shayarisms4lovers June18 202 - Best Ever Shayari Colletion of Munir Niazi – मुनीर नियाज़ी शायरी मजमूआ

Best Ever Shayari Colletion of Munir Niazi – मुनीर नियाज़ी शायरी मजमूआ

Shayari

उसके जाने का रंज

मेरी सदा हवा में बहुत दूर तक गयी
पर मैं बुला रहा था जिसे , वो बेखबर रहा
उसकी आखिरी नज़र में अजब दर्द था “मुनीर”
उसके जाने का रंज मुझे उम्र भर रहा

Uske Jaane Ka Ranj

Meri Sada Hawa Mein Bohat Door Tak Gayi
Par Main Bula Raha Tha Jise, wo Bekhabar Raha
Uski Aakhiri Nazar Mein Ajab Dard Tha “Munir”
Uske Jaane Ka Ranj Mujhe Umar Bhar Raha


हम जवाब क्या देते

किसी को अपने अमल का हिसाब क्या देते
सवाल सारे ग़लत थे, हम जवाब क्या देते
हवा की तरह मुसाफिर थे, दिलबरों के दिल
उन्हें बस एक ही घर का अजाब क्या देते

Hum Jawab Kya Dete

Kisi Ko Apnay Amal Ka Hisaab Kya Dete
Sawaal Saare Ghalat The, Hum Jawab Kya Dete
Hawa Ki Tarha Musafir The, Dilbaron Ke Dil
Unhain Bus Ak Hi Ghar Ka Azaab Kya Dete


ज़ुल्म मेरे नाम

शहर में वो मोअतबर मेरी गवाही से हुआ
फिर मुझे इस शहर में नमोअतबर उसी ने किया
शहर को बर्बाद करके रख दिया उस ने “मुनीर”
शहर पर यह ज़ुल्म मेरे नाम पर उसने किया

Zulam Mere Naam

Shehar mein wo moatbir meri gawahi se huwa
Phir mujhe is shehar mein namoatbir usi ne kiya
Shehar ko barbaad kar kay rakh diya us ne “Munir”
Shehar par yeh zulam mere naam per usi ne kiya


ऐसे भी हम नहीं

ग़म से लिपट जाएंगे ऐसे भी हम नहीं
दुनिया से कट ही जाएंगे ऐसे भी हम नही
इतने सवाल दिल में हैं और वो खामोश देर
इस देर से हट जाएंगे ऐसे भी हम नहीं

Aise Bhi Hum Nahi

Gham say lipat jaingay Aise bhi hum nahi
Duniya say kat hi jaingay Aise b hum nahi
Itnay sawal dil mein hain or wo khamosh der
Is der say hat jaingay Aise bhi hum nahi


गम की बारिश

गम की बारिश ने भी तेरे नक़्श को धोया नहीं
तूने मुझ को खो दिया मैंने तुझे खोया नहीं
जानता हूँ एक ऐसे शख्स को मैं भी “मुनीर”
गम से पत्थर हो गया लेकिन कभी रोया नहीं

Gam Ki Barish

Gam ki barish ne bhi tere naqsh ko dhoya nahin
Tune mujh ko khoo diya mainne tujhe khoya nahin
Janata hoon Ek aise shaKhs ko main bhi “Munir”
Gam se patthar ho gaya lekin kabhi roya nahin


शहर-ऐ-संगदिल

इस शहर-ऐ-संगदिल को जला देना चाहिए
फिर इस की ख़ाक को भी उड़ा देना चाहिए
गम हो चले हो तुम तो बहुत खुद में ऐ “मुनीर “.
दुनिया को कुछ तो अपना पता देना चाहिए .

Shehar-AE-Sangdil

Is Shehar-ae-Sangdil ko jalaa dena chahiye
Phir is ki khaak ko bhi udaa dena chahiye
Gum ho chale ho tum to bahut khud mein ae “Munir”
Duniya ko kuch to apna pata dena chahiye.


मेरे हालात

तुझसे बिछड़ कर क्या हूँ मैं , अब बाहर आकर देख
हिम्मत है तो मेरे हालात से आँख मिला कर देख
तू भी “मुनीर” अब भरे जहां मैं मिल कर रहना सीख
बाहर से तो देख लिया , अब अंदर जा कर देख

Mere Haalat

Tujhse bichad kar kya hoon main, ab bahar akar dekh
Himmat hai to mere haalat se aankh mila kar dekh
Tu bhi “Munir” ab bhare Jahaan mein mil kar rehna seekh
Bahar se to dekh liya, ab andar jaa kar dekh


वो पुराने आशना

फूल थे , बादल भी थे , और वो हसीन सूरत भी थी
दिल में लेकिन और ही एक शक्ल की हसरत भी थी
क्या क़यामत है “मुनीर” अब याद भी आते नहीं
वो पुराने आशना जिन से हमें उल्फत भी थी

Wo Purane Aashna

Phool the, badal bhi the, aur wo hasin surat bhi thi
Dil mein lekin aur hi ek shaql ki hasrat bhi thi
kya qayamat hai “munir” ab yaad bhi aate nahi
wo purane aashna jin se hamein ulfat bhi thi


तन्हाइयों का ज़हर

शाम-ऐ-आलम ढली तो चली दर्द की हवा
रात का पिछला पहर है और हम हैं दोस्तों
यह अजनबी सी मंज़िलें और राफ़्तग़ां की याद
तन्हाइयों का ज़हर है और हम हैं दोस्तों

Tanhaiyon ka Zahar

Sham-ae-alam dhali to chali dard ki hawa
Ratoon ka pichla pahar hai aur hum hain dosto
Yeh ajnabi si manzilen aur raftagan ki yaad
Tanhaiyon ka zahar hai aur hum hain dosto


इक दिन कमाल हो

लाज़िम नहीं के उस को भी मेरा ख्याल हो
मेरा जो हाल है वही उस का भी हाल हो
कोई खबर ख़ुशी की कहीं से मिले “मुनीर”
इस रोज़-ओ-शब् में ऐसा भी इक दिन कमाल हो

Ik Din Kamaal Ho

Laazim nahin ke us ko bhi mera khayal ho
Mera jo haal hai wohi uss ka bhi haal ho
Koi khabar khushi ki kahin se mile “Munir”
Iss roz-o-shab mein aisa bhi ik din kamaal ho