shayarisms4lovers mar18 13 - Sad Shayari, Is Dil ki Dastan

Sad Shayari, Is Dil ki Dastan

Is Dil Ki Dastan Bhi Badi Ajeeb Hoti Hai, Badi Mushkil Se Ise Khushi Naseeb Hoti Hai, Kisi Ke Paas Aane Par Khushi Ho Na Ho, Par Dur Jaane Par Badi Takleef Hoti Hai. इस दिल की दास्ताँ भी बड़ी अजीब होती है, बड़ी मुस्किल से इसे ख़ुशी नसीब होती है, किसी के पास आने […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 279 - हम कभी मिल सकें मगर – फ़राज़ की शायरी

हम कभी मिल सकें मगर – फ़राज़ की शायरी

हम कभी मिल सकें मगर , शायद जिनके हम मुन्तज़र रहे, उनको मिल गए और हमसफ़र शायद जान पहचान से भी क्या होगा फिर भी ऐ दोस्त , गौर कर शायद, अजनबीयत की धुंध छट जाए चमक उठे तेरी नज़र शायद ज़िन्दगी भर लहू रुलाएगी याद -ऐ -यारां -ऐ -बेखबर शायद जो भी बिछड़े वो कब मिले […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 92 - तुझे ऐ बेवफा हम ज़िंदगी का आसरा समझे

तुझे ऐ बेवफा हम ज़िंदगी का आसरा समझे

तुझे ऐ बेवफा हम ज़िंदगी का आसरा समझे तुझे ऐ बेवफा हम ज़िंदगी का आसरा समझे बड़े नादान थे हम हाय समझे भी तो क्या समझे मुहब्बत में हमें तक़दीर ने धोखे दिए क्या क्या जो दिल का दर्द था इस दर्द को दिल की दवा समझे हमारी बेबसी ये कह रही है हाय रो रो […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 04 - शानदार 55 महफ़िल पर शायरी - Mahafil Status, Shayari In Hindi

शानदार 55 महफ़िल पर शायरी – Mahafil Status, Shayari In Hindi

शानदार 55 महफ़िल पर शायरी  – Mahafil Status, Shayari In Hindi आज की पोस्ट 2 Line महफ़िल Status Hindi की हैं जिसमे पढ़ सकते हैं, “महफ़िल पर शायरी Facebook”, महफ़िल पर शायरी 4 Line और महफ़िल पर शायरी One Line शायरी के “Mahafl Status In Hindi” आईये दोस्तों अब पढ़ते हैं महफ़िल शायरी के इस लाज़वाब कलेक्शन को जिसे अगल अलग सोशल मिडिया […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 127 - हिंदी और उर्दू शायरी – दो लाइन शायरी – Daag , Perveen , Naqvi Shayari

हिंदी और उर्दू शायरी – दो लाइन शायरी – Daag , Perveen , Naqvi Shayari

न जाने कौन न जाने कौन सा आसब दिल में बसता है के जो भी ठहरा वो आखिर मकान छोड़ गया … Na jane kaun Na jane kaun sa aasaab dil mein basta hai Ke jo bhi thehra wo aakhir makaan chod gaya तुझी को पूछता रहा बिछड़ के मुझ से , हलक़ को अज़ीज़ […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 77 - 2 Line Shayari in Hindi , Tay hai badlna

2 Line Shayari in Hindi , Tay hai badlna

तय है बदलना, हर चीज बदलती है इस जहां में, किसी का दिल बदल गया, किसी के दिन बदल गए। यूं तो किसी चीज के मोहताज नही हम, बस एक तेरी आदत सी हो गयी है। बिन दिल के जज्बात अधूरे, बिन धड़कन अहसास अधूरे, बिन साँसों के ख्वाब अधूरे, बिन तेरे हम कब हैं […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 35 - हम ने भी बनाया था एक यार शीशे का

हम ने भी बनाया था एक यार शीशे का

एक यार शीशे का पत्थरों की बस्ती में कारोबार शीशे का कोई भी नहीं करता ऐतबार शीशे का कांच से बने पुतले कहाँ दूर चलते हैं चार दिन का होता है यह खुमार शीशे का बन सँवर के हरजाई आज घर से निकला है जाने कौन होता है फिर शिकार शीशे का दिल के आज़माने […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 55 - Dard SHayari, Lajawab hai

Dard SHayari, Lajawab hai

Lajawaab hai meri zindagi ka fasana, Koi seekhe mujh se har pal muskurana, Koi meri hansi ko najar na lagana, Bahut dard seh kar seekha hai ham ne muskurana. लाजवाब है मेरी जिंदगी का फसाना, कोई सीखे मुझसे हर पल मुस्कुराना, पर कोई मेरी हंसी को नजर न लगाना, बहुत दर्द सहकर सीखा है हम […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 292 - यह उदास शाम और तेरी जुदाई – यह शाम तेरे नाम शायरी

यह उदास शाम और तेरी जुदाई – यह शाम तेरे नाम शायरी

शाम-ऐ-तन्हाई शाम से है मुझ को सुबह-ऐ-ग़म की फ़िक्र सुबह से ग़म शाम-ऐ-तन्हाई का है Shaam-ae-Tanhai Sham se hai mujh ko subha-ae-gham ki fikar Subha se gham shaam-ae-tanhai ka hai शाम के बाद तू है सूरज तुझे मालूम कहाँ रात का दर्द तू किसी रोज़ मेरे घर में उतर शाम के बाद लौट आये न […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 196 - मुझसे मुहब्बत की है तो वफ़ा का वादा भी कर

मुझसे मुहब्बत की है तो वफ़ा का वादा भी कर

तेरी राहगुज़र यह अजब क़यामते हैं तेरी राहगुज़र में गुजरी न हो के मर मिटे हम , न हो के जी उठें हम .. Teri Rahguzaar Yeh ajab qayamaten hain teri rahguzar main guzaari, Na ho ke mar mittain hum, na ho ke jee uthain hum… कोई शिद्दत से याद आता है इक अजीब सी […]

Continue Reading
shayarisms4lovers may18 41 - तेरे वादे पर सितमगर – Daag Dehlvi

तेरे वादे पर सितमगर – Daag Dehlvi

तेरे वादे पर सितमगर अभी और सब्र करते अजब अपना हाल होता जो विसाल-ऐ-यार होता कभी जान सदके होती कभी दिल निसार होता न मज़ा है दुश्मनी में न है लुत्फ़ दोस्ती में कोई गैर गैर होता कोई यार यार होता यह मज़ा था दिल्लगी का के बराबर आग लगती न तुम्हें क़रार होता न […]

Continue Reading