Bahadur Shah Zafar – Lagta nahii hai dil mera

Ghazal Hindi Shayari Love Shayari Poetry Shayari Urdu Poetry

Lagta nahii hai dil mera ujrre dayaar mein,
Kis ki bannii hai aalam e na-paayedaar mein,
Keh do in hasraton se kahin aur ja basen,
Itni jagah kahan hai dil-e-daaghdaar main,
Umr-e-daraaz maang ke laaye the chaar din,
Do aarzuu mei katt gaye do intizaar main,
Kaanton ko mat nikaal chaman se o baaghbaan,
Yeh bhi gulon ke saath pale hain bahaar main,
Bulbul se koi shikwa na sayaad se gila,
Qismat mein qaid likhi thi fasl-e-bahaar main,
Kitna hai bdnaseeb “zafar” dafn ke liye,
Do gaz zameen bhi na mili kuu-e-yaar main…

लगता नही है दिल मेरा उजड़े दयार में,
किस की बननी है आलम ए ना-पायेदार में,
कह दो इन हसरतों से कहीं और जा बसें,
इतनी जगह कहाँ है दिल-ए-दाग़दार मैं,
उम्र-ए-दराज़ मांग के लाये थे चार दिन,
दो आरज़ू में कट गए दो इंतज़ार मैं,
काँटों को मत निकाल चमन से ओ बाग़बान,
यह भी गुलों के साथ पाले हैं बाहर मैं,
बुलबुल से कोई शिकवा ना सैयाद से गिला,
किस्मत में क़ैद लिखी थी फसल-ए-बाहर मैं,
कितना है बदनसीब “ज़फर” दफन के लिए,
दो गज़ ज़मीन भी ना मिली कू-ए-यार में…

Leave a Reply