shayarisms4lovers June18 292 - यह उदास शाम और तेरी जुदाई – यह शाम तेरे नाम शायरी

यह उदास शाम और तेरी जुदाई – यह शाम तेरे नाम शायरी

शाम-ऐ-तन्हाई शाम से है मुझ को सुबह-ऐ-ग़म की फ़िक्र सुबह से ग़म शाम-ऐ-तन्हाई का है Shaam-ae-Tanhai Sham se hai mujh ko subha-ae-gham ki fikar Subha se gham shaam-ae-tanhai ka hai शाम के बाद तू है सूरज तुझे मालूम कहाँ रात का दर्द तू किसी रोज़ मेरे घर में उतर शाम के बाद लौट आये न […]

Continue Reading

बारिशों के मौसम में – शायरी

बारिशें नहीं रुकतीं बारिशों के मौसम में , तुम को याद करने की आदतें पुरानी हैं अब की बार सोचा है , आदतें बदल डालें फिर ख्याल आया के आदतें बदलने से  बारिशें नहीं रुकतीं.. Baarishain Nahin Ruktee Barishon ke mousam mein, Tum ko yaad karnay ki Aadatain purani hain Ab ki baar socha hai, Aadatain badal dalain Phir […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 39 - आज की रात

आज की रात

आज की रात वो कह के चले इतनी मुलाक़ात बहुत है मैंने कहा रुक जाओ अभी रात बहुत है आँसू मेरे थम जाएं तो फिर शौक से जाना ऐसे मैं कहाँ जाओगे बरसात बहुत है वो कहने लगे जाना मेरा बहुत ज़रूरी है नहीं चाहता दिल तोडू तेरा पर मजबूरी है गर हुई हो कोई […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 202 - ग़ज़ल – वो मेरा हमसफ़र हुआ भी तो लम्हा भर

ग़ज़ल – वो मेरा हमसफ़र हुआ भी तो लम्हा भर

हम तो अकेले रहे हमेशा रहेगा यह आलम कहाँ यह महफ़िल कहाँ और यह हमदम कहाँ सदा चोट पर चोट खाता रहा मुक़द्दर में इस दिल के मरहम कहाँ कहाँ अब्र कोई कड़ी धुप में झुलसते बयाबां में शबनम कहाँ ना मस्त आँखें होंगी ना ज़ुल्फे रसा हमेशा रहेगा यह मौसम कहाँ अकेले थे हम […]

Continue Reading
shayarisms4lovers may18 69 - Barish Shayari, Kaisi beeti raat kisi se

Barish Shayari, Kaisi beeti raat kisi se

Kaisi beeti raat kisi se mat kahena, Sapno wali baat kisi se mat kahena, Kaise uthe badal aur kahan jaakar takraye, Kaisi hui barsaat kisi se mat kahena! 💖 🌧 कैसी बीती रात किसी से मत कहना, सपनो वाली बात किसी से मत कहना, कैसे उठे बादल और कहां जाकर टकराए, कैसी हुई बरसात किसी […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 184 - ऐ बारिश ज़रा थम के बरस – Romantic बारिश शायरी

ऐ बारिश ज़रा थम के बरस – Romantic बारिश शायरी

ऐ बारिश ऐ बारिश ज़रा थम के बरस जब मेरा यार आ जाये तो जम के बरस पहले न बरस की वो आ न सकें फिर इतना बरस की वो जा न सकें AE Barish Ae barish zara tham ke baras Jab mera yaar aa jaye to jam ke baras Pehle na baras ki woh […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 129 - छोड़ दिए हम ने ऐतबार किस्मत की लकीरों पे – Aitbar Shayari

छोड़ दिए हम ने ऐतबार किस्मत की लकीरों पे – Aitbar Shayari

कोई तो बरसात ऐसी हो कोई तो बरसात ऐसी हो जो तेरे संग बरसे … तनहा तो मेरी आँखें हर रोज़ बरसती हैं … Koi To Barsat Aisi Ho Koi To Barsat Aisi Ho Jo Tere Sang Barsy… Tanha To Meri Aankhen Har Roz Barasti Hain… ऐतबार छोड़ दिए हम ने ऐतबार किस्मत की लकीरों […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 133 - SAAKI AUR JAAM SHAYARI – साक़ी ओर पिला की पीने पिलाने की रात है

SAAKI AUR JAAM SHAYARI – साक़ी ओर पिला की पीने पिलाने की रात है

वो पिला कर जाम वो पिला कर जाम “लबों ” से अपनी मोहब्बत का “मोहसिन” और , अब कहते हैं के नशे की आदत अच्छी नहीं होती । Wo Pila Kar “Jaam” Labon Se Apni Muhabbat Ka “Mohsin” Aur , Ab Kehte Hain Ke Nashay Ki Aadat Acchi Nahi Hoti. जाम पे जाम जाम पे […]

Continue Reading

Good Night Shayari – Hindi Good Night Love shayari

इतने बेवफा अभी तक हुए नहीं है हम तेरी क़सम अभी तक सोये नहीं है हम रोने का दिल करता है मगर रोये नहीं है हम याद भी न आएं तुम्हारी और सो जाएँ हम इतने बेवफा अभी तक हुए नहीं है हम!! Itne bewafa abhi tak hue nahi hai hum Teri qasam abhi tak […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 184 - ज़ख़्म-ऐ -जिगर तुमको दिखाएगें किसी रोज़ – परवीन शाकिर उर्दू शायरी

ज़ख़्म-ऐ -जिगर तुमको दिखाएगें किसी रोज़ – परवीन शाकिर उर्दू शायरी

इश्क़ में सच्चा चाँद पूरा दुःख और आधा चाँद हिजर की शब और ऐसा चाँद इतने घने बादल के पीछे कितना तनहा होगा चाँद मेरी करवट पर जाग उठे नींद का कितना कच्चा चाँद सेहरा सेहरा भटक रहा है अपने इश्क़ में सच्चा चाँद Ishq mein Sachcha chaand Pura dukh aur Aadha Chaand Hijr ki […]

Continue Reading
shayarisms4lovers in 22 - Barsaat Shayari – Kitni jaldi zindagi guzar

Barsaat Shayari – Kitni jaldi zindagi guzar

Kitni jaldi zindagi guzar jaati hai, Pyaas buztee nahin barsaat chali jaati hai, Aap ki yaadein kuchh iss tarah aati hai, Neend aati nahin aur raat guzar jaati hai! कितनी जल्दी ज़िंदगी गुज़र जाती है, प्यास बुज़ती नहीं बरसात चली जाती है, आप की यादें कुच्छ इश्स तरह आती है, नींद आती नहीं और रात […]

Continue Reading