shayarisms4lovers June18 276 - ज़माने ने मुझे चोट दी है – दुःख व् गहराई भरी कविता

ज़माने ने मुझे चोट दी है – दुःख व् गहराई भरी कविता

चले हैं लोग मैं रस्ता हुआ हूं मुद्दत से यहीं ठहरा हुआ हूं ज़माने ने मुझे जब चोट दी है मैं जिंदा था नहीं जिंदा हुआ हूं मैं पहले से कभी ऐसा नहीं था मैं तुमको देखकर प्यारा हुआ हूं मैं कागज सा न फट जाऊं ए लोगो उठाओ ना मुझे भीगा हुआ हूं मेरी […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 199 - ए माँ, आ, सीने से लगाके इस दिल को राहत दे दे

ए माँ, आ, सीने से लगाके इस दिल को राहत दे दे

ए माँ तेरी याद बहुत आती हैं हमे अब तो तेरी दुआएं ही बचाती हैं हमे अपने क़दमों की हमे जन्नत दे दे.. सीने से लगाके इस दिल को राहत दे दे हम सबको अकेला तू क्यों छोड़ गयी अपने बच्चों का दिल क्यों तोड़ गयी आ माँ हम सब को वो चाहत दे दे […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 22 - Sad Shayari, kisi ka gam apna banane ko jee karta hai

Sad Shayari, kisi ka gam apna banane ko jee karta hai

आज फिर किसी का गम, अपना बनाने को जी करता है, किसी को दिल में, बिठाने को जी करता है, आज दिल को क्या हुआ, खुदा जाने, बुझती हुई शमा, फिर जलाने को जी करता है, आफतों ने, जर्जर कर दिया घर मेरा, उसकी दरोदीवार, फिर सजाने को जी करता है, एक मुद्दत गुज़री, जिसका […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 250 - Chand – Ajay

Chand – Ajay

गंगा की शांत सतह पे वो एकादसी का चंद्रमा घाटों पे लगा वो नौंको का डेरा सीढ़ियों पे बैठे हम भी कुछ शांत से ही है लेकिन मन को है पानी के लथेड़ों ने घेरा मेरा मन भी है गंगा की गहराइयां लिए बाते बहुत सी दबी है अंगड़ाइयाँ लिए… मैं भी वो चाँद होना […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 175 - Khud kiTalash Abhi baki hai – Chanchal

Khud kiTalash Abhi baki hai – Chanchal

खुद की तलाश मे भटकती सी “मैं ” अनगिनत, अनन्त, असीम सवालो के संग! न जाने किस अधूरे पन को भरती सी- मैं | कई रिश्ते, जज्बात, रास्ते, और मंजिलों से गुजरती सी मैं | न जाने कितने एहसासों मै संवरती बिखरती सी “मैं ” कहा किस डगर किधर जा रही हूँ | क्या है? […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 78 - Hindi Poem on Tere Dil Mein

Hindi Poem on Tere Dil Mein

अभी नादाँ हु इश्क में, जताऊ कैसे, प्यार कितना है, तुमसे बताऊ कैसे.. बहुत चाहत है, दिल में तुम्हारे लिये, तुम ही कहो, तुम्हें अपना बनाऊ कैसे.. जो अगन मेरे दिल में है, तुम्हारे लिये, वही आग तेरे दिल में भी, जलाऊ कैसे..

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 199 - सेठ और ठग – Motivational Short Story in Hindi

सेठ और ठग – Motivational Short Story in Hindi

एक बार की बात है , एक बहुत बड़े सेठ जी हीरो मोतियों का ब्यापार करते थे । और अक्सर ब्यापार के लिए देश विदेश जाया करता थे । कभी इस शहर कभी उस शहर …!! एक बार की बात है , सेट जी ऐसे ही ब्यापार यात्रा कर रहे थे । तो उनको एक […]

Continue Reading
shayarisms4lovers may18 41 - तेरे वादे पर सितमगर – Daag Dehlvi

तेरे वादे पर सितमगर – Daag Dehlvi

तेरे वादे पर सितमगर अभी और सब्र करते अजब अपना हाल होता जो विसाल-ऐ-यार होता कभी जान सदके होती कभी दिल निसार होता न मज़ा है दुश्मनी में न है लुत्फ़ दोस्ती में कोई गैर गैर होता कोई यार यार होता यह मज़ा था दिल्लगी का के बराबर आग लगती न तुम्हें क़रार होता न […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 199 - Motivational Diwali Poem in Hindi for The Indians

Motivational Diwali Poem in Hindi for The Indians

जगमग दिये की तरह, जलते रहो तुम सारी उम्र मन में छुपे अंधेरों को, खलते रहो तुम सारी उम्र रौशनी की रात आई है, खुशियों की सौगात लाई है देखो आज ज़मीन पर यूँ, सितारों की बारात आई है दिवाली के पटाखों की तरह, दर्द के छाले फोड़ दो हो बुराई जितनी भी मन में, […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 199 - Best Hindi Shayari on Love , Life Download 2018

Best Hindi Shayari on Love , Life Download 2018

आज कल किसी को आजमाता नहीं हूँ मैं पास अपने भी किसी को बिठाता नहीं हूँ मैं ख्वाब में भी कहीं बेवफाई उसकी न दिखे इस लिए आँखों को कभी सुलाता नहीं हूँ मैं I O O O मुझे आईने की ज़रूरत नहीं है मैं तेरी निगाहों में रहना हूँ चाहता ना कर पाए कोई […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 02 - मुहब्बत की जुबान

मुहब्बत की जुबान

मुहब्बत की जुबान यहां तक आये हो कुछ ज़ुबान से कह दो लफ्ज़ मुहब्बत नहीं कह सकते सलाम तो कह दो पलकें तो उठाओ अपनी इतनी भी हया कैसी ज़ुबान से नहीं कुछ कहते निगाह से ही कह दो दिल को यकीन आये कहदो आप हमारे हो अपने लिखे खतों का जवाब साथ लाए हो […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 220 - बरसों के इंतज़ार का अंजाम लिख दिया

बरसों के इंतज़ार का अंजाम लिख दिया

बरसों के इंतज़ार का अंजाम लिख दिया बरसों के इंतज़ार का अंजाम लिख दिया काग़ज़ पे शाम काट के फिर शाम लिख दिया बिखरी पड़ी थी टूट के कलियाँ ज़मीन पर तरतीब दे के मैंने तेरा नाम लिख दिया आसान नहीं थी तर्क -ऐ -मुहब्बत की दास्ताँ दो आंसूओं ने आखरी पैग़ाम लिख दिया अल्लाह […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 166 - वक़्त के साथ गर हम भी बदल जाते तो अच्छा था

वक़्त के साथ गर हम भी बदल जाते तो अच्छा था

वक़्त के साथ गर हम भी बदल जाते तो अच्छा था … बहुत अरमान थे दिल में निकल जाते तो अच्छा था … न शीशे के रह पाये न पत्थर के हो पाये … किसी अच्छे से साँचे में जो ढल जाते तो अच्छा था … गिरे तो यूँ गिरे के गिराया सब ने नज़रों […]

Continue Reading