shayarisms4lovers mar18 16 - खुदा तो मिलता है , इंसान ही नहीं मिलता

खुदा तो मिलता है , इंसान ही नहीं मिलता

खुदा तो मिलता है , इंसान ही नहीं मिलता , यह चीज़ वो है जो देखी कहीं कहीं मैंने .. Khudaa to milta hai, Insaan hi nahi milta, Yeh cheez woh hai jo dekhi kahin kahin meine… जिन के आँगन में अमीरी का शजर लगता है , उन का हर ऐब भी ज़माने को हुनर […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 32 - हर एक सांस पर शक है के आखरी होगी – अल्लम इक़बाल शायरी

हर एक सांस पर शक है के आखरी होगी – अल्लम इक़बाल शायरी

बड़ा बे-अदब हूँ तेरे इश्क़ की इन्तहा चाहता हूँ मेरी सादगी देख क्या चाहता हूँ भरी बज़्म में राज़ की बात कह दी बड़ा बे-अदब हूँ , सज़ा चाहता हूँ Bada be-Adab Hoon Tairay ishq kii intehaa chahataa hoon mairi saadagii daikh kyaa chahataa hoon bharii bazm mein raaz ki baat kah di bada bai-adab […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 82 - किसी के इश्क़ के हम-ओ-ख्याल थे हम भी कभी – अल्लामा इक़बाल

किसी के इश्क़ के हम-ओ-ख्याल थे हम भी कभी – अल्लामा इक़बाल

किसी के इश्क़ के किसी के इश्क़ के हम-ओ-ख्याल थे हम भी कभी गुजरे ज़माने में बहुत बा-कमाल थे हम भी कभी Kisi ke Ishq ke Kisi ke Ishq ka hum-o-Khiyaal the hum bhi kabhi Gaye Dinoon mein bahut Ba-kamaal the hum bhi kabhi… ढूंढ़ता फिरता हूँ ढूंढ़ता फिरता हूँ ऐ इक़बाल अपने आप को आप ही […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 109 - कोई आवाज़ फिर मुझे जगा देगी – अल्लामा इक़बाल की शायरी

कोई आवाज़ फिर मुझे जगा देगी – अल्लामा इक़बाल की शायरी

कोई आवाज़ फिर मुझे जगा देगी आज फिर तेरी याद मुश्किल बना देगी सोने से काबिल ही मुझे रुला देगी आँख लग गई भले से , तो डर है कोई आवाज़ फिर मुझे जगा देगी Koi Awaaz Phir Mujhe Jaga Degi Aaj Pher Teri Yaad Mushkil Bana degi Sone Se kabil hi Mujhe Rula degi […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 39 - Allama Iqbal - Aqqal ggo aastaan se door nahin..

Allama Iqbal – Aqqal ggo aastaan se door nahin..

Aqqal ggo aastaan se door nahin, Us ki taqdeer main huzoor nahin, Dill-e-beena bhi kar khuda se talabb, Aankh ka noor dil ka noor nahin, Ilm main bhi suroor hai lekin, Yeh woh jannat hai jis main huur nahin, Kya ghazab hai ke is zamaane main, Ek bhi saahib-e-surooor nahin, Ik junoon hai ke baa-shauur […]

Continue Reading