shayarisms4lovers mar18 108 - Bahadur Shah Zafar - Lagta nahii hai dil mera

Bahadur Shah Zafar – Lagta nahii hai dil mera

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Lagta nahii hai dil mera ujrre dayaar mein,
Kis ki bannii hai aalam e na-paayedaar mein,
Keh do in hasraton se kahin aur ja basen,
Itni jagah kahan hai dil-e-daaghdaar main,
Umr-e-daraaz maang ke laaye the chaar din,
Do aarzuu mei katt gaye do intizaar main,
Kaanton ko mat nikaal chaman se o baaghbaan,
Yeh bhi gulon ke saath pale hain bahaar main,
Bulbul se koi shikwa na sayaad se gila,
Qismat mein qaid likhi thi fasl-e-bahaar main,
Kitna hai bdnaseeb “zafar” dafn ke liye,
Do gaz zameen bhi na mili kuu-e-yaar main…

लगता नही है दिल मेरा उजड़े दयार में,
किस की बननी है आलम ए ना-पायेदार में,
कह दो इन हसरतों से कहीं और जा बसें,
इतनी जगह कहाँ है दिल-ए-दाग़दार मैं,
उम्र-ए-दराज़ मांग के लाये थे चार दिन,
दो आरज़ू में कट गए दो इंतज़ार मैं,
काँटों को मत निकाल चमन से ओ बाग़बान,
यह भी गुलों के साथ पाले हैं बाहर मैं,
बुलबुल से कोई शिकवा ना सैयाद से गिला,
किस्मत में क़ैद लिखी थी फसल-ए-बाहर मैं,
कितना है बदनसीब “ज़फर” दफन के लिए,
दो गज़ ज़मीन भी ना मिली कू-ए-यार में…

Continue Reading

Bahadur Shah Zafar – Baat karni mujhe

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Baat karni mujhe mushkil kabhi aesi to na thi,
Jaisi ab hai teri mehfil kabhi aisi to na thi,
Le geya chheen ke kaun aaj tera sabr-o-qaraar,
Beqaraari tujhe ae dil kabhi aesi to na thi,
Uss ki ankhon ne khuda jaane kiya kya jaadu,
Ke tabiyat meri maayel kabhi aisi to na thi,
Akss-e-rukhsaar ne kis ke hai tujhe chamkaaya,
Taab tujh main mah-e-kamil kabhi aesi to na thi,
Ab ke jo raah-e-mohabbat main uthaayi takleef,
Sakht hoti humen manzil kabhi aisi to na thi,
Nigaah-e-yaar ko ab kyun hai taghaaful ae dil,
Woh tere haal se ghaafil kabhi aisi to na thi,
Chashm-e-qatil meri dushman thi hamesha lekin,
Jaisi ab ho gayi qaatil kabhi aesi to na thi,
Kya sabbab tu jo bigarrta hai “zafar” se har baar,
Khuu teri huur-shamaayel kabhi aesi to na thi…

बात करनी मुझे मुश्किल कभी ऐसी तो ना थी,
जैसी अब है तेरी महफ़िल कभी ऐसी तो ना थी,
ले जय छीन के कौन आज तेरा सब्र-ओ-क़रार,
बेक़रारी तुझे ऐ दिल कभी ऐसी तो ना थी,
उस की आँखों ने खुदा जाने किया क्या जादू,
के तबियत मेरी माएल कभी ऐसी तो ना थी,
अक्स-ए-रुखसार ने किस के है तुझे चमकाया,
ताब तुझ में माह-ए-कामिल कभी ऐसी तो ना थी,
अब के जो राह-ए-मोहब्बत में उठायी तकलीफ,
सख्त होती हमें मंज़िल कभी ऐसी तो ना थी,
निगाह-ए-यार को अब क्यों है तग़ाफ़ुल ऐ दिल,
वह तेरे हाल से ग़ाफ़िल कभी ऐसी तो ना थी,
चश्म-ए-क़ातिल मेरी दुश्मन थी हमेशा लेकिन,
जैसी अब हो गयी क़ातिल कभी ऐसी तो ना थी,
क्या सबब तू जो बिगाड़ता है “ज़फर” से हर बार,
खू तेरी हूर-शमाएल कभी ऐसी तो ना थी…

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 78 - Bahadur Shah Zafar - Khulta nahin hai hal

Bahadur Shah Zafar – Khulta nahin hai hal

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Khulta nahin hai hal kisi par kahe bagair,
Par dil ki jan lete hain dilbar kahe bagair,
Main kyunkar kahun tum ao k dil ki kashish se wo,
Ayenge daure ap mere ghar kahe bagair,
Kya tab kya majal hamari k bosa len,
Lab ko tumhare lab se milkar kahe bagair,
Bedard tu sune na sune lek dard-e-dil,
Rahta nahin hai ashiq-e-muztar kahe bagair,
Taqdir k siwa nahin milta kahin se bhi,
Dilawata ai ?Zafar? hai muqaddar kahe bagair.

खुलता नहीं है हाल किसी पर कहे बगैर,
पर दिल की जान लेते हैं दिलबर कहे बगैर,
में क्योंकर कहूँ तुम औ के दिल की कशिश से वो,
आएंगे दौड़े आप मेरे घर कहे बगैर,
क्या तब क्या मजाल हमारी के बोसा लें,
लब को तुम्हारे लब से मिलकर कहे बगैर,
बेदर्द तू सुने ना सुने लेक दर्द-ए-दिल,
रहता नहीं है आशिक़-ए-मुज़्तर कहे बगैर,
तक़दीर के सिवा नहीं मिलता कहीं से भी,
दिलवाता ऐ ?ज़फर? है मुक़द्दर कहे बगैर|…

Continue Reading