shayarisms4lovers mar18 71 - यह इश्क़ वाले हैं जो हर चीज़ लूटा देते हैं – ग़ालिब

यह इश्क़ वाले हैं जो हर चीज़ लूटा देते हैं – ग़ालिब

यह इश्क़ वाले अक़्ल वालों के मुक़द्दर में यह जूनून कहाँ ग़ालिब यह इश्क़ वाले हैं जो हर चीज़ लूटा देते हैं …. Yeh Ishq Wale Aqal Walon ke Muqaddar mein Yeh Junoon Kahan Ghalib, Yeh Ishq Wale hain Jo Har cheez Luta Deta Hain….. ज़ाहिर है तेरा हाल ग़ालिब न कर हुज़ूर में तू […]

Continue Reading

दुःख दे कर सवाल करते हो – उर्दू शायरी

दुःख दे कर सवाल करते हो , तुम भी ग़ालिब ! कमाल करते हो .. Dukh Day Kar Sawaal Kartay ho, Tum Bhe GHAALiB ! Kamaal Kartay ho.. यह हम ही जानते हैं जुदाई के मोड़ पर , इस दिल का जो भी हाल तुझे देख कर हुआ .. Yeah hum hi jantey hain judaai […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 176 - Ahmad Faraz Shayari – Akele To Hum Pehle Bhi Jee Rahe The

Ahmad Faraz Shayari – Akele To Hum Pehle Bhi Jee Rahe The

अकेले तो हम पहले भी जी रहे थे “फराज़” क्यों तन्हा हो गए तेरे जाने के बाद प्यार में एक ही मौसम है बहारों का  “फ़राज़” लोग कैसे मौसमो की तरह बदल जाते है वहां से एक पानी की बूँद न निकल सकी तमाम उम्र जिन आँखों को हम झील देखते रहे जिसे भी चाहा है […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 20 - कर के इज़हार-ऐ-मोहब्बत बेपरवाह हो जाते हैं लोग

कर के इज़हार-ऐ-मोहब्बत बेपरवाह हो जाते हैं लोग

राह -ऐ -जूनून फ़ना न कर अपनी ज़िन्दगी को ऐ इंसान राह -ऐ -जूनून में तब करेगा इबादत जब गुनाह करने की ताक़त न होगी Raah-ae-Junoon Fana na kar apni zindagi ko ay jawan raah-e-junoon main. Tab karega ibadat jab gunnah karne ki taqat na hogi क्यों बेवफा हो जाते हैं लोग हँसते हैं यूँ […]

Continue Reading

Mirza Ghalib – मिर्ज़ा ग़ालिब

तू तो वो जालिम है तू तो वो जालिम है जो दिल में रह कर भी मेरा न बन सका , ग़ालिब और दिल वो काफिर, जो मुझ में रह कर भी तेरा हो गया.. हजारों ख्वाहिशें हजारों ख्वाहिशें ऐसी की हर ख्वाहिश पे दम निकले बहुत निकले मेरे अरमान , लेकिन फिर भी कम […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 205 - Top 20 Mirza Ghalib Shayari in Hindi & Urdu – Best Ghalib Shayari

Top 20 Mirza Ghalib Shayari in Hindi & Urdu – Best Ghalib Shayari

Ghalib Shayari Are The Most Demanding Shayaris As Compared to other Urdu Shayari Writers.  Mirza Ghalib is great Shayari Writer. Mirza Ghalib writes All type Of Shayaris. Many People finding Bewafa Shayari By Ghalib, Love Shayari by Ghalib, Ghalib Shayari on Isaq or Many other types of Shayaris by Ghalib. So We Collect Top 20 Best Ghalib Shayari […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 199 - बेखुदी बेसबब नहीं ‘ग़ालिब’ – Best Collection of “Ghalib”

बेखुदी बेसबब नहीं ‘ग़ालिब’ – Best Collection of “Ghalib”

खुदा के वास्ते खुदा के वास्ते पर्दा न रुख्सार से उठा ज़ालिम कहीं ऐसा न हो जहाँ भी वही काफिर सनम निकले मिर्ज़ा ग़ालिब शायरी – उर्दू शायरी – जहाँ भी वही काफिर सनम निकले Khuda ke Waaste Khuda ke waaste parda na kaabe se uthaa zaalim Kaheen aisa na ho yahan bhi wahi kaafir […]

Continue Reading
Love Shayari - Teri Awaaz Sunne Ko

सुना है तड़प रहा है वो मेरी वफ़ा के लिए – Wasi Shah Shayari

मेरी वफ़ा शरीक-ऐ-गम हुआ जो मेरे चोट खाने के बाद खो दिया मैंने उस को पाने के बाद मुझे नाज़ रहा फ़क़त उस अमल पर सदा उसने मुझे अपना माना आज़माने के बाद सुना है तड़प रहा है वो मेरी वफ़ा के लिए शायद पछता रहा है मुझे ठुकराने के बाद Meri Wafa Shareek-ae-Gham hua […]

Continue Reading
Best shayari of Ghalib (Ghalib's Sher in Hindi)

Best shayari of Ghalib (Ghalib’s Sher in Hindi)

Kee mire qatl ke baad us ne jafaa se tauba haaye us zood-pasheemaan ka pasheemaan hona Koi ummeed bar nahi aati koi soorat nazar nahi aati Kaun hai jo nahi hai haazat-mand kis kee haazat ravaa kare koi की माइर क़त्ल के बाद उस ने जफ़ा से तौबा हाए उस ज़ूद-पाशीमाँ का पाशीमाँ होना कोई […]

Continue Reading
Ghalib's Sher in Hindi (Mirza Ghalib famous shayari)

Ghalib’s Sher in Hindi (Mirza Ghalib famous shayari)

Apni gali men mujhko na kar dafn baad-e-qatl mere pate se khalq ko kyuun tera ghar mile अपनी गली में मुझको ना कर दफ़्न बाद-ए-क़त्ल मेरे पाते से कॉल्क को क्यूउन तेरा घर मिले ******* Aaina dekh apna sa munh le ke rah gaye saahab ko dil na dene pe kitna guruur tha आईना देख […]

Continue Reading

Mirza Ghalib – bazicha-e-atfal hai duniya mere age

bazicha-e-atfal hai duniya mere age hota hai shab-o-roz tamasha mere age ik khel hai aurang-e-suleman mere nazdik ik bat hai ejaz-e-masiha mere age juz nam nahi surat-e-alam mujhe manzur juz waham nahi hasti-e-ashiya mere age hota hai nihan gard mein sehra mere hote ghista hai jabin khak pe dariya mere age mat puch k kya […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 114 - Mirza Ghalib - bas k dushwar hai har kam ka asan hona

Mirza Ghalib – bas k dushwar hai har kam ka asan hona

bas k dushwar hai har kam ka asan hona admi ko bhi mayassar nahi insan hona giriya chahe hai kharabi mere kashane ki dar-o-diwar se tapak hai bayaban hona wa-e-diwangi-e-shauq k har dam mujh ko ap jana udhar aur ap hi hairan hona jalwa azbas k taqaza-e-nigah karta hai jauhar-e-aina bhi chahe hai mizagan hona […]

Continue Reading