shayarisms4lovers June18 201 - Gareebi Par Shayari

Gareebi Par Shayari

Hindi Shayari Shayari Status

Ajeeb Mithaas Hai Mujh Gareeb Ke Khoon Me Bhi, Jise Bhi Mauka Milta Hai Woh Peeta Zaroor Hai. अजीब मिठास है मुझ गरीब के खून में भी, जिसे भी मौका मिलता है वो पीता जरुर है।

Woh Jinke Haath Mein Har Waqt Chhale Rehte Hain, Aabad Unhi Ke Dam Par Mahal Wale Rehte Hain. वो जिनके हाथ में हर वक्त छाले रहते हैं, आबाद उन्हीं के दम पर महल वाले रहते हैं।

Marham Laga Sako To Kisi Gareeb Ke Zakhmo Par Laga Dena, Hakeem Bahut Hain Bajaar Mein Ameero Ke Ilaaj Ke Khatir. मरहम लगा सको तो किसी गरीब के जख्मों पर लगा देना हकीम बहुत हैं बाजार में अमीरों के इलाज खातिर।

Yun Na Jhaanka Karo Kisi Gareeb Ke Dil Mein, Wahan Hasratein BeLibaas Raha Karti Hain. यूँ न झाँका करो किसी गरीब के दिल में, वहां हसरतें बेलिबास रहा करती हैं।

Sula Diya Maa Ne Bhukhe Bachche Ko Ye Keh Kar, Pariyan Aayengi Sapno Mein Rotiyan Lekar. सुला दिया माँ ने भूखे बच्चे को ये कहकर, परियां आएंगी सपनों में रोटियां लेकर।

Chehra Bata Raha Tha Ki Maara Hai Bhookh Ne, Sab Log Kah Rahe The Ke Kuchh Kha Ke Mar Gaya. चेहरा बता रहा था कि मारा है भूख ने, सब लोग कह रहे थे कि कुछ खा के मर गया।

Jab Bhi Dekhta Hu Kisi Gareeb Ko Haste Hue, Yakeenan Khusyion Ka Talluq Daulat Se Nahi Hota. जब भी देखता हूँ किसी गरीब को हँसते हुए, यकीनन खुशिओं का ताल्लुक दौलत से नहीं होता।

Unn Gharo Mein Jahan Mitti Ke Gharhe Rehte Hain, Kad Mein Chhote Magar Log Bade Rahte Hain. उन घरों में जहाँ मिट्टी के घड़े रहते हैं, क़द में छोटे हों मगर लोग बड़े रहते हैं।

Kaise Mohabbat Karun Bahut Gareeb Hun Sahab, Log Bikte Hain Aur Main Khareed Nahi Pata. कैसे मोहब्बत करूं बहुत गरीब हूँ साहब, लोग बिकते हैं और मैं खरीद नहीं पाता।

Yeh Gandgi Toh Mahal Walon Ne Failayi Hai Sahab, Varna Gareeb Toh Sadko Se Thailiyan Tak Uthha Lete Hain. ये गंदगी तो महल वालों ने फैलाई है साहब, वरना गरीब तो सड़कों से थैलीयाँ तक उठा लेते हैं।

Yeha Gareeb Ko Marne Ki Jaldi Yun Bhi Hai, Ke Kahin Kafan Mahenga Na Ho Jaye. यहाँ गरीब को मरने की जल्दी यूँ भी है, कि कहीं कफ़न महंगा ना हो जाए।

Kabhi Aansu Toh Kabhi Khushi Bechi, Hum Gareebon Ne Bekashi Bechi, Chand Saansein Khareedne Ke Liye Roj Thodi Si Zindgi Bechi. कभी आंसू कभी ख़ुशी बेची हम गरीबों ने बेकसी बेची, चंद सांसे खरीदने के लिए रोज थोड़ी सी जिन्दगी बेची।

Tehjeeb Ki Misaal Gareebon Ke Ghar Pe Hai, Dupatta Fata Hua Hai Magar Unke Sar Pe Hai. तहजीब की मिसाल गरीबों के घर पे है, दुपट्टा फटा हुआ है मगर उनके सर पे है।

Yun na jhaanka karo kisi gareeb ke dil mein,
Aye doston
Wahaan hasratein
Be-libaas raha karteen hain..!!!

जब भी देखता हूँ ..
किसी गरीब को हँसते हुए ..
तो यकीन आ जाता है ..
की खुशियो का ताल्लुक दौलत से नहीं होता..
Jab bhi dekhta hu..
Kisi gareeb ko haste hue
to yakeen aa jata hai
Ke khusyion ka talluq daulat se nahi hota!!

Dil ameer tha muqadar gareeb tha..
Mill kar becharna humara Naseeb tha..
Hum chah kar bhi kuch kar na sakey..
Ghar bhi jalta raha aur samundar bhi qareeb tha.

Kisi Ghareeb Ki Madad Kar K Yeh Mat Socho K…
Tum Us Ki Duniya Sanwar Rahe Ho,
Yeh Socho K woh Gareeb…
Aap Ki Akhirat Sanwar Raha Hai.

गरीबों को होती है जेल,
अमीरों को मिलती है बेल
कुछ और नहीं है दोस्तों,
बस सब है पैसों का खेल !!

वो जिसकी याद मे हमने खर्च दी जिन्दगी अपनी।
वो शख्श आज मुझको गरीब कह के चला गया ।।
Wo jiski yaad me kharch kar di zindgi hame.
Wo hi shaks aaj hame garib kahkar chala gaya.