shayarisms4lovers mar18 78 - Two Line Shayari in Hindi on Meri Aankhein

Two Line Shayari in Hindi on Meri Aankhein

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

1. माना उन तक पहुंचती नहीं तपिश हमारी,
मतलब ये तो नहीं कि, सुलगते नहीं हैं हम..

2. भरी बज़्म में राज़ की बात कह दी,
बड़ा बेअदब हूँ सज़ा चाहता हूँ..

3. तुम मेरी आँख के बारे में बहुत पूछते हो ना,
ये वो खिड़की है, जो दरिया की तरफ़ खुलती है..…

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 92 - तुझे ऐ बेवफा हम ज़िंदगी का आसरा समझे

तुझे ऐ बेवफा हम ज़िंदगी का आसरा समझे

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

तुझे ऐ बेवफा हम ज़िंदगी का आसरा समझे

तुझे ऐ बेवफा हम ज़िंदगी का आसरा समझे
बड़े नादान थे हम हाय समझे भी तो क्या समझे

मुहब्बत में हमें तक़दीर ने धोखे दिए क्या क्या
जो दिल का दर्द था इस दर्द को दिल की दवा समझे

हमारी बेबसी ये कह रही है हाय रो रो के
डूबोया उसने कश्ती को जिसे हम नाखुदा समझे

कहाँ जाएं की इस दुनिया में कोई भी नहीं अपना
उसी ने बेवफाई की जिसे जान -ऐ -वफ़ा समझे

Tujhe ae bewafa hum zindagi ka aasra samjhe

tujhe ae bewafa hum zindagi ka aasra samjhe
bade naadaan the hum haaye samjhe bhi to kyaa samjhe

muhabbat mein hamein taqdeer ne dhoke diye kyaa kyaa
jo dil kaa dard tha is dard ko dil ki davaa samjhe

hamari bebasi yeh keh rahi hai haaye ro ro ke
duboyaa usne kashti ko jise hum naKhudaa samjhe

kidhar jaayein ki is duniyaa mein koi bhi nahiin apnaa
usi ne bewafai ki jise jaan-ae-wafa samjhe…

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 205 - शब-ऐ-इंतज़ार – Mirza Galib,Ahmed Faraz,Mohsin Naqvi,Raaz Sarwer Shayari

शब-ऐ-इंतज़ार – Mirza Galib,Ahmed Faraz,Mohsin Naqvi,Raaz Sarwer Shayari

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

मेरी वेहशत

इश्क़ मुझको नहीं वेहशत ही सही
मेरी वेहशत तेरी शोहरत ही सही
कटा कीजिए न तालुक हम से
कुछ नहीं है तो अदावत ही सही

Meri Wehshat

Ishq mujhko nahin wehshat hi sahi
Meri wehshat teri shohrat hi sahi
kta kijiay na taaluq hum se
kuch nahin hai to adaawat he sahi…


शब-ऐ-इंतज़ार

वो गया तो साथ ही ले गया सभी रंग उतार के शहर के
कोई शख्स था मेरे शहर में किसी दूर पार के शहर का
चलो कोई दिल तो उदास था , चलो कोई आँख तो नम थी
चलो कोई दर तो खुला रहा शब-ऐ-इंतज़ार के शहर का

Shab-ae-Intezaar

Wo Gaya To Saath Hi Le Gaya Sabhi Rang Utaar Ke Shehar Ke
Koi Shakhs Tha Mere Shehar Mein Kisi Door Paar Ke Shehar Ka
Chalo Koi Dil to Udaas Tha, Chalo Koi Aankh To Num thi
Chalo Koi Dar To Khula Raha Shab-ae-Intezaar Ke Shehar Ka…


तुम्हारे ख्याल

बहुत दिनों से मेरे ज़ेहन के दरीचे मैं
ठहर गया है तुम्हारे ख्याल का मौसम
यूं भी यकीन हो बहारें उजड़ भी सकती हैं
तो आ के देख मेरे ज़वाल का मौसम

Tumhare Khyal

Bahut Dino Se Mere Zehan Ke Darichoon Main
Thehar Gaya Hai Tumhare Khyal Ka Mausam
Jo bhi Yaqeen hio Baharain Ujar Bhi Sakti Hain
To Aa Ke Deakh Mere Zawaal Ka Mausam…


खुदा बचाए

हमारे हाल पर वो मुस्करा तो देते हैं
चलो यही सही , कुछ तो ख़याल करते हैं
खुदा बचाए तुझे इन वफ़ा के मारों से
जवाब जिस का न हो वो सवाल करते हैं

Khudaa bachaaye

hamaare Haal par wo muskura to dete hain
chalo yahi sahi, kuChh to Khayaal karte hain
Khudaa bachaaye tujhe in wafaa ke maaron se
jawab jis ka na ho wo savaal karte hain……

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 198 - मुहब्बत भी तिजारत हो गयी है इस ज़माने में – Sahir Ludhianvi

मुहब्बत भी तिजारत हो गयी है इस ज़माने में – Sahir Ludhianvi

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

कोई इलज़ाम

यह हुस्न तेरा यह इश्क़ मेरा
रंगीन तो है बदनाम सही
मुझ पर तो कई इलज़ाम लगे
तुझ पर भी कोई इलज़ाम सही

Koi ilzaam

yeh husn teraa yeh ishq mera
rangeen to hai badnaam sahi
mujh par to kai ilzaam lage
tujh par bhi koi ilzaam sahi..


फ़िज़ायों के इशारे

नज़रें भी वही और नज़ारे भी वही है
खामोश फ़िज़ायों के इशारे भी वही है
कहने को तो सब कुछ है मगर कुछ भी नहीं है

Fizayoon Kay Ishaare

Nazrein Bhi Wohi Aur Nazaare Bhi Wahi Hai
Khamoosh Fizayoon Kay Ishaare Bhi Wahi Hai
Kahne Ko To Sab Kuch Hai Magar Kuch Bhi Nahien Hai..


मुहब्बत भी तिजारत

भरम् तेरी वफाओं का मिटा देते तो क्या होता
तेरे चहरे से हम पर्दा उठा देते तो क्या होता
मुहब्बत भी तिजारत हो गयी है इस ज़माने में
अगर यह राज़ दुनिया को बता देते तो क्या होता
तेरी उम्मीद पर जीने से हासिल कुछ नहीं लेकिन
अगर यूं न दिल को आसरा देते तो क्या होता

Mohabbat bhi Tijaarat

bharam teri wafaon ka mita dete to kya hota
tere chehare se hum parda utha dete to kya hota
muhabbat bhi tijaarat ho gayi hai is zamaane mein
agar yeh raaz duniya ko bata dete to kya hota
teri umid par jine se haasil kuch nahin lekin
agar yoon na dil ko aasaraa dete to kyaa hotaa…

Continue Reading
shayarisms4lovers may18 81 - यह दुनिया है बस मतलब दी

यह दुनिया है बस मतलब दी

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

एक मिलन दी आस

इक दुआ की आस विच सारी रात जागे
पर कोई तारा अम्बरो टूटिया न

चुरा के नज़र लंग गए कोलो दी
उन्हे हाल भी मेरा पुछ्या न

एक मिलन दी आस रही दिल विच
आस आस च जीवन मुक्या न

Ik milan di aas

Ek dua di aas wich sari raat jagge
par koi tarra aambro tutya na

chura ke nazar lang gaye kolo di
Uhna haal vi sada puchya na

ik milan di aas rahi dil wich
aas aas ch jiwan mukya na


गैरां ते हक़

खत लिखदे नू कलम पूछन लगी
तू किस नू अपना दर्द सुनां लगा

कोई तेनु भी याद करदा है
के ऐवें  ही वक़्त गवां लगा

इथे अपनों ते भी कोई मान नहीं
तू क्यों ऐवें गैरां ते हक़ जताओं लगा

Gairan Te Haq

Khat Likhde Nu Kalam Puchan Laggi
Tu Kis Nu Apna Dard Sunaun Lagga

Koi Taniu V Yaad Karda Hai
K Avein Waqt Hi Gawaun Lagga

Ethe Apneya Te V Koi Maan Nahi
Tu Kyo Avein Gairan Te Haq Jataon Lagga


यह दुनिया है बस मतलब दी

रिश्ते वेख के प्यार निभाया कर
हर किसे नू न अपना बनाया कर

यह दुनिया है बस मतलब दी
ऐंवे हर किसे दे पीछे न लग जाया कर

इना मीठा न बन दुनिया निगल जाओगी
कदे बुरा बन के भी दिखया कर

Eh Duniya Hai Bs Matlab Di

Rishte Vekh K Pyar Nibhaya Kar
Har Kise Nu Na Apna Bnaya Kar

Eh Duniya Hai Bas Matlab Di
Ainve Har Kise De Piche Na Lag Jaya Kar

Aina Mitha Na Bn Dunia Nigal Jaugi
Kade Bura Bn K V Dikhaya Kar…

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 188 - फ़राज़ की दिल फरेब उर्दू शायरी – Erratic collection of Fazar Shayari

फ़राज़ की दिल फरेब उर्दू शायरी – Erratic collection of Fazar Shayari

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

किसी से जुदा होना

किसी से जुदा होना अगर इतना आसान होता “फ़राज़”
जिस्म से रूह को लेने कभी फरिश्ते न आते

 

Kissi Se Juda Hona

Kissi Se Juda Hona Agar Itna Asan Hota “FARAZ”
Jism Se Rooh Ko Leney Kabhi Farishtay Na Aate


प्यासे गुज़र जाते हैं

तू किसी और के लिए होगा समंदर-ऐ -इश्क़ “फ़राज़”
हम तो रोज़ तेरे साहिल से प्यासे गुज़र जाते हैं

 

Piyase Guzaar Jate Hain

Tu kisi aur ke liye hoga samander-ae-ishq “Faraz”
hum to rooz tere sahil se piyase guzaar jate hain


मिले तो कुछ कह न सके

हम उन से मिले तो कुछ कह न सके “फ़राज़”
ख़ुशी इतनी थी के मुलाक़ात आँसू पोंछते ही गुज़र गई

 

Milay To Khuch Keh na Sakay

hum un se milay to khuch keh na sakay “Faraz”
khushi itni the ke mulaqaat ansoo ponchtay hi guzaar gai


इश्क़ का नशा

कुछ इश्क़ का नशा था पहले हम को “फ़राज़”.
दिल जो टूटा तो नशे से मोहब्बत हो गई .

 

Ishq Ka Nasha

Kuch ishq ka nasha tha pehle hum ko “Faraz”
Dil jo tuta to nashe se mohabbat ho gai


यह वफ़ा तो

यह वफ़ा तो उन दिनों की बात है “फ़राज़”
जब मकान कच्चे और लोग सच्चे हुआ करते थे

 

Yeh Wafa to

Yeh wafa to un dinoo ki baat hai “Fraaz”
Jab makaan kache or log sache hua kartey the


उम्र भर का सहारा

कौन देता है उम्र भर का सहारा ऐ “फ़राज़’
लोग तो जनाज़े में भी कंधे बदलते रहते हैं

 

Umar Bhar ka Sahara

Kaun deta hai umar bhar ka sahara ae “Faraz”
Log to janaje mein bhi kandhe badalte rehtein hein


खुद ही बिक गए

किस की क्या मजाल थी जो कोई हम को खरीद सकता “फ़राज़”
हम तो खुद ही बिक गए खरीदार देख कर

 

Khud Hi Bik Gaye

Kis ki Kya majal thi jo koi Hum ko kharid sakta “Faraz”
Hum to khud hi Bik gaye kharidar dekh kar

 


हम न बदलेंगे

हम न बदलेंगे वक़्त की रफ़्तार के साथ ‘”फ़राज़”‘
हम जब भी मिलेंगे अंदाज़ पुराना होगा …

 

Hum Na Badleinge

Hum na badleinge waqt ki raftaar ke sath “Faraz”‘
Ham jab bhi milengay andaaz purana hoga


तेरा न हो सका

तेरा न हो सका तो मर जाऊंगा “फ़राज़ “
कितना खूबसूरत वो झूट बोलता था

 

Tera Na Ho Saka

Tera Na Ho Saka To Mar Jaonga “Faraz”…

Continue Reading

Sahir Ludhianvi – Tarab-zaarona pe kya beeti

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Tarab-zaaron pe kya beeti sanam-khaanon pe kya guzri,
Dil-e-zinda tere marhuum armaanon pe kya guzri,

Zameen ne khuun uglaa aasmaan ne aag barsaayi,
Jab insaanon ke dil badle to insaanon pe kya guzri,

Hamen yeh fikr un ki anjuman kis haal mei hogi,
Unhe yeh gham ke un se chuut ke diwanon pe kya guzri,

Mera ilhaad to khair ek laanat tha so hai ab tak,
Magar is aalam-e-wehshat mei imaanon pe kya guzri,

Yeh manzar kaun sa manzar hai pehchaana nahin jata,
Siyaah-khaanon se kuch puucho shabistaanon pe kya guzri,

Chalo woh kufr ke ghar se salaamat aa gaye lekin,
Khudaa ki mumliqat mein sokhta-jaano pe kya guzri…

तरब-ज़ारों पे क्या बीती सनम-खानों पे क्या गुज़री,
दिल-ए-ज़िंदा तेरे मरहूम अरमानों पे क्या गुज़री,

ज़मीन ने खून उगला आसमान ने आग बरसाई,
जब इंसानों के दिल बदले तो इंसानों पे क्या गुज़री,

हमें ये फ़िक्र उन की अंजुमन किस हाल में होगी,
उन्हें ये ग़म के उन से छूट के दीवानों पे क्या गुज़री,

मेरा इलहाद तो खैर एक लानत था सो है अब तक,
मगर इस आलम-ए-वहशत में ईमानों पे क्या गुज़री,

यह मंज़र कौन सा मंज़र है पहचाना नहीं जाता,
सियाह-खानों से कुछ पूछो शबिस्तानों पे क्या गुज़री,

चलो वो कुफ्र के घर से सलामत आ गए लेकिन,
खुदा की ममलिकत में सोख्ता-जानो पे क्या गुज़री…

Continue Reading

Sahir Ludhianvi – Khudaariyon ke khuun ko arzaan na kar sake

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Khudaariyon ke khuun ko arzaan na kar sake,
Hum apne jauhron ko numaayaan na kar sake,

Ho kr kharaab-e-mai tere gham to bhula diye,
Lekin gham-e-hayaat ka darmaan na kar sake,

Tuuta tilissm -e- ehd-e-mohabbat kuch is tarah,
Phir aarzuu ki shamaa firozaan na kar sake,

Har shai qareeb aa ke kashish apni kho gayi,
Woh bhi ilaaj -e- shauq-e-gurezaan na kar sake,

Kis darjaa dil-shikan they mohabbat ke haadse,
Hum zindagi mei phir koi armaan na kar sake,

Maayuusiyon ne cheen liye dil ke valvale,
Woh bhi nashaat-e-ruuh ka samaan na kar sake…

खुद्दारियों के खून को अज़ान ना कर सके,
हम अपने जौहरों को नुमायां ना कर सके,

हो कर खराब-ए-मै तेरे ग़म तो भुला दिए,
लेकिन ग़म-ए-हयात का दरमाँ ना कर सके,

टूटा तिलिस्म-ए- एहद-ए-मोहब्बत कुछ इस तरह,
फिर आरज़ूअ की शमा फ़िरोज़ा ना कर सके,

हर शै क़रीब आ के कशिश अपनी खो गए,
वो भी इलाज -ए- शौक़-ए-गुरेजां ना कर सके,

किस दर्जा दिल-शिकन थे मोहब्बत के हादसे,
हम ज़िन्दगी में फिर कोई अरमां ना कर सके,

मायूसियों ने छीन लिए दिल के वलवले,
वो भी नाशात-ए-रूह का सामान ना कर सके……

Continue Reading
Sahir Ludhianvi - Sangay mar-mar se tarasha hua

Sahir Ludhianvi – Sangay mar-mar se tarasha hua

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Sangay mar-mar se tarasha hua ye shokh badan,
Itna dilkash hai ke apnanay ko ji chahta hai,

Surkh honton mein terkti hai ye rangeen sharaab,
Jisay pi kar bhahak janay ko ji chahta hai,

Naram seenay mein darktay hain woh nazuk tufaan,
Jin ki lahron mein utar janay ko ji chahta hai,

Tum se kya rishta hai, kab se hai, yeh maloom nahin,
Lekin is hussn pe mar janey ko jee chahta hai,

Rakh ley kal ke liye yeh doosri pazeb dil,
Kal is bazzm mein phir aney ko jee chahta hai,

Be-khabar soye hain woh loot ke neendain meri,
Jazba-e-dil pe tarss khaney ko jee chahta hai,

Kab se khamosh ho aye jane jahan kuch to bolo,
Kya abhi bhi sitam aur dhaney ko jee chahta hai,

Chorr kar tum ko kahan chain mileyga hum ko,
Yahin jeeney yahin mar janey ko jee chahta hai,

Apne hathon se sanwara hai tumhein qudrat ne,
Dekh ker dekhte reh jane ko jee chahta hai,

Noor hi noor jhalakta hai haseen chehre se,
Bas yahin sajde mein gir janey ko jee chahta hai,

Mere daman ko koi aur na chuu payega,
Tum ko chuu kar kasam yeh khaney ko jee chahta hai,

Chand chehra hai tera aur nazar hai bijli,
Aik ik jalwe pe mar janey ko jee chahta hai,

Chand ki hasti hi kya samne jab suraj ho,
Aap ke kadmon mein mitt janey ko jee chahta hai…

संगे मर-मर से तराशा हुआ ये शोख बदन,
इतना दिलकश है के अपनाने को जी चाहता है,

सुर्ख होंठों में तेर्क्ती है ये रंगीन शराब,
जिसे पी कर बहक जाने को जी चाहता है,

नरम सीने में धड़कते हैं वो नाज़ुक तूफ़ान,
जिन की लहरों में उतर जाने को जी चाहता है,

तुम से क्या रिश्ता है, कब से है, ये मालूम नहीं,
लेकिन इस हुस्न पे मर जाने को जी चाहता है,

रख ले कल के लिए ये दूसरी पाज़ेब दिल,
कल इस बज़्ज़्म में फिर आने को जी चाहता है,

बे-खबर सोये हैं वो लूट के नींदें मेरी,
जज़्बा-ए-दिल पे तरस खाने को जी चाहता है,

कब से खामोश हो ए जाने जहाँ कुछ तो बोलो,
क्या अभी भी सितम और ढाने को जी चाहता है,

छोड़ कर तुम को कहाँ चैन मिलेगा हम को,
यहीं जीने यहीं मर जाने को जी चाहता है,

अपने हाथों से संवारा है तुम्हें क़ुदरत ने,
देख केर देखते रह जाने को जी चाहता है,…

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 26 - Sahir Ludhianvi - Barbaad-e-mohabbat ki duaa sath liye ja...

Sahir Ludhianvi – Barbaad-e-mohabbat ki duaa sath liye ja…

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Barbaad-e-mohabbat ki duaa sath liye ja,
Tuuta hua iqraar-e-wafaa saath liye ja,

Ik dil tha jo pehle hi tujhe somp diya tha,
Yeh jaan bhi ae jaan-e-adaa saath liye ja,

Taptii hui rahon se tujhe aanch na pohanche,
Diwanon ke ashkon ki ghataaa saath liye ja,

Shaamil hai mera khuun-e-jigr teri hinaa mei,
Yeh kum ho to khuun-e-wafaa saath liye ja,

Hum jurm-e-mohabbat ki saza paayen ge tanhaa,
Jo tujh se hui ho woh khataa saath liye ja..

बर्बाद-ए-मोहब्बत की दुआ साथ लिए जा,
टूटा हुआ इक़रार-ए-वफ़ा साथ लिए जा,

इक दिल था जो पहले ही तुझे सौंप दिया था,
ये जान भी ऐ जान-ए-अदा साथ लिए जा,

तपती हुई राहों से तुझे आंच ना पुहंचे,
दीवानों के अश्कों की घटा साथ लिए जा,

शामिल है मेरा खून-ए-जिगर तेरी हिना में,
ये कम हो तो खून-ए-वफ़ा साथ लिए जा,

हम जुर्म-ए-मोहब्बत की सजा पाएंगे तनहा,
जो तुझ से हुई हो वो खता साथ लिए जा..…

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 55 - Sahir Ludhianvi - Tod lenge hr ik shai se rishta

Sahir Ludhianvi – Tod lenge hr ik shai se rishta

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Tod lenge hr ik shai se rishta tod dene ki naubat to aye,
Hum qayamat ke khud muntazir hain pr kisi din qayaamat to aye,

Hum bhi suqraat hain ehd-e-nau ke tishna-lab hi na mar jayen yaro,
Zehr ho ya mai-e-aatisheen ho koi jaam-e-shahaadat to aye,

Ek tehzeeb hai dosti ki ek meyaar hai dushmani ka,
Doston ne muravvat na seekhi dushmanon ko adawat to aye,

Rind raste mei aankhen bichaayen jo kahe bin sune maan jayen,
Naaseh -e- nek-teenat kisi shab suu-e-kuu-e-malaamat to aaye,

Ilm-o-tehzeeb tareekh-o-mantaq log sochenge in maslon pr,
Zindagi ke mashaqqat-qade mei koi ehd-e-faraaghat to aaye,

Kaamp uthen qasr-e-shaahi ke gumbad thartharaaye zameen maabadon ki,
Kuucha-gardon ki vehshat to jaage gham-zadon ko baghaawat to aye..

तोड़ लेंगे हर इक शै से रिश्ता तोड़ देने की नौबत तो आये,
हम क़यामत के खुद मुंतज़िर हैं पर किसी दिन क़यामत तो आये,

हम भी सुकरात हैं एहद-ए-नौ के तृष्णा लब ही ना मर जाएँ यारो,
ज़हर हो या मै-ए-आतिशीं हो कोई जाम-ए-शहादत तो आये,

एक तहज़ीब है दोस्ती की एक मयार है दुश्मनी का,
दोस्तों ने मुरव्वत ना सीखी दुश्मनों को अदावत तो आये,

रिन्द रास्ते में आँखें बिछाएं जो कहे बिन सुने मान जाएँ,
नासेह-ए-नेक-तीनत किसी शब सू-ए-कू-ए-मलामत तो आये,

इल्म-ओ-तहज़ीब तारिख-ओ-मन्तक लोग सोचेंगे इन मसलों पर,
ज़िन्दगी के मशक़्क़त-कदे में कोई एहद-ए-फ़राग़त तो आये,

काँप उठें कसर-ए-शाही के गुम्बद थरथराये ज़मीन माबदो की,
कूचा-गर्दों की वहशत तो जागे ग़म-ज़दो को बग़ावत तो आये..…

Continue Reading

Sahir Ludhianvi – Jab kabhi un ki tawajjoh mei

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Jab kabhi un ki tawajjoh mei kammi paayi gayi,
Az-sar-e-nau daastaan-e-shauq dohraayi gayi,

Bik gaye jab tere lab phir tujh ko kya shikwa agar,
Zindgaani baada o saaghar se behlaayi gayi,

Ae gham-e-duniyaa tujhe kya ilm tere vaaste,
Kin bahaanon se tabiyat raah main laayi gayi,

Hum karen tark-e-wafaa acha chalo yuun hi sahi,
Aur agar tark-e-wafaa se bhi na ruswaayi gayi,

Kaise kaise chasm o aariz gard-e-gham se bujh gaye,
Kaise kaise paikaron ki shaan-e-zebaayi gayi,

Dil ki dharrkan me tavaazun aa chala hai khair ho,
Meri nazren bujh gayi.n yaa teri ranaayi gayi,

Un ka gham un ka tasavvur un ke shikwe ab kahan,
Ab to yeh baaten bhi ae dil ho gayin aayi gayi,

Jurat-e-insaan pe go taadeeb ke pehre rahe,
Fitrat-e-insaan ko kab zanjeer pehnaayi gayi,

Arsaa-e-hastii mei ab tesha-zanon kaa daur hai,
Rasm-e-changezi uthii tauqeer-e-daaraayi gayi…

जब कभी उन की तवज्जो में कमी पायी गयी,
अज़-सै-ए-नउ दास्ताँ-ए-शौक़ दोहराई गयी,

बिक गए जब तेरे लब फिर तुझ को क्या शिकवा अगर,
ज़िंदगानी बड़ा ओ सागर से बहलाई गयी,

ऐ ग़म-ए-दुनिया तुझे क्या इल्म तेरे वास्ते,
किन बहानों से तबियत राह मैं लायी गयी,

हम करें तर्क-ए-वफ़ा अच्छा चलो यूं ही सही,
और अगर तर्क-ए-वफ़ा से भी ना रुसवाई गयी,

कैसे कैसे चस्म-ओ-आरिज़ गर्द-ए-ग़म से बुझ गए,
कैसे कैसे पैकरों की शान-ए-ज़ेबाई गयी,

दिल की धड़कन में तवाज़्ज़ु आ चला है खैर हो,
मेरी नज़रें बुझ गयी या तेरी रानाई गयी,

उन का ग़म उन का तसव्वुर उन के शिकवे अब कहाँ,
अब तो यह बातें भी ऐ दिल हो गयीं आयी गयी,

जुर्रत-ए-इंसान पे गो तादीद के पहरे रहे,
फितरत-ए-इंसान को कब ज़ंजीर पहनाई गयी,

अरसा-ए-हस्ती में अब तैशा-जानों का दौर है,
रस्म-ए-चंगेज़ी उठी तौक़ीर-ए-डराई गयी……

Continue Reading
yellow natural flower - Sahir Ludhianvi - Mohabbat tark ki mene

Sahir Ludhianvi – Mohabbat tark ki mene

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Mohabbat tark ki mene, garebaan sii liya mene,
Zamane ab to khush ho zeher yeh bhi pii liya mene,

Abhi zinda hoon magar sochta rehta hoon khalvat me,
Ke ab tak kis tamanna ke sahare jii liya mene,

Unhe apnaa nahin sakta magar itna bhi kya kamm hai,
Ke kuch muddat haseen khawbon mein kho ker jii liya mene,

Bass ab to daaman-e-dil chorr do bekaar umeedo,
Bahut dukh sehh liye mene, bohat din jii liya mene…

मोहब्बत तर्क की मेने, गरेबाँ सी लिया मेने,
ज़माने अब तो खुश हो, ज़हर ये भी पी लिया मेने,

अभी ज़िंदा हूँ मगर सोचता रहता हूँ खल्वत में,
के अब तक किस तमन्ना के सहारे जी लिया मेने,

उन्हें अपना नहीं सकता मगर इतना भी क्या कम् है,
के कुछ मुद्दत हसीं खाव्बों में खो कर जी लिया मेने,

बास अब तो दामन-ए-दिल छोड़ दो बेकार उम्मीदों,
बहुत दुःख सह लिए मेने, बहुत दिन जी लिया मेने……

Continue Reading

Sahir Ludhianvi – Teri duniya mei jeene se to behtar hai ke mar jaayen…

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Teri duniya mei jeene se to behtar hai ke mar jaayen,
Wohi aansuu wohi aahen wohi gham hai jidhar jaayen,

Koi to aisa ghar hota jahan se pyaar mil jaata,
Wohi begaane chehre hain jahaan jaayen jidhar jaayen,

Arey o aasmaan waale bataa is mei buraa kya hai,
Khushi ke chaar jhonke gr idhar se bhi guzar jaayen..

तेरी दुनिया में जीने से तो बेहतर है के मर जाएँ,
वही आंसू वही आहें वही ग़म है जिधर जाएँ,

कोई तो ऐसा घर होता जहाँ से प्यार मिल जाता,
वही बेगाने चेहरे हैं जहां जाएँ जिधर जाएँ,

अरे ओ आसमान वाले बता इस में बुरा क्या है,
ख़ुशी के चार झोंके गर इधर से भी गुज़र जाएँ..…

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 210 - Sahir Ludhianvi - Bujhaa diye hain khud

Sahir Ludhianvi – Bujhaa diye hain khud

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Bujhaa diye hain khud apne hathon mohabton ke diye jala ke,
Meri wafaa ne ujaad di hain umeed ki bastiyaan basaa ke,

Tujhe bhulaa denge apne dil se yeh faisla to kiya hai lekin,
Na dil ko maluum hai na hum ko jiyenge kaise tujhe bhula ke,

Kabhi milenge jo raaste mei to muunh phiraa kr palatt parrenge,
Kahin sunen ge jo naam tera to chup rahenge nazar jhuka ke,

Na sochne pr bhi sochti huun ke zindgaani mein kya rahega,
Teri tamanna ko dafn kr ke tere khayaalon se duur jaa ke…

बुझा दिए हैं खुद अपने हाथों मोहबतों के दिए जला के,
मेरी वफ़ा ने उजाड़ दी हैं उम्मीद की बस्तियां बसा के,

तुझे भुला देंगे अपने दिल से ये फैसला तो किया है लेकिन,
ना दिल को मालूम है ना हम को जियेंगे कैसे तुझे भुला के,

कभी मिलेंगे जो रास्ते में तो मूँह फिरा कर पलट पड़ेंगे,
कहीं सुनेंगे जो नाम तेरा तो चुप रहेंगे नज़र झुक के,

ना सोचने पर भी सोचती हूँ के ज़िंदगानी में क्या रहेगा,
तेरी तमन्ना को दफन कर के तेरे ख्यालों से दूर जा के…

Continue Reading
Page 1 of 2
1 2