बा-कमाल दिखता है …!!

Saanwali si Surat

Hussn AE Mujasim ho ya Saanwali si Surat…!!
Ishq Agar Rooh say ho to har Roop Ba_ Kamaal Dikhta Hai…!!


हटा कर जुल्फें चेहरे से

हटा कर जुल्फें चेहरे से न छत पर शाम को जाना
कहीं कोई ईद न कर ले अभी रमजान बाकी है ..

Hata Kar Zulfien Chehre Se

Hata Kar Zulfien Chehre Se Na chaat Par Sham Ko Jana
Kahin Koi Eid Na Kar Le Abhi Ramzan Baki Hai…


हुस्न भी लाजवाब है 

तेरी सादगी का हुस्न भी लाजवाब है
मुझे नाज़ है के तू मेरा इंतखाब हाय

Husan Bhi LaaJawab Hai

Teri sadgi ka husan bhi laa jawab hai
Mujhe naaz hai ke tu mera intkhaab hai


हसरत हैं सिर्फ

हसरत हैं सिर्फ तुम्हे पाने की ,
और कोई ख़्वाहिश नहीं इस दीवाने की ,
शिक़वा मुझे तुमसे नहीं खुद से है ,
क्या ज़रूरत थी तुम्हे इतना खूबसूरत बनाने की

Hasrat Hain Sirf

Hasrat hain sirf tumhey paaney ki,
Aur koi khawahish nahi is deewane ki,
Shikwa mujhe tumse nahi khuda se hai,
Kya zarurat thi tumhe itna khubsurat bnane ki..


वो  दुल्हन सी

दुपट्टा क्या रख लिया सर पर
वो  दुल्हन सी नज़र आने लगी
उनकी तो अदा होगी
अपनी जान जाने लगी

Wo Dulhan Si

Dhupatta Kiya Rakh Liya Sar Par
Wo Dulhan si Nazar Aanay Lagi
Unki To Adaa Hogayi
Apni Jaan Jaanay Lagi.