Sad Shayari – Yahan udaas hain hum

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Yahan udaas hain hum,
Wahan khush ho tum,

Tumhare labon pe hansi,
Hamaari ankhen hain nam,

Tumaari kismat mein khushi,
Hamare muqaddar mein ghum,

Tumhaare sath sara zamana,
Hamare sath ranj-o-aalm,

Tumaare paas har nehamat,
Hamare daman mein pech-o-kham…

– M. Asghar Mirpuri

यहाँ उदास हैं हम,
वहाँ खुश हो तुम,

तुम्हारे लबों पे हँसी,
हमारी आँखें हैं नम,

तुम्हारी किस्मत में खुशी,
हमारे मुक़द्दर में ग़म,

तुम्हारे साथ सारा ज़माना,
हमारे साथ रंज-ओ-आलम,

तुम्हारे पास हर नेहमत,
हमारे दामन में पेच-ओ-ख़म…

– म. असग़र मीरपुरी

Continue Reading

Sad Shayari – Mere dil mein jis shakhs ka qyaam hai

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Mere dil mein jis shakhs ka qyaam hai dosto,
Meri nazar mein uska bahut uncha maqaam hai dosto,

Humaari mohabbat ki duniya ko khabar hone lagi hai,
Aajkal humaare pyar ka charcha aam hai dosto,

Khuda kare usey meri bhi sabhi khushiyan mil jayein,
Mere sath uske gham ki shaam hai dosto,

Ab to kisi se baat karna accha nahi lagta,
Din raat honthon pe usi ka naam hai dosto,

Asghr ko gham dene waley tu sadaa khush rah,
Uske liye mera yehi aakhri paigham hai dosto…

– M.Asghar Mirpuri

मेरे दिल में जिस शख्स का क़याम है दोस्तो,
मेरी नज़र में उसका बहुत उँचा मक़ाम है दोस्तो,

हमारी मोहब्बत की दुनिया को खबर होने लगी है,
आजकल हुमारे प्यार का चर्चा आम है दोस्तो,

खुदा करे उसे मेरी भी सभी खुशियाँ मिल जायें,
मेरे साथ उसके ग़म की शाम है दोस्तो,

अब तो किसी से बात करना अच्छा नही लगता,
दिन रात होंठों पे उसी का नाम है दोस्तो,

असगर को ग़म देने वाले तू सदा खुश रह,
उसके लिए मेरा यही आखरी पैग़ाम है दोस्तो…

– म. असग़र मीरपुरी…

Continue Reading
shayarisms4lovers may18 10 - Sad Shayari - Teri yaad mein beqraar hai dil

Sad Shayari – Teri yaad mein beqraar hai dil

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Teri yaad mein beqraar hai dil,
Phir dhokka khane ko tyaar hai dil,

Ab yahan kisi ka guzar nahi hota,
In dino ik ujda hua dyaar hai dil,

Rota hai to ankhon se khoon rista hai,
Kisi ki mohabbat mein giraftar hai dil,

Kuch deir teri yaad se gafil ho gya tha,
Ab to har pal rehta behdaar hai dil,

Teri judai mein ro-ro ke yeh haal hai,
Ab asghar ki tarah rehta beemar hai dil…

– M. Asghar Mirpuri

तेरी याद में बेक़रार है दिल,
फिर धोखा खाने को तैयार है दिल,

अब यहाँ किसी का गुज़र नही होता,
इन दिनों इक उजड़ा हुआ दयार है दिल,

रोता है तो आँखों से खून रिसता है,
किसी की मोहब्बत में गिरफ्तार है दिल,

कुछ देर तेरी याद से गाफिल हो गया था,
अब तो हर पल रहता बेहदार है दिल,

तेरी जुदाई में रो-रो के यह हाल है,
अब असग़र की तरह रहता बीमार है दिल…

– म. असग़र मीरपुरी…

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 196 - Sad Shayari - Zulfon ko jab wo sanwaare nikle

Sad Shayari – Zulfon ko jab wo sanwaare nikle

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Zulfon ko jab wo sanwaare nikle,
Din me aasman pe sitaare nikle,

Dil ke phool khilne hi wale they,
Raqeeb haton me lekar aarey nikle,

Un ki yaadon ko apne sath lekar,
Ghar se hum hijhr ke maare nikle,

Mohabbat to tum ne bhi ki thi jaanam,
Magar ishq mein saare jurm humaare nikle,

Unki gali mein jane ka koi bahana na tha,
Aaj asghar bhi hathon mein lekar gubaare nikle…

– M.Asghar Mirpuri

ज़ुल्फ़ों को जब वो संवारे निकले,
दिन में आसमान पे सितारे निकले,

दिल के फूल खिलने ही वाले थे,
रक़ीब हाथों मे लेकर आरे निकले,

उन की यादों को अपने साथ लेकर,
घर से हम हीझर के मारे निकले,

मोहब्बत तो तुम ने भी की थी जानम,
मगर इश्क़ में सारे जुर्म हमारे निकले,

उनकी गली में जाने का कोई बहाना ना था,
आज असग़र भी हाथों में लेकर गुबारे निकले…

– म. असग़र मीरपुरी

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 75 - Sad Shayari - Humein to zindagi mein

Sad Shayari – Humein to zindagi mein

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Humein to zindagi mein bada khsaara mila hai,
Besahara reh gaye koi na sahara mila hai,

Wo purani yaadein ek bar phir laut aayee,
Subaho savere jo khat tumhara mila hai,

Duniya mein jis se bhi hamara dil mila,
Us se na muqaddar ka sitara mila hai,

Aaj apne dil ki kitab jab padhi,
Uske har panne pe naam tumhara mila hai,

Bada mushkil hai ishq ka samundar paar karna,
Har shanaawar ko na yahan kinara mila hai…

– M.Asghar Mirpuri

हमें तो ज़िंदगी में बड़ा ख्सारा मिला है,
बेसहारा रह गये कोई ना सहारा मिला है,

वो पुरानी यादें एक बार फिर लौट आई,
सुबहो सवेरे जो खत तुम्हारा मिला है,

दुनिया में जिस से भी हमारा दिल मिला,
उस से ना मुक़द्दर का सितारा मिला है,

आज अपने दिल की किताब जब पढ़ी,
उसके हर पन्ने पे नाम तुम्हारा मिला है,

बड़ा मुश्किल है इश्क़ का समुंदर पार करना,
हर शनावर को ना यहाँ किनारा मिला है…

– म. असग़र मीरपुरी…

Continue Reading
shayarisms4lovers may18 79 - Sad Shayari - Aankh ashqon se khoonbaar hui jaati hai

Sad Shayari – Aankh ashqon se khoonbaar hui jaati hai

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Aankh ashqon se khoonbaar hui jaati hai,
Zindagi baes-e-aazaar hui jaati hai,

Hamara milna bhi ab khawab lagta hai,
Hamaare darmiyaan judai deewar hui jaati hai,

Na jaane vasal ki shab kab aayegi,
Ab to saans bhi dushwaar hui jaati hai,

Main isey kaise zindagi keh doon,
Jo basar tere bagair hui jaati hai…

– M. Asghar Mirpuri

आँख अश्क़ों से खूंबार हुई जाती है,
ज़िंदगी बाएस-ए-आज़ार हुई जाती है,

हमारा मिलना भी अब खवाब लगता है,
हमारे दरमियाँ जुदाई दीवार हुई जाती है,

ना जाने वसल की शब कब आएगी,
अब तो साँस भी दुशवार हुई जाती है,

मैं इसे कैसे ज़िंदगी कह दूं,
जो बसर तेरे बगैर हुई जाती है…

– म. असग़र मीरपुरी…

Continue Reading
shayarisms4lovers may18 80 - Aatish Haider Ali - Sun to sahi

Aatish Haider Ali – Sun to sahi

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Sun to sahii jahaan main hai teraa fasaanaa kyaa,
Kahti hai tujh se Khalq-e-Khudaa Gaibanaa kya.

Zina saba kaa Dhundati hai apni musht-e-Khaak,
Baam-e-baland yaar ka hai astana kya.

Ati hai kis tarah se meri kabz-e-ruuh ko,
Dekhun to maut dhund rahe hai bahana kya.

Betab hai kamal hamara dil-e-aziim,
Mahmaan saray-e-jism ka hoga ravana kya.

सुन तो सही जहां में है तेरा फ़साना क्या,
कहती है तुझ से ख़ल्क़-ए-खुदा गैबाना क्या.

जीना सबा का ढूंढती है अपनी मुश्त-ए-ख़ाक,
बाम-ए-बलन्द यार का है असताना क्या.

आती है किस तरह से मेरी कब्ज़-ए-रूह को,
देखूं तो मौत ढूंढ रहे हैं बहना क्या.

बेताब है कमल हमारा दिल-ए-अज़ीम,
मेहमान सराय-ए-जिस्म का होगा रवाना क्या.…

Continue Reading
rose orange red flower 53397 - Bashir Badr - Phool sa kuch qalaam

Bashir Badr – Phool sa kuch qalaam

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Phool sa kuch qalaam aur sahi,
Ik ghazal us kay naam aur sahi,
Us ki zulfen bohat ghaneri hain,
Ek shab ka qayam aur sahi,
Zindagi kay udaas qissey hain,
Ek ladki ka naam aur sahi,
Kursiyon ko sunaiye ghazlien,
Qatal ki ek sham aur sahi,
kapkapati hai rat seeney me,
zehar ka ek jaam aur sahi…

फूल सा कुछ क़लाम और सही,
इक गाज़ल उस के नाम और सही,
उस की ज़ुल्फ़ें बहोत घनेरी हैं,
एक शब का क़याम और सही,
ज़िंदगी के उदास क़िस्से हैं,
एक लड़की का नाम और सही,
कुर्सियों को सुनाए ग़ज़लें,
क़तल की एक शाम और सही,
कंपकंपाती है रात सीने मे,
ज़हर का एक जाम और सही…

Continue Reading

Bashir Badr – Yunhi be-sabab na phira karo

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Yunhi be-sabab na phira karo koi sham ghar main raha karo,
Woh ghazal ki sahi kitaab hai ussey chupke chupke padha karo,
Koi haath bhi na milaayega jo gale miloge tapaak se,
Yeh naye mizaaj ka sheher hai zara faasle se mila karo,
Abhi raah main kayi morr hain koi aayega koi jaayega,
Tumhe jis ne dil se bhulaa diya ussey bhoolne ki dua karo,
Mujhe ishtihaar si lagti hain yeh mohabton ki kahaniyan,
Jo kaha nahin woh suna karo jo suna nahin woh kaha karo,
Kabhi husn-e-parda-nasheen bhi ho zara aashiqana libaas main,
Jo main ban sanwar ke kahin chaloon mere sath tum bhi chala karo,
Nahin be-hijaab woh chand sa ke nazar ka koi assar na ho,
Ussey itni garmi-e-shauq se badi der tak na taaka karo,
Yeh khizaan ki zard si shaal main jo udaas pair ke paas hai,
Yeh tumhare ghar ki bahaar hai ussey aansuyon se haraa karo…

यूँही बे-सबब ना फिरा करो कोई शाम घर मैं रहा करो,
वो गज़ल की सही किताब है उससे चुपके चुपके पढ़ा करो,
कोई हाथ भी ना मिलाएगा जो गले मिलोगे तपाक से,
यह नये मिज़ाज का शहेर है ज़रा फ़ासले से मिला करो,
अभी राह मैं कई मोड हैं कोई आएगा कोई जाएगा,
तुम्हे जिस ने दिल से भुला दिया उससे भूलने की दुआ करो,
मुझे इश्तिहार सी लगती हैं यह मोहब्तों की कहानियाँ,
जो कहा नहीं वो सुना करो जो सुना नहीं वो कहा करो,
कभी हुस्न-ए-परदा-नशीन भी हो ज़रा आशिक़ाना लिबास मैं,
जो मैं बन संवार के कहीं चलूं मेरे साथ तुम भी चला करो,
नहीं बे-हिजाब वो चाँद सा के नज़र का कोई अस्सर ना हो,
उससे इतनी गर्मी-ए-शौक़ से बड़ी देर तक ना ताका करो,
यह खीज़ान की ज़र्द सी शाल में जो उदास पैर के पास है,
यह तुम्हारे घर की बहार है उससे आँसुयों से हरा करो……

Continue Reading

Bashir Badr – Us ki chahat ki chandni hogi

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Us ki chahat ki chandni hogi,
Khoobsoorat si zindagi hogi,
Ek ladki bahut sey phool liye,
Dil ki dehleez par khadi hogi,
Chahey jitney charagh gul kar do,
Us key ghar roshni to hogi,
Neend tarseygi meri ankhon me,
Jab bhi khawbon sey dosti hogi,
Hum bohat door they magar tumney,
Dil ki awaz to suni hogi,
Sochta hun key wo kahan hogi,
Kis key angan me chandni hogi…

उस की चाहत की चाँदनी होगी,
खूबसूरत सी ज़िंदगी होगी,
एक लड़की बहुत से फूल लिए,
दिल की दहलीज़ पर खड़ी होगी,
चाहे जितने चराग गुल कर दो,
उस के घर रोशनी तो होगी,
नींद तरसेगी मेरी आँखों मे,
जब भी खाव्बों से दोस्ती होगी,
हम बहोत दूर थे मगर तुमने,
दिल की आवाज़ तो सुनी होगी,
सोचता हूँ के वो कहाँ होगी,
किस के आँगन मे चाँदनी होगी…

Continue Reading
Bashir Badr - Aansuoon se dhuli khushi ki tarah

Bashir Badr – Aansuoon se dhuli khushi ki tarah

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Aansuoon se dhuli khushi ki tarah,
Rishtey hotey hain shayari ki tarah,
Door reh kar bhi hoon issi ki tarah,
Chaand se door chandni ki tarah,
Khoobsurat, udaas, khaufzada,
Woh bhi hai beesween sadi ki tarah,
Jab bhi kabhi badlon mein ghirta hai,
Chand lagta hai aadmi ki tarah,
Hum khuda ban ke ayenge warna,
Hum se mil jao aadmi ki tarah,
Sab nazar ka fareb hota hai,
Koi hota nahin kisi ki tarah,
Janta hoon ke aik din mujhko,
Woh badal dega diary ki tarah,
Aarzu hai ke koi sher kahoon,
Khoobsurat teri gali ki tarah…

आंसुओं से धुली खुशी की तरह,
रिश्ते होते हैं शायरी की तरह,
दूर रह कर भी हूँ इसी की तरह,
चाँद से दूर चाँदनी की तरह,
खूबसूरत, उदास, ख़ौफज़दा,
वो भी है बीसवीं सदी की तरह,
जब भी कभी बादलों में घिरता है,
चाँद लगता है आदमी की तरह,
हम खुदा बन के आएँगे वरना,
हम से मिल जाओ आदमी की तरह,
सब नज़र का फरेब होता है,
कोई होता नहीं किसी की तरह,
जनता हूँ के ऐक दिन मुझको,
वो बदल देगा डायरी की तरह,
आरज़ू है के कोई शेर कहूँ,
खूबसूरत तेरी गली की तरह……

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 108 - Bahadur Shah Zafar - Lagta nahii hai dil mera

Bahadur Shah Zafar – Lagta nahii hai dil mera

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Lagta nahii hai dil mera ujrre dayaar mein,
Kis ki bannii hai aalam e na-paayedaar mein,
Keh do in hasraton se kahin aur ja basen,
Itni jagah kahan hai dil-e-daaghdaar main,
Umr-e-daraaz maang ke laaye the chaar din,
Do aarzuu mei katt gaye do intizaar main,
Kaanton ko mat nikaal chaman se o baaghbaan,
Yeh bhi gulon ke saath pale hain bahaar main,
Bulbul se koi shikwa na sayaad se gila,
Qismat mein qaid likhi thi fasl-e-bahaar main,
Kitna hai bdnaseeb “zafar” dafn ke liye,
Do gaz zameen bhi na mili kuu-e-yaar main…

लगता नही है दिल मेरा उजड़े दयार में,
किस की बननी है आलम ए ना-पायेदार में,
कह दो इन हसरतों से कहीं और जा बसें,
इतनी जगह कहाँ है दिल-ए-दाग़दार मैं,
उम्र-ए-दराज़ मांग के लाये थे चार दिन,
दो आरज़ू में कट गए दो इंतज़ार मैं,
काँटों को मत निकाल चमन से ओ बाग़बान,
यह भी गुलों के साथ पाले हैं बाहर मैं,
बुलबुल से कोई शिकवा ना सैयाद से गिला,
किस्मत में क़ैद लिखी थी फसल-ए-बाहर मैं,
कितना है बदनसीब “ज़फर” दफन के लिए,
दो गज़ ज़मीन भी ना मिली कू-ए-यार में…

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 78 - Bahadur Shah Zafar - Khulta nahin hai hal

Bahadur Shah Zafar – Khulta nahin hai hal

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Khulta nahin hai hal kisi par kahe bagair,
Par dil ki jan lete hain dilbar kahe bagair,
Main kyunkar kahun tum ao k dil ki kashish se wo,
Ayenge daure ap mere ghar kahe bagair,
Kya tab kya majal hamari k bosa len,
Lab ko tumhare lab se milkar kahe bagair,
Bedard tu sune na sune lek dard-e-dil,
Rahta nahin hai ashiq-e-muztar kahe bagair,
Taqdir k siwa nahin milta kahin se bhi,
Dilawata ai ?Zafar? hai muqaddar kahe bagair.

खुलता नहीं है हाल किसी पर कहे बगैर,
पर दिल की जान लेते हैं दिलबर कहे बगैर,
में क्योंकर कहूँ तुम औ के दिल की कशिश से वो,
आएंगे दौड़े आप मेरे घर कहे बगैर,
क्या तब क्या मजाल हमारी के बोसा लें,
लब को तुम्हारे लब से मिलकर कहे बगैर,
बेदर्द तू सुने ना सुने लेक दर्द-ए-दिल,
रहता नहीं है आशिक़-ए-मुज़्तर कहे बगैर,
तक़दीर के सिवा नहीं मिलता कहीं से भी,
दिलवाता ऐ ?ज़फर? है मुक़द्दर कहे बगैर|…

Continue Reading

Sahir Ludhianvi – Tarab-zaarona pe kya beeti

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Tarab-zaaron pe kya beeti sanam-khaanon pe kya guzri,
Dil-e-zinda tere marhuum armaanon pe kya guzri,

Zameen ne khuun uglaa aasmaan ne aag barsaayi,
Jab insaanon ke dil badle to insaanon pe kya guzri,

Hamen yeh fikr un ki anjuman kis haal mei hogi,
Unhe yeh gham ke un se chuut ke diwanon pe kya guzri,

Mera ilhaad to khair ek laanat tha so hai ab tak,
Magar is aalam-e-wehshat mei imaanon pe kya guzri,

Yeh manzar kaun sa manzar hai pehchaana nahin jata,
Siyaah-khaanon se kuch puucho shabistaanon pe kya guzri,

Chalo woh kufr ke ghar se salaamat aa gaye lekin,
Khudaa ki mumliqat mein sokhta-jaano pe kya guzri…

तरब-ज़ारों पे क्या बीती सनम-खानों पे क्या गुज़री,
दिल-ए-ज़िंदा तेरे मरहूम अरमानों पे क्या गुज़री,

ज़मीन ने खून उगला आसमान ने आग बरसाई,
जब इंसानों के दिल बदले तो इंसानों पे क्या गुज़री,

हमें ये फ़िक्र उन की अंजुमन किस हाल में होगी,
उन्हें ये ग़म के उन से छूट के दीवानों पे क्या गुज़री,

मेरा इलहाद तो खैर एक लानत था सो है अब तक,
मगर इस आलम-ए-वहशत में ईमानों पे क्या गुज़री,

यह मंज़र कौन सा मंज़र है पहचाना नहीं जाता,
सियाह-खानों से कुछ पूछो शबिस्तानों पे क्या गुज़री,

चलो वो कुफ्र के घर से सलामत आ गए लेकिन,
खुदा की ममलिकत में सोख्ता-जानो पे क्या गुज़री…

Continue Reading

Wasi Shah – Kal hamesha ki tarah uss ne kaha yeh phone pr..

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Kal hamesha ki tarah
uss ne kaha yeh phone pr
main bohat masroof hoon
mujh ko bohat se kaam hain

Is liye tum aao milne
main to aa nahin sakta
ab har riwaayet torr kar
iss baar maine keh diya

Tum jo ho masroof to
main bhi bohat masroof hoon
tum jo ho mashoor to
main bhi bohat maroof hoon

Tum agar ghamgeen ho
main bhi bohat ranjuur hoon
tum thakkan se chuur ho
main bhi thakkan se chuur hoon

Jaane mann
hai waqt mera bhi bohat hi qeemti
kuch purane doston ne milne ana hai mujhe
main bhi ab faragh nahin
mujh ko bhi laakhon kaam hain

Warna kehne ko to sab lamhe tumhare naam hain
meri ankhen bhi bohat bojhal hain
sona hai mujhe
rat.jagon ke baad neendon main khona hai mujhe

Main lahuu apni anaaon ka
bahaa sakta nahin
tum nahin aati
to milne main bhi aa sakta nahin

Us ko yeh keh kar Wasi
maine receiver rakh diya
aur phir apni anaaa ke paaon pe
sar rakh diya..

Continue Reading
Page 2 of 3
1 2 3