shayarisms4lovers June18 224 - 51+ गुनाह शायरी 2 लाइन - Gunaah Status

51+ गुनाह शायरी 2 लाइन – Gunaah Status

2 Lines Shayari Hindi Shayari Shayari SMS Status Whatsapp Status
दोस्तों फेसबुक शायरी के इस Post की Topic  “Gunaah Shayari”  हैं. इसमें आप पढ़ सकते हैं गुनाह शायरी 2 लाइन, गुनाह शायरी in Urdu, Gunaah Status, गुनाह शायरी 4 लाइन, पर बनी बेजोड़ शानदार गुनाह शेर-ओ-शायरी को, मित्रो आशा करता हूँ कि यह पोस्ट आप सभी शायरी के चाहने वालो को बेहद पसंद आएगी.-

 दोस्तों अब पढ़ते हैं  गुनाह, गुनाहो, गुनाहगार,  पर बनी बेहतरीन शायरी के इस कलेक्शन को  और शेयर करते हैं अपने दोस्तों को. 

1
कर दे मेरे गुनाहों को माफ़ ए ख़ुदा
सुना है सोने के बाद, कुछ लोगों की सुबह नही होती

Kar De Mere Ghunahon Ko Maf Ae Khuda,
Suna Hai Sone Ke Bad Kuch Logon Ki Subha Nahi Hoti

अगर तेरे बिना जीना आसान होता तो
कसम मुहब्बत की तुझे याद करना भी गुनाह समझते
खुदगर्जो की बस्ती में एहसान भी गुनाह है
जिसे तैरना सिखाओ वही डुबाने को तैयार रहता है
मुद्दते हो गयी, गुनाह करते करते
शर्म आती है अब,  दुआ करते हुए
तेरी रहमत भी मोहताज़ है मेरे गुनाहों की
मेरे बिना तू भी  खुदा हो नहीं सकता
कोई समझे तो एक बात कहूँ 
इश्क़ तौफ़ीक़ है गुनाह नहीं 
फ़िराक़ गोरखपुरी

Koi Samjhe To Ek Baat Kahu
Ishk Taufiq Hai Gunaah Nahi
बहाना कोई ना बनाओ तुम मुझसे खफा होने का
 तुम्हें चाहने के अलावा कोई गुनाह नहीं है मेरा
क़ैदी हूँ पर मुल्जिम नहीं 
मुझ पर मुहब्बत का इल्जाम है

वफ़ा के वास्ते मर मिटने चला था 
बस मेरा इतना सा गुनाह है
वो रख ले कहीं अपने पास हमें कैद करके
काश कि हमसे कोई ऐसा गुनाह हो जाये

Wo Rakh Le Kahi Apane Paas Hame Kaid Karake,
Kash Ki Hamase Koi Yesa Gunaah Ho Jaye Koi..
  गुनाह शेर-ओ-शायरी  

हर कोई रखता है ख़बर ग़ैरों के गुनाहों की
अजब फितरत हैं कोई आइना नहीं रखता

Har Koi Rakhta hai Khabar Gairo ke Gunaho ki
Ajab Fitrat hai koi Aaina Nahi Rakhta..

____________________________________
हमारे कुछ गुनाहों की सज़ा  भी साथ चलती है
हम अब तन्हा नहीं चलते  दवा भी साथ चलती है
मुनव्वर राना   
सजा मिली उन गुनाहों की जो मेरे हरगिज न थे
मैं वो आँसू भी रोया जो खान साहब के नसीब में न थे
मन करता है, कर लूं मैं कबूल गुनाह अपना
पर सजा जो मुझे, उनके दिल में उम्र-कैद की मिले
तेरी ख्वाहिश कर ली तो कौन सा गुनाह किया
लोग तो इबादत में पूरी क़ायनात मांगते हैं खुदा से
  गुनाह शायरी 2 लाइन  
चल सनम एक। गुनाह करते हैं
तुम बाँहों में रहो हम मोहब्बत बेपनाह करते हैं
अगर मोहब्बत गुनाह है, तो गुनाहगार है खुदा
क्यूँ बनाया ये #दिल, किसी की रूह मै उतर जाने के लिए?
कोई और गुनाह करवा दे मुझ से मेरे खुदा
मोहब्बत करना अब मेरे बस की बात नहीं
मुहब्बत करना गुनाह नहीं हैं
मुहब्बत में बेहक जाना गुनाह हैं
खता मत गिन इश्क़ में , किसने क्या गुनाह किया
इश्क़ इक नशा था , तूने भी किया और मैंने भी किया
  Gunaah Status  

कोई किसी को पसन्द करे तो कोई गुनाह नहीं
इश्क और पसन्द दिल के दो अलग अलग एहसास है 
गुनाह मेरे बड़े हैं, हैं तेरा दिल भी बड़ा
यकीन हैं माफ करेगा तभी हूँ दर पे खड़ा
गुनाह आँखो ने किया
गिरफ्तार दिल हो गया है
गुनाहे इश्क में इक वो दौर भी बहुत खास रहा
जब मेरा ना होकर भी तू मेरे बहुत पास रहा
रोज गुनाह करता हूँ आप छुपा लेते हो अपनी रहमत से
मैं मजबूर हूं अपनी  आदत से आप मशहूर हो अपनी रहमत से
गुनाह किये होते, तो मांफ भी हो जाते साहिब
ख़ता तो मुझसे ये हुई,कि उनसे इश्क़ हो गया
ये मोहब्बत  भी तो किसी गुनाह से कम नही
हर आशिक यहाँ सज़ा-याफ़्ता है
तलब मौत की करना गुनाह है ज़माने में यारों
मरने का शौक है तो मुहब्बत क्यों नहीं करते
 दुश्मनी हो जाती है मुफ्त में सैंकड़ों से
 इंसान का बेहतरीन होना ही गुनाह है
ऐसा नहीं है कि हमें बातें बुरी नहीं लगती
एक बस तेरे लिये सारे गुनाह माफ़ है
  गुनाह शेर-ओ-शायरी  

गुनाह यार ए मोहब्बत हुआ है मुझसे 
गुजारिश है कोई मेरे दिल को फांसी दे दो
या अल्लाह हम सब पर अपनी रहमत कि बारिश कर दे
 हमारे गुनाहों को माफ कर दे

Ya Allah Ham Sab Par 
Apanai Rahamat Ki Barish Kar De,
Hamare Gunahon Ki Mafi Kar De.
रख ले 2-4 बोतल कफ़न में,
साथ बैठ कर पिया करेंगे

जब माँगे गा हिसाब गुनाहों का,
एक पेग उसे भी दे दिया करेंगे
____________________________________
इश्क़  का व्रत तेरे   नाम पे
 रख लिया  हमने

अब  किसी और को  सोचना भी 
गुनाह लगता  है
न जिद है न हमे कोई गुरूर है 
बस तुम्हे पाने का 
हमे सुरूर है

इश्क गुनाह है तो गलती की
अब सजा जो भी हो 
हमे मंजूर है

Naa Zid Hai Na Hame Koi Gurur Hai,
Bas Tumhe Paane Ka 
Hame Surur Hai.

Ishq Gunaah Hai Galati Ki,
Ab Saja Jo Bhi Ho 
Hame Manjur Hai
ता-मत-गिन इश्क़ में
किसने क्या गुनाह किया

इश्क़ इक नशा था जो 
तूने भी किया और मैंने भी किया

Khata Mat Gin Ishk Me
Kisane Kya Gunaah Kiya

Ishk Ek Nasha Tha Jo
Tune Bhi Kiya Maine Bhi Kiya
इश्क़ इनायत है  खुदा की
तो मैं गुनाहगार कैसे?

Ishk Inayat Hai Khuda Ki
To Mai Gunahgaar Kaise?
मोहब्बत नेक-ओ-बद को सोचने दे
ग़ैर-मुमकिन है 

बढ़ी जब बेख़ुदी फिर कौन डरता है
गुनाहों से 
आरज़ू लखनवी

Mohabbat Neko-O-Bad Ko Sochane De
Gair-Mumkin Hai

Badhi Jab Bekhudi Fir Kaun Darata Hai
Gunaaho Se
  गुनाह शायरी 2 लाइन  

कोई अच्छा सा बहाना 
बनाना तुम मुझ से खफ़ा होने का

क्यूँकि तुझे चाहने के सिवा, 
मैने अब तक कोई गुनाह नहीं किया है
कैदी होना तकदीर कि बात है,
कोइ कैदी बनने गुनाह-ए-इश्क किये जा रहा है

तो कोइ दिल का कैदखाना 
खोलने को तैयार नही
  गुनाह शायरी  

छोड़ दें कोशिशें इंसानों को पहचानने की,
यहाँ जरूरतों के हिसाब से बदलते नकाब हैं

अपने गुनाहों पर सौ पर्दे डालकर,
हर शख्स कहता है  जमाना बड़ा खराब हैं
न जिद है न हमे कोई गुरूर है 
बस तुम्हे पाने का हमे सुरूर है

इश्क गुनाह है तो गलती की
अब सजा जो भी हो  हमे मंजूर है

Naa Zid Hai Na Hame Koi Gurur Hai,
Bas Tumhe Paane Ka Hame Surur Hai.

Ishq Gunaah Hai Galati Ki,
Ab Saja Jo Bhi Ho  Hame Manjur Hai.
प्यारे, मैं उन गुनाहो के सदके,
जो तेरा दीदार करा दे

हर सजाए सर आखो पर मेरी,
जो मुझे तुमसे मिला दे
खुद की मोहब्बत यहां फ़ना कौन करेगा
सभी नेक बन गए तो गुनाह कौन करेगा

ऐ खुदा, सनम बेवफा को सलामत रखना
वरना रोज मेरी मौत की दुआ कौन करेगा 
__________________________

आज भी याद हैं मुझे अपने वो तीन गुनाह सनम,
पहला मोहब्बत कर ली
दूसरा तुमसे कर ली,
तीसरा बेपनाह कर ली
  Gunaah Status  

गुनाह ही समझते हैं लोग मोहब्बत को
चाहे रब से हो य़ा यार से
आशिक हूँ तेरा भोले अब तेरी रजा बता दे
गुनाह हैं गर ये तो सजा बता दे
कोई गुनाह नहीं है इश्क़ जो हम छुपांएगे
हमने चाहा है तुमको हम तो सबको बताएँ
किसी के दिल में बसना कोई गुनाह तो नहीं
गुनाह है ये जमाने के नजर में तो, क्या जमाने वाले कोई खुदा तो नहीं
इश्क़ अगर गुनाह है तो गुनाहगार है खुदा
जिसने बनाया दिल किसी पर आने के लिए
  गुनाह शायरी  

गुनाह करके सजा से डरते हैं, 
ज़हर पी के दवा से डरते हैं

दुश्मनों के सितम का खौफ नहीं हमें, 
हम तो दोस्तों के खफा होने से डरते है
हर एक नज़र को गुनाह का हक़ है,
हर नूर को एक आह का हक़ है
हम भी एक दिल लेकर आये हे इस दुनिया में,
हमें भी ये गुनाह करने का हक़ है
=============