shayarisms4lovers mar18 220 - बरसों के इंतज़ार का अंजाम लिख दिया

बरसों के इंतज़ार का अंजाम लिख दिया

बरसों के इंतज़ार का अंजाम लिख दिया बरसों के इंतज़ार का अंजाम लिख दिया काग़ज़ पे शाम काट के फिर शाम लिख दिया बिखरी पड़ी थी टूट के कलियाँ ज़मीन पर तरतीब दे के मैंने तेरा नाम लिख दिया आसान नहीं थी तर्क -ऐ -मुहब्बत की दास्ताँ दो आंसूओं ने आखरी पैग़ाम लिख दिया अल्लाह […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 55 - मस्ती भरी नज़र का नशा है मुझे अभी

मस्ती भरी नज़र का नशा है मुझे अभी

मस्ती भरी नज़र का नशा है मुझे अभी ये जाम दूर रख दो पी लूँगा फिर कभी दिल को जला के बज़्म को रौशन ना कीजिए उस महजबीन को आने में कुछ देर है अभी हम ने तो अश्क पी के गुज़री है सारी उम्र हम से खफा है किस लिए आखिर ये ज़िंदगी जाम-ए-सुबू […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 284 - आदतन तुम ने कर दिए वादे

आदतन तुम ने कर दिए वादे

आदतन तुम ने कर दिए वादे आदतन हम ने ऐतबार किया तेरी राहों में बारहा रुक कर हम ने अपना ही इंतज़ार किया अब ना माँगेंगे ज़िंदगी या रब ये गुनाह हम ने एक बार किया -गुलज़ार

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 209 - यारो मुझे माफ़ करो मैं नशे में हूँ

यारो मुझे माफ़ करो मैं नशे में हूँ

यारो मुझे माफ़ करो मैं नशे में हूँ अब दो तो जाम खाली ही दो मैं नशे में हूँ मज़ुर हूँ जो पावं मेरे बेतरह पड़े तुम सर-गरन तो मुझ से ना हो मैं नशे में हूँ [मज़ुर=मजबूर; बेतरह=लड़खड़ाना ; सर-गरन=चिढ़ना] या हाथों हाथ लो मुझे जैसे के जाम-ए-मय या थोड़ी दूर साथ चलो मैं […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 170 - वफ़ा के शीश महल में सज़ा लिया मैं ने

वफ़ा के शीश महल में सज़ा लिया मैं ने

वफ़ा के शीश महल में सज़ा लिया मैं ने वो एक दिल जिसे पत्थर बना लिया मैं ने ये सोच कर की ना हो तक में खुशी कोई गमों की ओट में खुद को छुपा लिया मैं ने कभी ना ख़त्म किया मैं ने रोशनी का मुहाज़ अगर चिराग बुझा, दिल जला लिया मैं ने […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 166 - वक़्त के साथ गर हम भी बदल जाते तो अच्छा था

वक़्त के साथ गर हम भी बदल जाते तो अच्छा था

वक़्त के साथ गर हम भी बदल जाते तो अच्छा था … बहुत अरमान थे दिल में निकल जाते तो अच्छा था … न शीशे के रह पाये न पत्थर के हो पाये … किसी अच्छे से साँचे में जो ढल जाते तो अच्छा था … गिरे तो यूँ गिरे के गिराया सब ने नज़रों […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 210 - सुना है लोग उसे आँख भर के देखते है – फ़राज़ की शायरी

सुना है लोग उसे आँख भर के देखते है – फ़राज़ की शायरी

सुना है लोग उसे – फ़राज़ अहमद सुना है लोग उसे आँख भर के देखते है तो उसके शहर में कुछ दिन ठहर के देखते है सुना है राफत है उसे खराब हालो से तो अपने आप को बर्बाद कर के देखते है सुना है दर्द की गाहक है चस्मे नाज़ उसकी तो हम भी […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 140 - उसे बारिशों ने चुरा लिया के वो बादलों का मकीन था

उसे बारिशों ने चुरा लिया के वो बादलों का मकीन था

उसे बारिशों ने चुरा लिया  उसे बारिशों ने चुरा लिया के वो बादलों का मकीन था कभी मुड़ के यह भी देखा के मेरा वजूद ज़मीन था वही एक सच था और उस के बाद तमाम तोहमतें झूट हैं मेरे दिल को पूरा यक़ीन है वो मुबात्तों का आमीन था उसे शौक़ था के किसी […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 97 - Hindi Potery, Kuchh dabi hui khvaahishen hai

Hindi Potery, Kuchh dabi hui khvaahishen hai

इसी का नाम ज़िन्दगी है कुछ दबी हुई ख़्वाहिशें है, कुछ मंद मुस्कुराहटें.. कुछ खोए हुए सपने है, कुछ अनसुनी आहटें.. कुछ सुकून भरी यादें हैं, कुछ दर्द भरे लम्हात.. कुछ थमें हुए तूफ़ाँ हैं, कुछ मद्धम सी बरसात.. कुछ अनकहे अल्फ़ाज़ हैं, कुछ नासमझ इशारे.. कुछ ऐसे मंझधार हैं, जिनके मिलते नहीं किनारे.. कुछ […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 148 - हर धड़कन में एक राज़ होता है – धड़कन उर्दू शायरी

हर धड़कन में एक राज़ होता है – धड़कन उर्दू शायरी

बहुत देर कर दी तुमने मेरी धड़कन महसूस करने में वो दिल नीलाम हो गया जिस को कभी हसरत तुम्हारे दीदार की थी हर धड़कन में एक राज़ होता है हर धड़कन में एक राज़ होता है हर बात कहने का एक अंदाज़ होता है जब तक ठोकर न लगे इश्क़ में हर किसी को […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 233 - उनके एक जान-निसार हम भी हैं

उनके एक जान-निसार हम भी हैं

उनके एक जान-निसार हम भी हैं हैं जहाँ सौ-हज़ार हम भी हैं तुम भी बेचैन हम भी हैं बेचैन तुम भी हो बेक़रार हम भी हैं ऐ फलक कह तो क्या इरादा है ऐश के ख्वाइशगार हम भी हैं शहर खाली किए दुकान कैसी एक ही वादा-ख्वार हम भी हैं शर्म समझे तेरे तगाफुल को […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 248 - Cute Love Shayaris of Bachpan Ka Romantic Pyaar

Cute Love Shayaris of Bachpan Ka Romantic Pyaar

Emotional Love Shayari of Bachpan for girlfriend बचपने में की मोहब्बत का अपना ही मज़ा है. बचपन के प्यार को याद करना मीठी सी सजा है… वो स्कूल में बात बात पे लड़ना भी याद आता है… वो टेस्ट में साथ बैठ के पढ़ना भी याद आता है… उसकी गली के पैदल चक्कर काटने का […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 239 - हम ने एक इंसान को चाहा और गुनहगार हो गए – Hindi Shayari

हम ने एक इंसान को चाहा और गुनहगार हो गए – Hindi Shayari

मैं अश्क़ हूँ मैं अश्क़ हूँ मेरी आँख तुम हो मैं दिल हूँ मेरी धडकन तुम हो मैं जिस्म हूँ मेरी रूह तुम हो मैं जिंदा हूँ मेरी ज़िन्दगी तुम हो मैं साया हूँ मेरी हक़ीक़त तुम हो मैं आइना हूँ मेरी सूरत तुम हो मैं सोच हूँ मेरी बात तुम हो मैं मुकमल हूँ […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 267 - Shiv Kumar Batalvi – नग्मे और शायरी

Shiv Kumar Batalvi – नग्मे और शायरी

प्यार तेरे शहर दा रोग बन के रह गया है प्यार तेरे शहर दा मैं मसीहा वेख्या बीमार तेरे शहर दा इसकी गलियां मेरी चढ़दी जवानी खा लायी क्यों ना करूँ दोस्ता सत्कार तेरे शहर दा शहर तेरे क़दर नहीं लोकां नू सच्चे प्यार दी रात नूं खुल्दा है हर बाजार तेरे शहर दा जिथे […]

Continue Reading