15 अगस्त शायरी – 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस पर कविता

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>
15 अगस्त शायरी , 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस पर कविता और “15 अगस्त स्टेट्स” का यह पोस्ट  Indian Independence Day पर आधारित हैं.  
इसमें आप पढ़ सकते हैं, 15 अगस्त पर शायरी वॉलपेपर इमेज के साथ.   72nd India Independence day 2018 Status में. 
जैसा की आप सभी देश वासी जानते है की हमारा भारत, अंग्रेजो के हाथों गुलाम था, और अंग्रेजी हुकुमत हमेशा हिन्दुस्तानियों पर अत्याचार करती रही. 
 
और इस अत्याचार के खि़लाफ 10 मई 1857 मे सबसे पहली बार आज़ादी का बिगुल बजा. 
 
इसी के साथ देश की आजादी को लेकर ज्वाला सुलग गई और यह ज्वाला धीरे धीरे ज्वालामुखी बन गई. 
 
भारत माता की आजादी के लिए ना जाने कितने  देश के महान सपूतों ने हॅसते हॅसते अपने प्राणों की आहुति दे डाली. 
 
अंग्रेजों के खिलाफ ना जाने कितने आन्दोलन चलाये गये और एक दिन अंग्रेजी हुकुमत ने हार मान ली और भारत के महान सपूतो ने अपने देश को आजाद करा लिया अंग्रेजी हुकुमत के हाथों से.
 
15 अगस्त 1947 को अपना देश स्वतंत्र हो गया. और इस दिन भारत के पहले प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरु ने लालकिले पर राष्ट्रीय ध्वज फहरा कर स्वाधीनता का ऐलान किया.
 
और इसी के साथ हर वर्ष 15 अगस्त को देश की आजादी का जश्न मनाया जाता है पुरे भारतवर्ष में, बडे ही धूम धाम के साथ. जिसमे हर वर्ग हर धर्म के लोग शामिल होते हैं. और देश की स्वतंत्रता का यह पर्व मनाते है. 
 
और इस दिन अपने देश के खातिर बलिदान हुए शहीदों को याद करते है जिन्होने अपने प्राणों की आहुति देकर देश को आजाद कराया.
तो आईये शुरुवात करते है आज की यह देश वासियों को समर्पित इस पोस्ट की और पढ़ते है. आजादी पर शायरी को और संकल्प  लेते हैं स्वच्छ भारत, सुन्दर भारत, प्रदूषण मुक्त भारत  बनाने का.
 
दोस्तों अगर   “15 अगस्त शायरी” –  स्वतंत्रता दिवस  पर कविता  का पोस्ट पसंद आये तो  शेयर करना ना भूले अपने दोस्तों को Goole Plus, Facebook और Whatsapp पर.. जय हिन्द, जय भारत. वन्देमातरम 
1
भूल न जाना भारत मां के सपूतों का बलिदान,
इस दिन के लिए हुए थे जो हंसकर कुरबान,
आजादी की ये खुशियां मनाकर लो ये शपथ,
कि बनाएंगे देश भारत को और भी महान
 
दे सलामी इस तिरंगे को, जिस से  शान तेरी
सर हमेशा ऊँचा इसका रखना, 
जब तक जिस्म में  जान तेरी .
 
3
मैं भारत बरस का हरदम अमित सम्मान करता हूँ
यहाँ की
Continue Reading
आजादी पर 5 देश भक्ति गीत ( Desh Bhakti Geet in Hindi )

आजादी पर 5 देश भक्ति गीत ( Desh Bhakti Geet in Hindi )

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

ये देश भक्ति गीत उन शहीदों को समर्पित हैं जिन्होंने अपने लहू की बूंदों से आजाद भारत की धरती को सींचा है| इन लोकप्रिय Desh Bhakti Geet in Hindi और गानों के माध्यम से हम आजादी के उन दीवानों को नमन करते हैं जिन्होंने मातृभूमि की रक्षा के लिए हँसते हँसते अपने प्राणों की आहुति दे दी| ये सभी देश भक्ति गीत फिल्मों से और विभिन्न लेखों से लिए गये हैं –

अपनी आजादी को हम हरगिज मिटा सकते नहीं

अपनी आज़ादी को हम हरगिज़ मिटा सकते नहीं
सर कटा सकते हैं लेकिन, सर झुका सकते नहीं

हमने सदियों में ये आज़ादी की नेमत पाई है
सैकड़ों कुर्बानियां देकर ये दौलत पाई है
मुस्कुराकर खाई है सीनों पे अपने गोलियां
कितने वीरानों से गुज़रे हैं तो जन्नत पाई है
ख़ाक में हम अपनी इज़्ज़त को मिला सकते नहीं
अपनी आज़ादी…

 

क्या चलेगी ज़ुल्म की अहले वफ़ा के सामने
आ नहीं सकता कोई शोला हवा के सामने
लाख फ़ौजें ले के आए अम्न का दुश्मन कोई
रुक नहीं सकता हमारी एकता के सामने
हम वो पत्थर हैं जिसे दुश्मन हिला सकते नहीं
अपनी आज़ादी…

वक़्त की आवाज़ के हम साथ चलते जाएंगे
हर क़दम पर ज़िन्दगी का रुख बदलते जाएंगे
गर वतन में भी मिलेगा कोई गद्दारे वतन
अपनी ताकत से हम उसका सर कुचलते जाएंगे
एक धोखा खा चुके हैं और खा सकते नहीं
अपनी आज़ादी…
(वन्दे मातरम)

 

हम वतन के नौजवां हैं हमसे जो टकराएगा
वो हमारी ठोकरों से ख़ाक में मिल जाएगा
वक़्त के तूफ़ान में बह जाएंगे ज़ुल्मों-सितम
आसमां पर ये तिरंगा उम्र भर लहराएगा
जो सबक बापू ने सिखलाया भुला सकते नहीं
सर कटा सकते

जहाँ डाल-डाल पर सोने की चिड़ियां करती है बसेरा

जहाँ डाल-डाल पर
सोने की चिड़ियां करती है बसेरा
वो भारत देश है मेरा

जहाँ सत्य, अहिंसा और धर्म का
पग-पग लगता डेरा
वो भारत देश है मेरा

ये धरती वो जहाँ ऋषि मुनि
जपते प्रभु नाम की माला
जहाँ हर बालक एक मोहन है
और राधा हर एक बाला
जहाँ सूरज सबसे पहले आ कर
डाले अपना फेरा
वो भारत देश है मेरा

अलबेलों की इस धरती के
त्योहार भी है अलबेले
कहीं दीवाली की जगमग है
कहीं हैं होली के मेले
जहाँ राग रंग और हँसी खुशी का
चारो और है घेरा
वो भारत देश है मेरा

जहाँ आसमान से बाते करते
मंदिर और शिवाले
जहाँ किसी नगर मे किसी द्वार पर
कोई न ताला डाले
प्रेम की बंसी जहाँ …

Continue Reading

स्वतंत्रता दिवस पर कविता | 5+ Best Independence Day Poems in Hindi

Swatantrata Diwas Poems Hindi : Read Best Desh Bhakti Poem And Poetry For Independence Day About Freedom in Hindi. Find Great Collection Of Independence Day Poems in Hindi Fonts, Desh Bhakti Poems And Latest Swatantrata Divas Spacial Poems in Hindi Language.

Independence Day Poems in Hindi, Independence Day, स्वतंत्रता दिवस पर कविता, Swatantrata Diwas Poems Hindi,

स्वतंत्रता दिवस पर देशभक्ति की कवितायें

1. Latest poems on independence day in hindi 

 
हम नन्हें-मुन्ने हैं बच्चे,
 
आजादी का मतलब नहीं है समझते।
 
इस दिन पर स्कूल में तिरंगा है फहराते,
 
गाकर अपना राष्ट्रगान फिर हम,
 
तिरंगे का सम्मान है करते,
कुछ देशभक्ति की झांकियों से
 
दर्शकों को मोहित है करते
 
हम नन्हें-मुन्ने हैं बच्चे,
 
आजादी का अर्थ सिर्फ यही है समझते।
 
वक्ता अपने भाषणों में,
 
न जाने क्या-क्या है कहते,
 
उनके अन्तिम शब्दों पर,
 
बस हम तो ताली है बजाते।
 
हम नन्हें-मुन्ने है बच्चे,
 

आजादी का अर्थ सिर्फ इतना ही है समझते।

 
विद्यालय में सभा की समाप्ति पर,
 
गुलदाना है बाँटा जाता,
 
भारत माता की जय के साथ,
 
स्कूल का अवकाश है हो जाता,
 
शिक्षकों का डाँट का डर,
 
इस दिन न हमको है सताता,
 
छुट्टी के बाद पतंगबाजी का,
 
लुफ्त बहुत ही है आता,
 
हम नन्हें-मुन्ने हैं बच्चे,
 
बस इतना ही है समझते,
 
आजादी के अवसर पर हम,
 
खुल कर बहुत ही मस्ती है करते।।
 

…………………………………………भारत माता की जय।

 

2. Best indian independence day poems in hindi 

 
स्वतंत्रता दिवस का पावन अवसर है,
 
विजयी-विश्व का गान अमर है।
 
देश-हित सबसे पहले है,
 
बाकि सबका राग अलग है।
 
स्वतंत्रता दिवस का……………………….।
 

आजादी के पावन अवसर पर,

 
लाल किले पर तिरंगा फहराना है।
 
श्रद्धांजलि अर्पण कर अमर ज्योति पर,
 
देश के शहीदों को नमन करना है।
 
देश के उज्ज्वल भविष्य की खातिर,
 
अब बस आगे बढ़ना है।
 
पूरे विश्व में भारत की शक्ति का,
 
नया परचम फहराना है।
 
अपने स्वार्थ को पीछे छोड़ककर,
 
राष्ट्रहित के लिए लड़ना है।
 
बात करे जो भेदभाव की,
 
उसको सबक सिखाना है।
 
स्वतंत्रता दिवस का पावन अवसर है,
 
विजयी विश्व का गान अमर है।
 
देश हित सबसे पहले है,
 
बाकी सबका राग अलग है।।
 
…………………………जय हिन्द जय भारत।
 

3. Desh bhakti poems in hindi by rabindranath tagore 

 
15 अगस्त का दिन है आया,
 
लाल किले पर तिरंगा है फहराना,
 
Continue Reading
shayarisms4lovers June18 276 - ज़माने ने मुझे चोट दी है – दुःख व् गहराई भरी कविता

ज़माने ने मुझे चोट दी है – दुःख व् गहराई भरी कविता

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

चले हैं लोग मैं रस्ता हुआ हूं
मुद्दत से यहीं ठहरा हुआ हूं

ज़माने ने मुझे जब चोट दी है
मैं जिंदा था नहीं जिंदा हुआ हूं

मैं पहले से कभी ऐसा नहीं था
मैं तुमको देखकर प्यारा हुआ हूं

मैं कागज सा न फट जाऊं
ए लोगो उठाओ ना मुझे भीगा हुआ हूं

मेरी तस्वीर अपने साथ लेना
अभी हालात से सहमा हुआ हूं

कभी आओ इधर मुझको समेटो
मैं तिनकों सा कहीं बिखरा हुआ हूं

चलो अब पूछना तारों की बातें
अभी मैं आसमां सारा हुआ हूं

मुसलसल बात तेरी याद आई गया
वो वक़्त मैं उलझा हुआ हूं

बुरा कोई नहीं होता जन्म से
मुझे ही देख लो कैसा हुआ हूं

ज़माने ने मुझे जितना कुरेदा
मैं उतना और भी गहरा हुआ हूं

~ सुरेश सांगवान (saru)…

Continue Reading

ए माँ, आ, सीने से लगाके इस दिल को राहत दे दे

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

ए माँ तेरी याद बहुत आती हैं हमे
अब तो तेरी दुआएं ही बचाती हैं हमे
अपने क़दमों की हमे जन्नत दे दे..
सीने से लगाके इस दिल को राहत दे दे

हम सबको अकेला तू क्यों छोड़ गयी
अपने बच्चों का दिल क्यों तोड़ गयी
आ माँ हम सब को वो चाहत दे दे
सीने से लगाके इस दिल को राहत दे दे

ए – माँ तेरी जुदाई, अब अक्सर रुलायेगी
तेरा गुस्सा करना, तेरी वो बातें अब सताएगी
ए माँ हमे अपनी ममता की दौलत दे दे
सीने से लगाके इस दिल को राहत दे दे

अब साया कौन सा ठहरेगा सर पर
कैसे आएगी अब रौनक घर पर
ए माँ, आ हमे जीने की हसरत दे दे
सीने से लगाके इस दिल को राहत दे दे

-Azeem

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 22 - Sad Shayari, kisi ka gam apna banane ko jee karta hai

Sad Shayari, kisi ka gam apna banane ko jee karta hai

आज फिर
किसी का गम, अपना बनाने को जी करता है,
किसी को दिल में, बिठाने को जी करता है,
आज दिल को क्या हुआ, खुदा जाने,
बुझती हुई शमा, फिर जलाने को जी करता है,
आफतों ने, जर्जर कर दिया घर मेरा,
उसकी दरोदीवार, फिर सजाने को जी करता है,
एक मुद्दत गुज़री, जिसका साथ छूटा,
आज फिर, उसका साथ पाने को जी करता है!
💕💕

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 250 - Chand – Ajay

Chand – Ajay

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

गंगा की शांत सतह पे वो एकादसी का चंद्रमा
घाटों पे लगा वो नौंको का डेरा
सीढ़ियों पे बैठे हम भी कुछ शांत से ही है
लेकिन मन को है पानी के लथेड़ों ने घेरा
मेरा मन भी है गंगा की गहराइयां लिए
बाते बहुत सी दबी है अंगड़ाइयाँ लिए…
मैं भी वो चाँद होना चाहता हूँ ,
खुला आसमान होना चाहता हूँ ,
फिर मन में एक ख्याल आया कि
चाँद भी तो है आकाश में तनहाइयाँ लिए ।
दूर उस पार एक छोटी सी रोशनी नज़र आ रही है
धुंध के बीच कुछ धुंधली सी नज़र आ रही है
फिर भी बार-बार नज़रे वही जा रहीं है
क्योंकि वही तो एक चीज़ है
जो उस पार से भी अँधेरो को चीरती हुई आ रही है ।
शायद ये रोशनी होना ही सही होगा
गम रूपी अँधेरो को चीरना ही सही होगा
चाँद से उसकी चाँदनी को उधार लेके
सितारों में खुद को खोजना ही सही होगा ।…

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 175 - Khud kiTalash Abhi baki hai – Chanchal

Khud kiTalash Abhi baki hai – Chanchal

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

खुद की तलाश मे भटकती सी “मैं ”
अनगिनत, अनन्त, असीम सवालो के संग!
न जाने किस अधूरे पन को भरती सी- मैं |

कई रिश्ते, जज्बात, रास्ते,
और मंजिलों से गुजरती सी मैं |
न जाने कितने एहसासों मै संवरती बिखरती सी “मैं ”

कहा किस डगर किधर जा रही हूँ |
क्या है? मेरा,
जिसे कभी खो रही हूँ |
तो कभी पा रही हूँ।

जीवन का छोर,
न जाने कब कहां कैसा है?
पर
इस नामालूम “मैं ” को
जीवन भटकाव की भूलभुलैया में
इतना तो मालूम हो गया कि
अच्छा – बुरा, काम – निश्चय ही
जीवन है,

और
शायद यही जीवन-दिशा हूँ
” मैं “।…

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 78 - Hindi Poem on Tere Dil Mein

Hindi Poem on Tere Dil Mein

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

अभी नादाँ हु इश्क में, जताऊ कैसे,
प्यार कितना है, तुमसे बताऊ कैसे..

बहुत चाहत है, दिल में तुम्हारे लिये,
तुम ही कहो, तुम्हें अपना बनाऊ कैसे..

जो अगन मेरे दिल में है, तुम्हारे लिये,
वही आग तेरे दिल में भी, जलाऊ कैसे..…

Continue Reading

सेठ और ठग – Motivational Short Story in Hindi

Thag aur seth - सेठ और ठग – Motivational Short Story in Hindi

एक बार की बात है , एक बहुत बड़े सेठ जी हीरो मोतियों का ब्यापार करते थे ।

और अक्सर ब्यापार के लिए देश विदेश जाया करता थे । कभी इस शहर कभी उस शहर …!!

एक बार की बात है , सेट जी ऐसे ही ब्यापार यात्रा कर रहे थे ।

तो उनको एक ठग ने देख लिया और सेठ जी का पीछा करने लगा ।

जिस जहाज़ में सेठ जी यात्रा कर रहे थे , ठग ने भी उसी जहाज़ का टिकट ले कर सवार हो गया और सेठ जी के साथ यात्रा करने लगा ।

दो दिन की यात्रा थी , सेठ जी थोड़े परेशान थे की ठग ने उन्हें देख लिया है ।

ठग ने सोचा की आज रात को वो सेठ जी के हीरे चुरा लेगा ।

ठग मन ही मन योजना बना रहा था ।

उस रात ठग जल्दी सो गया ताकि रात को जब सेठ जी गहरी नींद सो रहे होंगे , तो जल्दी उठ कर सेठ जी के हीरे चुरा लूंगा ।

सेठ जी इस बात को सोच कर चिंतित थे की हीरे साथ लेके कैसे सोया जाये .. ठग का खतरा था ।

सेठ जी ने बहुत सोचा और हीरे सोते हुए ठग के कुर्ते की जेब में छुपा दिए ….. और सेठ जी बापिस अपने बिस्तर पर आराम से सो गए ।

देर रात ठग जगा उठा और और हीरे ढूंढ़ने लगा ।

उसने हीरे सब जगह तलाश किये हर तरफ ढूंढा पर उसे हीरे कहीं नहीं मिले ।

ठग थक हार कर बापिस सो गया ….

अगले दिन सेठ जी उस देश पहुँच गए जहा उन्हें जाना था ।

सेठ जी खशी ख़ुशी जहाज़ से उतरे और जाने लगे……

ठग सेठ जी के पीछे दौड़ा और पास जा कर के सेठ जी से बड़ी बिनम्रता से सवाल किया ।

सेठ जी मैं तो एक ठग हूँ , और आपके हीरे चुराना चाहता था ।

परन्तु मैं आपसे एक सवाल पूछू…… सेठ जी मुस्कुराये और बोले पूछो भाई ।

तो ठग बोला….. वो अपने हीरे कहाँ छुपाये थे ।

सेठ जी हँसे और बोले , मैं तुम्हे पहचान गया था और मैंने वो हीरे तुम्हारे कुर्ते की जेब मैं छुपा दिया थे ।

तुमने हर जगह ढूंढा पर अपनी जेब नहीं देखी , जो तुम्हे चाहिए था वो तो तेरे पास ही था , और उस चीज़ को तुम बाहर ढूंढ रहे थे ।

ठग ने सेठ जी से क्षमा …

Continue Reading
shayarisms4lovers may18 41 - तेरे वादे पर सितमगर – Daag Dehlvi

तेरे वादे पर सितमगर – Daag Dehlvi

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

तेरे वादे पर सितमगर अभी और सब्र करते

अजब अपना हाल होता जो विसाल-ऐ-यार होता
कभी जान सदके होती कभी दिल निसार होता

न मज़ा है दुश्मनी में न है लुत्फ़ दोस्ती में
कोई गैर गैर होता कोई यार यार होता

यह मज़ा था दिल्लगी का के बराबर आग लगती
न तुम्हें क़रार होता न हमें क़रार होता

तेरे वादे पर सितमगर अभी और सब्र करते
अगर अपनी ज़िन्दगी का हमें ऐतबार होता

Tere Waade Par Sitamgar Abhi Aur Sabr Karte

Ajab Apna Haal Hota Jo Visaal-AE-Yaar Hota
Kabhi Jaan Sadqe Hoti Kabhi Dil Nisaar Hota

Na Mazaa Hai Dushmani Main Na Hai Lutf Dosti Main
Koi Gair Gair Hota Koi Yaar Yaar Hota

Ye Mazaa Tha Dillagi Ka Ke Barabar Aag Lagti
Na Tumhen Qaraar Hota Na Hamein Qaraar Hota

Tere Waade Par Sitamgar Abhi Aur Sabr Karte
Agar Apni Zindagi Ka Hamein Aitbaar Hota…

Continue Reading

15 Best and Beautiful Poems on Diwali

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

You would be wondering what does Diwali have to do with poems. Well these beautiful poems on Diwali 2017 will increase your enthusiasm of celebrating the festival. I hope you would like these poems on Diwali 2017. Below poems contains some folk Diwali poems also. You can also sing these Diwali poems with your friends and also in Diwali fest or functions organized in schools, colleges and societies. People will surely enjoy these Poems on deepavali 2017. I am pretty sure that you could share these Poems on Diwali 2017 and they would ask for more.
Best Poems on Diwali 2017 for you folks :

1. Deepavali

The clear blue sky,The scent of flowers,
The colours of Rangoli,
And the sound of crackers.The gifts and sweets from dear ones,
And the getting of their love,
The light of the candles below,
And the dazzling fireworks up above.Lighting lamps at our homes,
Making the less fortunate smile,
Putting on new apparels,
Show our friends some style.Paying respects to the gods,
And decorating for them the thali,
This is what the occasion is all about,
This is the spirit of Deepavali.

2. Happy Diwali

It’s the “Festival of Lights” today,
It’s again the day of Diwali,
It’s time to dress up folks,
It’s time to adorn the thali.It’s the occasion to throng the temples,
Pray to the Gods and give them offerings,
It’s an opportunity to entreat the deities,
To bless us all and rid us of sufferings.It’s the day to light the diyas,
Ignite the rockets and burst crackers,
But it’s also the time to be safe,
From the fireworks and all the sparklers.It’s the season to pay a visit,
To all our friends and relations,
To hand them over sweets and presents,
Diwali is our splendid chance.But while you spend a time of joy,
Don’t think it’s merriment all the way,
Out there wait many of those,
For whom it’s no time to be gay.Denied of laughter and smiles for days,
They know not what it is to enjoy,
Can you not share something you have,
Can you not bring them a little joy?When you can make someone else smile
When you can be someone’s ally
That’s when you can yourself be glad
That’s when you’ll have a HAPPY DIWALI!

3. Anubhav Paripakva

Anubhav Paripakva Diwali Poem
Anubhav Paripakva Diwali Poem

4. Chiraag

5. Deep Ek Jalta Rahe

6. Diwali

Continue Reading

Motivational Diwali Poem in Hindi for The Indians

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

जगमग दिये की तरह, जलते रहो तुम सारी उम्र
मन में छुपे अंधेरों को, खलते रहो तुम सारी उम्र

रौशनी की रात आई है, खुशियों की सौगात लाई है
देखो आज ज़मीन पर यूँ, सितारों की बारात आई है

दिवाली के पटाखों की तरह, दर्द के छाले फोड़ दो
हो बुराई जितनी भी मन में, आज तुम सब छोड़ दो

आओ बनाएं एक नया जहां, ना रहे कोई मजबूर जहाँ
जगमगाते रहे यूँही हम सब, दुखों का हो फिर दूर जहां

दीपावली के मौके पर, स्वच्छता की शपथ ले हम
अपने प्यारे भारतवर्ष में, एकता की शपथ ले हम…

Continue Reading

Best Hindi Shayari on Love , Life Download 2018

आज कल किसी को आजमाता नहीं हूँ मैं
पास अपने भी किसी को बिठाता नहीं हूँ मैं
ख्वाब में भी कहीं बेवफाई उसकी न दिखे
इस लिए आँखों को कभी सुलाता नहीं हूँ मैं I

O O O

मुझे आईने की ज़रूरत नहीं है

मैं तेरी निगाहों में रहना हूँ चाहता

ना कर पाए कोई जुदा हमको हमदम

मैं हरदम तुझे अपना कहना हूँ चाहता ।

O O O

कहने को तो अच्छी लगती हैं ये बातें
मगर जो सहता है वही जानता है दोस्त
हमने सबको आज़माकर देखा है यहाँ
कौन किसी को अपना मानता है दोस्त |

O O O

ज़िन्दगी के तमाम लन्हों को जियो तुम
हर एक लम्हा खुशी के घुट पियो तुम
निकले सचिन के दिल से सदा यही दुआ
अपने दोस्तों के हर जख़्म को सियो तुम I

O O O

आपकी इन्हीं अदाओं ने किया बेकरार हमे’
तभी रहता है सदा आपका इंतज़ार हमें,
अपने दिल क्रो रखना ऐसे ही पाक सनम
गैर समझो काबिल कर लेना प्यार हमेँ ।

O O O

मैं केसे ये कह दूँ वो क्या चाहता था
बात अपनी ही तुम्हें मैँ कह सकता हूँ
मुझे भूल कर गर. गुजारा है उसका
बिन उसके फिर मैं भी तो रह सकता हूँ ।

O O O

ये रहा वादा कि सब कुछ सहेगे हम
अब न किसी से कुछ भी कहेंगे हम
लोगों के दिलो’ में अब रहना छोड़ कर
मुर्दों कौ बस्ती में मुर्दा रहेंगे हम ।

O O O

तेरे प्यार की कस्म मिटा सकता हूँ खुद को
तुम कहो तो सही हालत बदल दूँगा
कमी है तो सिर्फ तुम्हारी तरफ से
कर लो इकरार दिन-रात बदल दूगा ।

O O O

जिस दिन मौत आएगी करीब मेरे
उस दिन यारो ईद मनाऊँगा मै
भले जीवन बिताया मैंने रोते हुए
मगर हँसते हुए जग से जाऊँगा मै ।

लोग पूछते हैं सवालात आपके बारे में
आप भी होते पास तो अच्छा होता
ये जमाने को हरगिज़ न होगा गवारा
न जाहिर होते तालूकात तो अच्छा होता ।

Best Hindi Shayari

O O O

तुमसे इतनी सी इल्तज़ा है मेरी
तुम किसी को भी दगा मत देना
ज़िन्दगी लौटकर नहीं आती
तुम भी ‘ओमपाल’ को सदा मत देना ।

O O O

आपसे प्यारा कोई देखा ही नहीं
ये इकरार करने हैं हम तो सनम
सिर्फ जिस्मों की बातें नहीं करता “सचिन”
दिल से प्यार करते हैं हम तो सनम |

O O O

बाद तेरे जाने के देख
यादों का …

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 02 - मुहब्बत की जुबान

मुहब्बत की जुबान

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

मुहब्बत की जुबान

यहां तक आये हो कुछ ज़ुबान से कह दो
लफ्ज़ मुहब्बत नहीं कह सकते सलाम तो कह दो

पलकें तो उठाओ अपनी इतनी भी हया कैसी
ज़ुबान से नहीं कुछ कहते निगाह से ही कह दो

दिल को यकीन आये कहदो आप हमारे हो
अपने लिखे खतों का जवाब साथ लाए हो

खत में तो तुम ने हर बात लिख दी
आये हो तो मुस्कुरा कर इक़रार भी कर दो

माना की तारीफ से बढ़ कर ग़ज़ल तुम हो
जुम्बिश लबों को कह अपनी तक़दीर हमें कह दो

Mohabbat ki Juban

ahan tak aaye ho kuch zuban se keh do
lafz muhabbat nahi keh saktay salam to keh do

palkain to uthao apni etni bhi haya kaisi
zuban se nahi kuch kehte nighah se hi keh do

dil ko yaqeen aaye keh aap hamare ho
apne likhe khaton ka jawab sath laye ho

khat mein to tum ne har baat likh di
aaye ho to muskura kar iqraar bhi kar do

mana keh tareef se barh kar ghazal tum ho
jumbish labon ko keh apni taqdeer hamain keh do…

Continue Reading
Page 1 of 4
1 2 3 4