shayarisms4lovers mar18 202 - ग़ज़ल – वो मेरा हमसफ़र हुआ भी तो लम्हा भर

ग़ज़ल – वो मेरा हमसफ़र हुआ भी तो लम्हा भर

Barsaat Shayari Ghazal Hindi Shayari Shayari Urdu Poetry Urdu Shayari Whatsapp Status

हम तो अकेले रहे

हमेशा रहेगा यह आलम कहाँ
यह महफ़िल कहाँ और यह हमदम कहाँ

सदा चोट पर चोट खाता रहा
मुक़द्दर में इस दिल के मरहम कहाँ

कहाँ अब्र कोई कड़ी धुप में
झुलसते बयाबां में शबनम कहाँ

ना मस्त आँखें होंगी ना ज़ुल्फे रसा
हमेशा रहेगा यह मौसम कहाँ

अकेले थे हम तो अकेले रहे
कोई अपना गमख्वार हो , हमदम कहाँ

जहांगीर-ओ-नौशेरवां चल बसे
रहा डर में अद्ल पैहम कहाँ

ना अय्यूबी कोई ना खालिद कोई
गया रखता अपना परचम कहाँ

Hum To Akele Rahe

Hamesha Rahega Yeh Aalam Kahan
Yeh Mahfil Kahan aur Yeh Humdam Kahan

Sada Chot Par Chot Khata Raha
Muqaddar Mein Is Dil Ke Marham Kahan

Kahan Abr Koi Kadi Dhoop Mein
Jhulaste Bayabaan Mein Shabnam Kahan

Naa Mast Aankhein Hongi Naa Zulfe Rasaa
Hamesha Rahega Yeh Mausam Kahan

Akele The Hum To Akele Rahe
Koi Apna Ghamkhwaar , Humdam Kahan

Jahangeer-O-Nausherwaan Chal Base
Rahaa Daar Mein Adl Paiham Kahan

Naa Ayyubi Koi Naa Khalid Koi
Gaya Rekhta Apna Parcham Kahan..


दिखाई दिए यूँ

दिखाई दिए यूँ की बेखुद किया
हमें आप से भी जुदा कर चले

जबीं सजदा करते ही करते गए
हक़-ऐ-बंदगी हम अदा कर चले

गई उम्र दर बंद-ऐ-फ़िक्र-ऐ-ग़ज़ल
वो इस फन को ऐसा बढ़ा कर चले

कहें क्या जो पूछे कोई हम से “मीर”
जहाँ में तुम आए थे , क्या कर चले

Dikhai Diye Yun

Dikhai diye yun ki bekhud kiya
Hamain ap se bhi juda kar chale

Jabin sajda karte hi karte gai
Haq-ae-bandagi ham ada kar chale

Gai umar dar band-ae-fikar-ae-gazal
So is faan ko aisas bada kar chale

Kahen kya jo puche koi ham se “Meer”
Jahan main tum aaye the, kya kar chale..


वफाओं की मोहरें

न सोचा न समझा न सीखा न जाना
मुझे आ गया खुद ब खुद दिल लगाना
ज़रा देख कर अपना जलवा दिखाना
सिमट कर यहीं आ न जाए ज़माना
ज़ुबान पर लगी हैं वफाओं की मोहरें
ख़ामोशी मेरी कह रही है फ़साना
गुलों तक बात आई तो आसान है लेकिन
है दुष्वार काँटों से दामन बचाना
करो लाख तुम मातम -ऐ -नौजवानी
पर ‘मीर’ अब नहीं आएगा वो ज़माना

Wafaon ki Mohrain

Na socha na samajha na sikha na jana
mujhe aa gaya khudbakhud dil lagana
zara dekh kar apna jalwa dikhana
simat kar yahin aa na jaye zamana
zuban par lagi hain wafaon ki mohrain
khamoshi meri keh rahi hai fasana
gulon tak lagayi to aasan hai lekin
hai dushwar kanton se daman bachana
karo lakh tum matam-ae-naujavani
par ‘meer’ ab nahi aayega wo zamana..


वो मेरा हमसफ़र

वो मेरा हमसफ़र हुआ भी तो लम्हा भर
साथ उस ने दिया भी तो लम्हा भर

उम्र कट गई तारीखों में मेरी
चाँद मुझ को मिला भी तो लम्हा भर

मेँने कब मांगी थी वफ़ाएं उस की
उस ने की वफ़ा भी तो बस लम्हा भर

जिस पे ईमान था मुझ को ग़ज़ब का
वो साथ चला भी तो बस लम्हा भर

जिस की आरज़ू थी मुद्दत से दिल में
नयाब वो शख्स रहा भी तो लम्हा भर

Wo Mera Humsafar

Wo mera humsafar hua bhi tu lamha bhar
Sath us ne dia bhi tu lamha bhar

Umar kat gaye tarekion mein meri
Chand mujh ko mila bhi tu lamha bhar

Meinne kab mangi the wafaein us ki
Us ne ki wafa bhi tu bas lamha bhar

Jis pe emaan tha mujh ko ghazab ka
Wo sath chala bhi tu bas lamha bhar

Jis ki arzoo thi mudat se dil mein
Nayab wo shaks rha bhi tu lamha bhar