shayarisms4lovers June18 276 - ज़माने ने मुझे चोट दी है – दुःख व् गहराई भरी कविता

ज़माने ने मुझे चोट दी है – दुःख व् गहराई भरी कविता

चले हैं लोग मैं रस्ता हुआ हूं मुद्दत से यहीं ठहरा हुआ हूं ज़माने ने मुझे जब चोट दी है मैं जिंदा था नहीं जिंदा हुआ हूं मैं पहले से कभी ऐसा नहीं था मैं तुमको देखकर प्यारा हुआ हूं मैं कागज सा न फट जाऊं ए लोगो उठाओ ना मुझे भीगा हुआ हूं मेरी […]

Continue Reading

रस्म-ए-उलफत सिखा गया कोई

रस्म-ए-उलफत सिखा गया कोई दिल की दुनिया पे छा गया कोई ता क़यामत किसी तरह ना बुझे आग ऐसी लगा गया कोई दिल की दुनिया उजाड़ सी क्यूँ है क्या यहाँ से चला गया कोई वक़्त-ए-रुख्ह्सत गले लगा कर “दाग” हँसते हँसते रुला गया कोई -दाग देहलवी

Continue Reading
poppy plant nature macro 65644 - ज़िंदगी एक किराए का घर है एक ना एक दिन बदलना पड़ेगा

ज़िंदगी एक किराए का घर है एक ना एक दिन बदलना पड़ेगा

ज़िंदगी एक किराए का घर है एक ना एक दिन बदलना पड़ेगा मौत जब हम को आवाज़ देगी घर से बाहर निकलना पड़ेगा ढेर मिट्टि का हर आदमी है बाद मरने के होना यही है या ज़मीनों में तुरबत बनेंगे या चिताओं पे जलना पड़ेगा रात के बाद होगा सवेरा देखना है अगर तुम को […]

Continue Reading

एक ब्राह्मण ने कहा है के ये साल अच्छा है

एक ब्राह्मण ने कहा है के ये साल अच्छा है ज़ुल्म की रात बहुत जल्द टलेगी अब तो आग चुल्हों में हर इक रोज़ जलेगी अब तो भूख के मारे कोई बच्चा नहीं रोएगा चैन की नींद हर इक सख्श यहाँ सोएगा आँधी नफ़रत की चलेगी ना कहीं अब के बरस प्यार की फसल उगएगी […]

Continue Reading

एक परवाज़ दिखाई दी है

एक परवाज़ दिखाई दी है तेरी आवाज़ सुनाई दी है जिस की आँखों में कटी थी सदियाँ उस ने सदियों की जुदाई दी है सिर्फ़ एक सफह पलट कर उस ने बीती बातों की सफाई दी है फिर वहीं लौट के जाना होगा यार ने कैसी रिहाई दी है आग ने क्या क्या जलाया है […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 250 - Chand – Ajay

Chand – Ajay

गंगा की शांत सतह पे वो एकादसी का चंद्रमा घाटों पे लगा वो नौंको का डेरा सीढ़ियों पे बैठे हम भी कुछ शांत से ही है लेकिन मन को है पानी के लथेड़ों ने घेरा मेरा मन भी है गंगा की गहराइयां लिए बाते बहुत सी दबी है अंगड़ाइयाँ लिए… मैं भी वो चाँद होना […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 233 - Gulzar Shayari In Hindi [ Read Gulzar Poetry In Hindi Lyrics ]

Gulzar Shayari In Hindi [ Read Gulzar Poetry In Hindi Lyrics ]

Gulzar is an Indian poet, lyricist and film director. He is Born in Jhelum District in British India and also wrote poetry, dialogues and scripts. He was awarded Padma Bhushan, the third-highest civilian award in India.Here we are representing his one of most famous poetry “Kitaabain jhankti hain band almari k sheeshoon se- Gulzar shayari in hindi” […]

Continue Reading

Top 7 Happy Republic Day ( गणतंत्र दिवस कविता ) Poems in Hindi

गणतंत्र दिवस पर कविताए : Read And Share Best Republic Day Poetries in Hindi. Great Collection Of Hindi Poems on Republic Day. 1. Best poem on 26 january in hindi “गणतंत्र” हर तरफ देखो लग रहा, “जय हिन्द” का नारा है.। लिए तिरंगा हाथ मे देश, झूम रहा आज सारा है.। आओ कि आया “राष्ट्र […]

Continue Reading
1 2 3 4 5 6 7 8 9