shayarisms4lovers mar18 108 - Bahadur Shah Zafar - Lagta nahii hai dil mera

Bahadur Shah Zafar – Lagta nahii hai dil mera

Bahadur Shah Zafar Ghazal Hindi Shayari Love Shayari Poetry Shayari Urdu Poetry Urdu Shayari

Lagta nahii hai dil mera ujrre dayaar mein,
Kis ki bannii hai aalam e na-paayedaar mein,
Keh do in hasraton se kahin aur ja basen,
Itni jagah kahan hai dil-e-daaghdaar main,
Umr-e-daraaz maang ke laaye the chaar din,
Do aarzuu mei katt gaye do intizaar main,
Kaanton ko mat nikaal chaman se o baaghbaan,
Yeh bhi gulon ke saath pale hain bahaar main,
Bulbul se koi shikwa na sayaad se gila,
Qismat mein qaid likhi thi fasl-e-bahaar main,
Kitna hai bdnaseeb “zafar” dafn ke liye,
Do gaz zameen bhi na mili kuu-e-yaar main…

लगता नही है दिल मेरा उजड़े दयार में,
किस की बननी है आलम ए ना-पायेदार में,
कह दो इन हसरतों से कहीं और जा बसें,
इतनी जगह कहाँ है दिल-ए-दाग़दार मैं,
उम्र-ए-दराज़ मांग के लाये थे चार दिन,
दो आरज़ू में कट गए दो इंतज़ार मैं,
काँटों को मत निकाल चमन से ओ बाग़बान,
यह भी गुलों के साथ पाले हैं बाहर मैं,
बुलबुल से कोई शिकवा ना सैयाद से गिला,
किस्मत में क़ैद लिखी थी फसल-ए-बाहर मैं,
कितना है बदनसीब “ज़फर” दफन के लिए,
दो गज़ ज़मीन भी ना मिली कू-ए-यार में…