shayarisms4lovers mar18 206 - Love Shayari - Mera dil jis par fida hai

Love Shayari – Mera dil jis par fida hai

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Mera dil jis par fida hai
Vohi mujh se juda hai

Main ne kab kaha ke tanha hoon
Mere sath mera khuda hai

Main kyon naa usey pyar karun
Wo mere dil ki nida hai

Us se bichad kar yun lagta hai
Jaise yeh jeevan ik saza hai

Wo jahan bhi rahe khush rahe
Asghr ke dil ki yehi dua hai…

– M. Asghar Mirpuri

मेरा दिल जिस पर फिदा है
वोही मुझ से जुड़ा है

मैं ने कब कहा के तन्हा हूँ
मेरे साथ मेरा खुदा है

मैं क्यों ना उसे प्यार करूँ
वो मेरे दिल की निदा है

उस से बिछड़ कर यूँ लगता है
जैसे यह जीवन इक सज़ा है

वो जहाँ भी रहे खुश रहे
असग़र के दिल की यही दुआ है…

– म. असग़र मीरपुरी…

Continue Reading
Urdu Shayari - Agar Tujhey Nafrat Mere Naam Se Hai

Urdu Shayari – Agar Tujhey Nafrat Mere Naam Se Hai

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Agar Tujhey Nafrat Mere Naam Se Hai
Phir Kyon Mohabbat Mere Klaam Se Hai

Jis Ka Mashgla Tha Auron Ko Dukh Dena
Aaj Wo Udas Ghamon Ki Shaam Se Hai

Mohabbat Mein Kisi Tafreeq Ke Hum Nahi Qaabil
Humein To Mohabat Khaas-O-Aam Se Hai

Jis Ki Deed Ko Aankhein Tarash Rahi Hain
Usey Na Fursat Apne Kaam Se Hai

Hum Ne Mohabbat Ka Agaaz To Kar Diya Asghar
Hume Na Koi Garaz Anjaam Se Hai

– M.Asghar Mirpuri

अगर तुझे नफ़रत मेरे नाम से है
फिर क्यों मोहब्बत मेरे क्लां से है

जिस का मशगला था औरों को दुख देना
आज वो उदास घामों की शाम से है

मोहब्बत में किसी तफ़्रीक़ के हम नही क़ाबिल
हूमें तो मोहबत ख़ास-ओ-आम से है

जिस की डीड को आँखें तराश रही हैं
उसे ना फ़ुर्सत अपने काम से है

हम ने मोहब्बत का आगाज़ तो कर दिया अस्घर
ह्यूम ना कोई गाराज़ अंजाम से है

– म.अस्घर मीरपुरी…

Continue Reading
Urdu Shayari - Jab Se Uske Husan Pe Padi Hai Nazar

Urdu Shayari – Jab Se Uske Husan Pe Padi Hai Nazar

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Jab Se Uske Husan Pe Padi Hai Nazar
Main Ho Gya Hoon Apni Hasti Se Bekhabar

Meri Duaon Ka Kuch Aisa Hua Hai Asr
Mujhey Mil Gya Hai Mere Khawabon Ka Pekar

Uske Pyar Ne Mujhe Zare Se Aaftab Bana Diya
Main Ban Gya Hoon Qatre Se Samundar

Mere Jism Mein Wo Basi Hai Rooh Ki Tarah
Aisa Ashyana Chhod Kar Wo Jaye Gi Kidhar

Pyar Ki Raahon Mein Sambhal Kar Chalta Hoon
Suna Hai Yeh Raaste Hein Bade Purkhatar

– M.Asghar Mirpuri

जब से उसके हुसान पे पड़ी है नज़र
मैं हो गया हूँ अपनी हस्ती से बेख़बर

मेरी दुआओं का कुछ ऐसा हुआ है अस्र
मुझे मिल गया है मेरे खवाबों का पेकर

उसके प्यार ने मुझे ज़रे से आफताब बना दिया
मैं बन गया हूँ क़तरे से समुंदर

मेरे जिस्म में वो बसी है रूह की तरह
ऐसा अश्यना छ्चोड़ कर वो जाए गी किधर

प्यार की राहों में संभाल कर चलता हूँ
सुना है यह रास्ते हाइन बड़े पुरखतर

– म.अस्घर मीरपुरी…

Continue Reading
shayarisms4lovers may18 36 - Life shayari - Pardes mein zindagi

Life shayari – Pardes mein zindagi

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Pardes mein zindagi kaise basar hoti hai,
Iss baat ki musafir ko hi khabar hoti hai,

Jab hum ek doosre se mil nahi sakte,
Jo haalat idhr hoti hai wohi udhr hoti hai,

Main har pal apni mohabbat ka izahar nahi karta,
Bar-bar kahi jaane waali baat ki na qadar hoti hai,

Kaun pyara humein duaon mein yaad rakhta hai,
Hichki aate hi iss baat ki khabar hoti hai,

Do waqat ki roti se zyada ka lalach nahi karte,
Thode mein bhi apni acchi basar hoti hai…

– M. Asghar Mirpuri

परदेस में ज़िन्दगी कैसे बसर होती है,
इस बात की मुसाफिर को ही खबर होती है,

जब हम एक दुसरे से मिल नहीं सकते,
जो हालात इधर होती है वही उधर होती है,

मैं हर पल अपनी मोहब्बत का इज़हार नहीं करता,
बार-बार कही जाने वाली बात की ना क़दर होती है,

कौन प्यारा हमें दुआओं में याद रखता है,
हिचकी आते ही इस बात की खबर होती है,

दो वक़्त की रोटी से ज़्यादा का लालच नहीं करते,
थोड़े में भी अपनी अच्छी बसर होती है…

– म. असग़र मीरपुरी

Continue Reading
shayarisms4lovers may18 80 - Life shayari - Dil ke andar veerana

Life shayari – Dil ke andar veerana

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Hum kuch aise deewane hain,
Jo khud se begaane hain,

Dastan-e-laila majnu na suna,
Yeh qisse to bade purane hain,

Logon ke labon pe ab,
Humaare naam ke afsane hain,

Duniya ki ronqein raas hain,
Dil ke andar veerane hain,

Mere qatl mein jo malawas they,
Wo hath asghr ke jane pechane hain…

– M. Asghar Mirpuri

हम कुछ ऐसे दीवाने हैं,
जो खुद से बेगाने हैं,

दास्ताँ-ए-लैला मजनू ना सुना,
यह किस्से तो बड़े पुराने हैं,

लोगों के लबों पे अब,
हमारे नाम के अफ़साने हैं,

दुनिया की रोकए रास हैं,
दिल के अंदर वीराने हैं,

मेरे क़त्ल में जो मलवास थे,
वो हाथ असग़र के जाने पहचाने हैं…

– म. असग़र मीरपुरी

Continue Reading

Sad Shayari – Yahan udaas hain hum

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Yahan udaas hain hum,
Wahan khush ho tum,

Tumhare labon pe hansi,
Hamaari ankhen hain nam,

Tumaari kismat mein khushi,
Hamare muqaddar mein ghum,

Tumhaare sath sara zamana,
Hamare sath ranj-o-aalm,

Tumaare paas har nehamat,
Hamare daman mein pech-o-kham…

– M. Asghar Mirpuri

यहाँ उदास हैं हम,
वहाँ खुश हो तुम,

तुम्हारे लबों पे हँसी,
हमारी आँखें हैं नम,

तुम्हारी किस्मत में खुशी,
हमारे मुक़द्दर में ग़म,

तुम्हारे साथ सारा ज़माना,
हमारे साथ रंज-ओ-आलम,

तुम्हारे पास हर नेहमत,
हमारे दामन में पेच-ओ-ख़म…

– म. असग़र मीरपुरी

Continue Reading

Sad Shayari – Mere dil mein jis shakhs ka qyaam hai

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Mere dil mein jis shakhs ka qyaam hai dosto,
Meri nazar mein uska bahut uncha maqaam hai dosto,

Humaari mohabbat ki duniya ko khabar hone lagi hai,
Aajkal humaare pyar ka charcha aam hai dosto,

Khuda kare usey meri bhi sabhi khushiyan mil jayein,
Mere sath uske gham ki shaam hai dosto,

Ab to kisi se baat karna accha nahi lagta,
Din raat honthon pe usi ka naam hai dosto,

Asghr ko gham dene waley tu sadaa khush rah,
Uske liye mera yehi aakhri paigham hai dosto…

– M.Asghar Mirpuri

मेरे दिल में जिस शख्स का क़याम है दोस्तो,
मेरी नज़र में उसका बहुत उँचा मक़ाम है दोस्तो,

हमारी मोहब्बत की दुनिया को खबर होने लगी है,
आजकल हुमारे प्यार का चर्चा आम है दोस्तो,

खुदा करे उसे मेरी भी सभी खुशियाँ मिल जायें,
मेरे साथ उसके ग़म की शाम है दोस्तो,

अब तो किसी से बात करना अच्छा नही लगता,
दिन रात होंठों पे उसी का नाम है दोस्तो,

असगर को ग़म देने वाले तू सदा खुश रह,
उसके लिए मेरा यही आखरी पैग़ाम है दोस्तो…

– म. असग़र मीरपुरी…

Continue Reading
shayarisms4lovers may18 10 - Sad Shayari - Teri yaad mein beqraar hai dil

Sad Shayari – Teri yaad mein beqraar hai dil

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Teri yaad mein beqraar hai dil,
Phir dhokka khane ko tyaar hai dil,

Ab yahan kisi ka guzar nahi hota,
In dino ik ujda hua dyaar hai dil,

Rota hai to ankhon se khoon rista hai,
Kisi ki mohabbat mein giraftar hai dil,

Kuch deir teri yaad se gafil ho gya tha,
Ab to har pal rehta behdaar hai dil,

Teri judai mein ro-ro ke yeh haal hai,
Ab asghar ki tarah rehta beemar hai dil…

– M. Asghar Mirpuri

तेरी याद में बेक़रार है दिल,
फिर धोखा खाने को तैयार है दिल,

अब यहाँ किसी का गुज़र नही होता,
इन दिनों इक उजड़ा हुआ दयार है दिल,

रोता है तो आँखों से खून रिसता है,
किसी की मोहब्बत में गिरफ्तार है दिल,

कुछ देर तेरी याद से गाफिल हो गया था,
अब तो हर पल रहता बेहदार है दिल,

तेरी जुदाई में रो-रो के यह हाल है,
अब असग़र की तरह रहता बीमार है दिल…

– म. असग़र मीरपुरी…

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 196 - Sad Shayari - Zulfon ko jab wo sanwaare nikle

Sad Shayari – Zulfon ko jab wo sanwaare nikle

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Zulfon ko jab wo sanwaare nikle,
Din me aasman pe sitaare nikle,

Dil ke phool khilne hi wale they,
Raqeeb haton me lekar aarey nikle,

Un ki yaadon ko apne sath lekar,
Ghar se hum hijhr ke maare nikle,

Mohabbat to tum ne bhi ki thi jaanam,
Magar ishq mein saare jurm humaare nikle,

Unki gali mein jane ka koi bahana na tha,
Aaj asghar bhi hathon mein lekar gubaare nikle…

– M.Asghar Mirpuri

ज़ुल्फ़ों को जब वो संवारे निकले,
दिन में आसमान पे सितारे निकले,

दिल के फूल खिलने ही वाले थे,
रक़ीब हाथों मे लेकर आरे निकले,

उन की यादों को अपने साथ लेकर,
घर से हम हीझर के मारे निकले,

मोहब्बत तो तुम ने भी की थी जानम,
मगर इश्क़ में सारे जुर्म हमारे निकले,

उनकी गली में जाने का कोई बहाना ना था,
आज असग़र भी हाथों में लेकर गुबारे निकले…

– म. असग़र मीरपुरी

Continue Reading
shayarisms4lovers may18 62 - Sad Shayari - Wo mere masoom dil ki sda

Sad Shayari – Wo mere masoom dil ki sda

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Wo mere masoom dil ki sda thi,
Khuda se maangi hui koi dua thi,

Apni zindgi se badh kar chaha usey,
Yeh mere pyar ki inteha thi,

Salaam bhejti thi mujhey hawa ki zubani,
Yun lagta tha jaise wo baad-e-saba thi,

Kya kahon uski sheerni e guftaar ka,
Kaano mein ras gholti uski nida thi,

Main he uska sath na nibha saka,
Varna wo ik moort-e-wafa thi,

Na jane kaise bhulaunga usey asghar,
Jis ki har ada zamane se juda thi…

– M. Asghar Mirpuri

वो मेरे मासूम दिल की सदा थी,
खुदा से माँगी हुई कोई दुआ थी,

अपनी ज़िंदगी से बढ़ कर चाहा उसे,
यह मेरे प्यार की इंतेहा थी,

सलाम भेजती थी मुझे हवा की ज़ुबानी,
यूँ लगता था जैसे वो बाद-ए-सबा थी,

क्या कहूँ उसकी शेरनी-ए-गुफ़्तार का,
कानो में रस घोलती उसकी निदा थी,

मैं ही उसका साथ ना निभा सका,
वरना वो इक मूर्त-ए-वफ़ा थी,

ना जाने कैसे भूलूंगा उसे असग़र,
जिस की हर अदा ज़माने से जुदा थी…

– म. असग़र मीरपुरी…

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 75 - Sad Shayari - Humein to zindagi mein

Sad Shayari – Humein to zindagi mein

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Humein to zindagi mein bada khsaara mila hai,
Besahara reh gaye koi na sahara mila hai,

Wo purani yaadein ek bar phir laut aayee,
Subaho savere jo khat tumhara mila hai,

Duniya mein jis se bhi hamara dil mila,
Us se na muqaddar ka sitara mila hai,

Aaj apne dil ki kitab jab padhi,
Uske har panne pe naam tumhara mila hai,

Bada mushkil hai ishq ka samundar paar karna,
Har shanaawar ko na yahan kinara mila hai…

– M.Asghar Mirpuri

हमें तो ज़िंदगी में बड़ा ख्सारा मिला है,
बेसहारा रह गये कोई ना सहारा मिला है,

वो पुरानी यादें एक बार फिर लौट आई,
सुबहो सवेरे जो खत तुम्हारा मिला है,

दुनिया में जिस से भी हमारा दिल मिला,
उस से ना मुक़द्दर का सितारा मिला है,

आज अपने दिल की किताब जब पढ़ी,
उसके हर पन्ने पे नाम तुम्हारा मिला है,

बड़ा मुश्किल है इश्क़ का समुंदर पार करना,
हर शनावर को ना यहाँ किनारा मिला है…

– म. असग़र मीरपुरी…

Continue Reading
shayarisms4lovers may18 79 - Sad Shayari - Aankh ashqon se khoonbaar hui jaati hai

Sad Shayari – Aankh ashqon se khoonbaar hui jaati hai

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Aankh ashqon se khoonbaar hui jaati hai,
Zindagi baes-e-aazaar hui jaati hai,

Hamara milna bhi ab khawab lagta hai,
Hamaare darmiyaan judai deewar hui jaati hai,

Na jaane vasal ki shab kab aayegi,
Ab to saans bhi dushwaar hui jaati hai,

Main isey kaise zindagi keh doon,
Jo basar tere bagair hui jaati hai…

– M. Asghar Mirpuri

आँख अश्क़ों से खूंबार हुई जाती है,
ज़िंदगी बाएस-ए-आज़ार हुई जाती है,

हमारा मिलना भी अब खवाब लगता है,
हमारे दरमियाँ जुदाई दीवार हुई जाती है,

ना जाने वसल की शब कब आएगी,
अब तो साँस भी दुशवार हुई जाती है,

मैं इसे कैसे ज़िंदगी कह दूं,
जो बसर तेरे बगैर हुई जाती है…

– म. असग़र मीरपुरी…

Continue Reading