shayarisms4lovers mar18 184 - ज़ख़्म-ऐ -जिगर तुमको दिखाएगें किसी रोज़ – परवीन शाकिर उर्दू शायरी

ज़ख़्म-ऐ -जिगर तुमको दिखाएगें किसी रोज़ – परवीन शाकिर उर्दू शायरी

Barsaat Shayari Hindi Shayari Shayari

इश्क़ में सच्चा चाँद

पूरा दुःख और आधा चाँद हिजर की शब और ऐसा चाँद
इतने घने बादल के पीछे कितना तनहा होगा चाँद
मेरी करवट पर जाग उठे नींद का कितना कच्चा चाँद
सेहरा सेहरा भटक रहा है अपने इश्क़ में सच्चा चाँद

Ishq mein Sachcha chaand

Pura dukh aur Aadha Chaand Hijr ki shab aur Aisa Chaand
Itne ghane Badal ke piche Kitna tanha Hoga chaand
Meri karavat par Jag uthe Neend ka kitna Kachcha chaand
Sehra sehra Bhatak raha hai Apne ishq mein Sachcha chaand


मिन्नत -ऐ -सैयाद

बहुत रोया वो हम को याद कर के
हमारी ज़िन्दगी बर्बाद कर के

पलट कर फिर यहीं आ जायेंगे हम
वो देखे तो हमें आज़ाद करके

रिहाई की कोई सूरत नहीं है
मगर हाँ मिन्नत -ऐ -सैयाद कर के

बदन मेरा छुआ था उसने लेकिन
गया है रूह को आबाद कर के

हर आमिर तोल देना चाहता है
मुकर्रर-ऐ-ज़ुल्म की मीआद कर के

Minnat-ae-Saiyaad

Bahut roya wo hum ko yaad kar ke
Hamaari zindagi barbaad kar ke

Palat kar phir yahiN aajayenge hum
Wo dekhe to hamain aazaad karke

Rihaayi ki koi soorat nahi hai
Magar haaN minnat-ae-saiyaad kar ke

Badan mera chhuaa tha usne lekin
Gaya hai rooh ko aabaad kar ke

Har amir tool dena chaahta hai
Muqarrar-ae-zulm ki meeaad kar ke..


ज़ख़्म-ऐ -जिगर

उड़ने दो इन परिंदों को आज़ाद फ़िज़ाओं में
तुम्हारे होंगे अगर तो लौट आएंगे किसी रोज़
अपने सितम को देख लेना खुद ही साक़ी तुम
ज़ख़्म-ऐ -जिगर तुमको दिखाएगें किसी रोज़

Zakham-AE-Jigar

Udne do In Parindon Ko Azaad Fizaon Mein
Tumhare Honge Agar To Lout Aayein Gay Kisi Roz
Apne Sitam Ko Dekh Lena Khud Hi Saqi Tum
Zakham-AE-Jigar Tumko Dekhein Gaye Kisi Roz…