Pen-Spilled Emotions

By JC

As my pen spills an emotion I don’t know if I’m physically
Able to verbalize the words that are written on my heart
They are caught because I don’t want to release them
With ill intentions, but knowing the truth sometimes hurts
And knowing what these words may cause, I seek the best way
To say them without causing division or discomfort hoping
You’ll understand at times the right words can’t be found
Or said so I rather show you through my action
If all fails I’m left to let my pen continue to spill my
Emotions that are written on my heart…

Continue Reading

Pankaj Mishra Poems in Hindi

shayarisms4lovers June18 281 - Pankaj Mishra Poems in Hindi

मेरी प्यारी पीहू मुस्कुराने लगी है…..!!

फूल सी कोमल ओस सी नाजुक पीहू
रिस्तो की पगडंडियों पर मुस्कुराने लगी है
सुबह अपनी मम्मी से पहले आके
पापा पापा बोल के जगाने लगी है
गुस्सा हो जाती है फिर देखती नही
अपने पापा को देखो सताने लगी है
आफिस से आते ही एक प्यारी सी मिठ्ठी
पापा के दिल को बहलाने लगी है
मेरी दुआओ में शामिल मेरे दिल की धड़कन
मेरी प्यारी पीहू मुस्कुराने लगी है..!!

**************************************************

मेरा हाल ऐ दिल बताता है…..!!

इक़ आईना है , जो मुझ से , मेरा हाल ऐ दिल बताता है
इक़ मैं हु ,जो खुद से ,हर दर्द ऐ दिल छुपता हु
इक़ जख्म है ,जो चीख कर मेरे अश्को को बुलाते है
इक़ लब है, मुस्का के जो हर दर्द को छुपाते है
एक मैं हु जो इश्क़ को दफ़ना चुका हु अंदर तक.
एक आंखे है , हर सख़्श को मेरा …

Continue Reading

15 अगस्त शायरी – 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस पर कविता

15 अगस्त शायरी , 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस पर कविता और “15 अगस्त स्टेट्स” का यह पोस्ट  Indian Independence Day पर आधारित हैं.  
इसमें आप पढ़ सकते हैं, 15 अगस्त पर शायरी वॉलपेपर इमेज के साथ.   72nd India Independence day 2018 Status में. 
जैसा की आप सभी देश वासी जानते है की हमारा भारत, अंग्रेजो के हाथों गुलाम था, और अंग्रेजी हुकुमत हमेशा हिन्दुस्तानियों पर अत्याचार करती रही. 
 
और इस अत्याचार के खि़लाफ 10 मई 1857 मे सबसे पहली बार आज़ादी का बिगुल बजा. 
 
इसी के साथ देश की आजादी को लेकर ज्वाला सुलग गई और यह ज्वाला धीरे धीरे ज्वालामुखी बन गई. 
 
भारत माता की आजादी के लिए ना जाने कितने  देश के महान सपूतों ने हॅसते हॅसते अपने प्राणों की आहुति दे डाली. 
 
अंग्रेजों के खिलाफ ना जाने कितने आन्दोलन चलाये गये और एक दिन अंग्रेजी हुकुमत ने हार मान ली
Continue Reading

आजादी पर 5 देश भक्ति गीत ( Desh Bhakti Geet in Hindi )

ये देश भक्ति गीत उन शहीदों को समर्पित हैं जिन्होंने अपने लहू की बूंदों से आजाद भारत की धरती को सींचा है| इन लोकप्रिय Desh Bhakti Geet in Hindi और गानों के माध्यम से हम आजादी के उन दीवानों को नमन करते हैं जिन्होंने मातृभूमि की रक्षा के लिए हँसते हँसते अपने प्राणों की आहुति दे दी| ये सभी देश भक्ति गीत फिल्मों से और विभिन्न लेखों से लिए गये हैं –

अपनी आजादी को हम हरगिज मिटा सकते नहीं

अपनी आज़ादी को हम हरगिज़ मिटा सकते नहीं
सर कटा सकते हैं लेकिन, सर झुका सकते नहीं

हमने सदियों में ये आज़ादी की नेमत पाई है
सैकड़ों कुर्बानियां देकर ये दौलत पाई है
मुस्कुराकर खाई है सीनों पे अपने गोलियां
कितने वीरानों से गुज़रे हैं तो जन्नत पाई है
ख़ाक में हम अपनी इज़्ज़त को मिला सकते नहीं
अपनी आज़ादी…

 

क्या चलेगी ज़ुल्म की अहले वफ़ा के सामने
आ …

Continue Reading

स्वतंत्रता दिवस पर कविता | 5+ Best Independence Day Poems in Hindi

Swatantrata Diwas Poems Hindi : Read Best Desh Bhakti Poem And Poetry For Independence Day About Freedom in Hindi. Find Great Collection Of Independence Day Poems in Hindi Fonts, Desh Bhakti Poems And Latest Swatantrata Divas Spacial Poems in Hindi Language.

independence day poems in hindi - स्वतंत्रता दिवस पर कविता | 5+ Best Independence Day Poems in Hindi

स्वतंत्रता दिवस पर देशभक्ति की कवितायें

1. Latest poems on independence day in hindi 

 
हम नन्हें-मुन्ने हैं बच्चे,
 
आजादी का मतलब नहीं है समझते।
 
इस दिन पर स्कूल में तिरंगा है फहराते,
 
गाकर अपना राष्ट्रगान फिर हम,
 
तिरंगे का सम्मान है करते,
कुछ देशभक्ति की झांकियों से
 
दर्शकों को मोहित है करते
 
हम नन्हें-मुन्ने हैं बच्चे,
 
आजादी का अर्थ सिर्फ यही है समझते।
 
वक्ता अपने भाषणों में,
 
न जाने क्या-क्या है कहते,
 
उनके अन्तिम शब्दों पर,
 
बस हम तो ताली है बजाते।
 
हम नन्हें-मुन्ने है बच्चे,
 

आजादी का अर्थ सिर्फ इतना ही है समझते।

 
Continue Reading

Isolation

By AS

Trapped inside your own mind,
no human contact takes a toll in time.
Have seen many lose their mind;
but to some only the strong survive

It affects many differently,
but all mentally and physically.
It’s not a place for a human being;
either animals have time to roam.
Being caged in like endangered species is not for any

I witness this isolation;
I live in this isolation;
Taking one day at a time
while occupying your time is the mentality of many.

As one focus on life they grow in time and
with every hardship comes ease and in the
end one will free his mind

Peace

AS wrote this while in solitary confinement.

Continue Reading

End of the Road

By TG

3:30 in the morning
not a soul in sight.
The prisons like a ghost town
when the guards turn off the lights.

Teardrops only tattoos
there’s no crying for my sins.
I’m heading back to somewhere
I said I’ll never go again.
end of the road
end of the road

End of the road
like the end of life
you feel yourself
grow cold the
more days go by
and you say goodbye
to all you know
and so you part
end of the road.

You don’t feel like a man
when they tell you to strip down.
Open your mouth
bend over
squat, cough
and turn around.
Jumpsuit and a bedroll
and a number for your name
white, black, rich, or poor
you are treated all the same.
end of the road
end of the road

End of the road
like the end of life
you feel …

Continue Reading

Dogfriend

By MH

I never spoke two words to you
Yet you love me
I didn’t have to ask, however
You gave me my name
Even the place you live called home
I’m able to live just the same
I’m even cool that you always dominate our exchange
I have to feed off of you
When you’re happy, I’m ecstatic
When you’re angry, I’m mad
When you’re down, I can’t help but feel sad
I move off of you and obey your commands
One-way communication since I can’t speak
But all your words I understand
Could you ask for a better friend?…

Continue Reading

Platforms

By JK

Platforms and I’m not talking about the shoes,
I’m writing about the people speaking who don’t have a clue

Platforms that were built on my L4 and L5,
giving me chronic back pain from all the verbal jive

Let’s expand on this privilege, the subject at hand,
this platform of yours where you make your grandstand

So absorbed in your spot that you place others in the dark,
never even a thought to appreciate their written art

What is an effort if not the effort to simply write,
judgmental of creativity where comes your insight

In the sixteen-hundreds, the rave was the selling of slaves,
all carried out on high from the platforms that was raised

A jumble of words is all that we saw,
yet 3/5ths of a man was written constitutional law

Words are intentions behind inventions
so next time you’re on that platform…

before I …

Continue Reading