shayarisms4lovers June18 279 - Inspirational Motivational Shayari

Inspirational Motivational Shayari

Hindi Shayari Shayari Status

Najar-Najar Mein Utarna Kamaal Hota Hai,
Nafas-Nafas Mein Bikharna Kamaal Hota Hai,
Bulandiyon Pe Pahuchna Koi Kamaal Nahi,
Bulandiyon Pe Thhehrana Kamaal Hota Hai.
​​​नज़र-नज़र में उतरना कमाल होता है,
नफ़स-नफ़स में बिखरना कमाल होता है,
बुलंदियों पे पहुँचना कोई कमाल नहीं,
बुलंदियों पे ठहरना कमाल होता है।Intezar Kis Pal Ka Kiye Jate Ho Yaaro,
Pyaason Ke Paas Samandar Nahi Aane Wala,
Lagi Hai Pyaas Toh Chalo Ret Hi Nichodi Jaye,
Apne Hisse Mein Samundar Nahi Aane Wala.
इंतजार किस पल का किये जाते हो यारों,
प्यासों के पास समंदर नही आने वाला,
लगी है प्यास ​तो ​चलो रेत निचोड़ी जाए​,​
अपने हिस्से में समंदर नहीं आने वाला​।

Tum Yahan Dharti Pe Lakeerein Kheenchte Ho,
Hum Wahan Apne Liye Naye Aasmaan Dhoodte Hain,
Tum Banate Jate Ho Pinjre Pe Pinjra,
Hum Apne Pankhon Mien Nayi Udaan Dhoodte Hain.
तुम यहाँ धरती पर लकीरें खींचते हो​,
हम वहाँ अपने लिये नये आसमान ढूंढते हैं,
​तुम बनाते जाते हो पिंजड़े पे पिंजड़ा​,
हम अपने पंखों में ​नयी उड़ान ढूंढते हैं।

JinKe Hothhon Pe Hansi Paanv Mein Chhale Honge,
Wahi Log Apni Manzil Ko Pane Wale Honge.
जिन के होंटों पे हँसी पाँव में छाले होंगे,
वही लोग अपनी मंजिल को पाने वाले होंगे।

Mere Haathon Ki Lakeeron Ke Izaafe Hain Gawah,
Maine Patthar Ki Tarah Khud Ko Tarasha Hai Bahut.
मेरे हाथों की लकीरों के इज़ाफ़े हैं गवाह,
मैने पत्थर की तरह खुद को तराशा है बहुत।

Safar Mein Mushkile Aayein Toh Jurrat Aur Barhti Hai,
Koi Jab Rasta Roke Toh Himmat Aur Barhti Hai.
सफ़र में मुश्किलें आयें तो जुर्रत और बढती है,
कोई जब रास्ता रोके तो हिम्मत और बढती है।

Tu Shaheen Hai Parvaaz Hai Kaam Tera,
Tere Aage Aasmaa Aur Bhi Hain.
तू शाहीन है परवाज़ है काम तेरा,
तेरे आगे आसमान और भी है।

Jo Muskura Raha Hai Use Dard Ne Pala Hoga,
Jo Chal Raha Hai Uske Paav Mein Chhala Hoga,
Bina Sangharsh Ke Insaan Chamak Nahi Sakta.
Jo Jalega Usi Diye Mein Toh Ujala Hoga.
जो मुस्कुरा रहा है उसे दर्द ने पाला होगा,
जो चल रहा है उसके पाँव में छाला होगा,
बिना संघर्ष के इन्सान चमक नही सकता,
जो जलेगा उसी दिये में तो उजाला होगा।

Raah Sangharsh Ki Jo Chalta Hai,
Woh Hi Sansar Ko Badlta Hai,
Jisne Raaton Se Jang Jeeti Hai,
Surya Ban Kar Wohi Nikalta Hai.
राह संघर्ष की जो चलता है,
वो ही संसार को बदलता है,
जिसने रातों से जंग जीती है,
सूर्य बनकर वही निकलता है।

Sangharsh Mein Aadmi Akela Hota Hai,
Safalta Mein Duniya Uske Saath Hoti Hai,
Jab-Jab Jag Kisi Par Hansa Hai,
Tab-Tab Usi Ne Itihaas Racha Hai.
संघर्ष में आदमी अकेला होता है,
सफलता में दुनिया उसके साथ होती है,
जब-जब जग किसी पर हँसा है,
तब-तब उसी ने इतिहास रचा है।

Dar Mujhe Bhi Laga Faasala Dekh Kar,
Par Main Badta Gaya Raasta Dekh Kar,
Khud Ba Khud Mere Nazdeek Aati Gayi,
Meri Manzil Mera Hausala Dekhkar.
डर मुझे भी लगा फांसला देख कर,
पर मैं बढ़ता गया रास्ता देख कर,
खुद ब खुद मेरे नज़दीक आती गई,
मेरी मंज़िल मेरा हौंसला देख कर।

Gham Na Kar Zindagi Bahut Badi Hai,
Yeh Mehfil Tere Liye Saji Hai,
Bas Ek Bar Muskura Kar Toh Dekh,
Taqdeer Khud Tujhse Milne Bahar Khadi Hai.
ग़म न कर जिंदगी बहुत बड़ी है,
यह महफ़िल तेरे लिए ही सजी है,
बस एक बार मुस्कुरा कर तो देख,
तकदीर खुद तुझसे मिलने बाहर खड़ी है।

Kal Yehi Khwaab Hakiqat Mein Badal Jayenge,
Aaj Jo Khwaab Faqat Khwaab Najar Aate Hain.
कल यही ख्वाब हकीकत में बदल जायेंगे,
आज जो ख्वाब फकत ख्वाब नजर आते हैं।

Kahne Ko Lafz Do Hain Ummid Aur Harsat,
Lekin Nihaan Isi Mein Duniya Ki Daastan Hai.
कहने को लफ्ज दो हैं उम्मीद और हरसत,
लेकिन निहां इसी में दुनिया की दास्तां है।

Ek Suraj Tha Ke Taaro Ke Gharane Se Uthha,
Aankh Hairan Hai Kya Shakhs Zamane Se Uthha.
एक सूरज था कि तारों के घराने से उठा,
आँख हैरान है क्या शख़्स ज़माने से उठा।

Barh Ke Tufaan Ko Aagosh Mein Le Le Apni,
Dubne Wale Tere Haath Se Saahil Toh Gaya.
बढ़ के तूफ़ान को आग़ोश में ले ले अपनी,
डूबने वाले तेरे हाथ से साहिल तो गया।

Khuda Gawah Hai Dono Hain Dushmane-Parwaj,
Game-Kafas Ho Ya Rahat Ho Aashiyane Ki.
खुदा गवाह है दोनों है दुश्मने-परवाज,
गमे-कफस हो या राहत हो आशियाने की।

Khuda Tafeeq Deta Hai Unhein Jo Yeh Samjhte Hain,
Ke Khud Apne Hi Haathon Se Bana Karti Hain Taqdirein.
खुदा तौफीक देता है उन्हें जो यह समझते हैं,
कि खुद अपने ही हाथों से बना करती हैं तकदीरें।

Inhin Gam Ki Ghataaon Se Khushi Ka Chaand Niklega,
Andheri Raat Ke Pardon Mein Din Ki Roshni Bhi Hai.
इन्हीं गम की घटाओं से खुशी का चांद निकलेगा,
अंधेरी रात के पर्दों में दिन की रौशनी भी है।

Inhin Jarron Se Kal Honge Naye Kuchh Kaarwan Paida,
Jo Zarre Aaj Udte Hain Gubaar-e-Karwan Hokar.
इन्हीं जर्रों से कल होंगे नए कुछ कारवां पैदा,
जो जर्रे आज उड़ते हैं गुबार-ए-कारवां होकर।

Jara Dariya Ki Tah Tak Tu Pahunch Jane Ki Himmat Kar,
Toh Phir Aye Doobne Wale Kinara Hi Kinara Hai.
जरा दरिया की तह तक तू पहुंच जाने की हिम्मत कर,
तो फिर ऐ डूबने वाले किनारा ही किनारा है।

Chalo Chaand Ka Kirdar Apna Lein Hum Dosto,
Daag Apne Paas Rakhein Aur Roshni Baant Dein.
चलो चाँद का किरदार अपना लें हम दोस्तों,
दाग अपने पास रखें और रोशनी बाँट दे।

Har Meel Ke Patthar Par Likh Do Yeh Ibaarat,
Manzil Nahi Milti Nakaam Iraadon Se.
हर मील के पत्थर पर लिख दो यह इबारत,
मंजिल नहीं मिलती नाकाम इरादों से।

Rukti Nahi Kisi Ke Liye Mauje-Zindgi,
Dhaare Se Jo Hate Woh Kinare Par Aa Gaye.
रूकती नहीं किसी के लिये मौजे-जिन्दगी,
धारे से जो हटे वो किनारे पर आ गये।

Zindgi Hai Magar Garmie-Raftar Ka Naam,
Manzilein Saath Liye Raah Pe Chalte Rahna.
जिन्दगी है मगर गर्मिए-रफ्तार का नाम,
मंजिलें साथ लिये राह पे चलते रहना।

Hajaar Barq Gire Lakh Aandhiyan Uthhein,
Wo Phool Khil Ke Rahenge Jo Khilne Wale Hain.
हजार बर्क गिरे लाख आँधियाँ उठे,
वो फूल खिल के रहेंगे जो खिलने वाले हैं।

Na Humsafar Na Kisi HumNashin Se Niklega,
Humare Paanv Ka Kaanta Humin Se Niklega.
न हमसफ़र न किसी हमनशीं से निकलेगा,
हमारे पाँव का काँटा हमीं से निकलेगा।

Manzilein Mile Na Mile Toh Mukaddar Ki Baat Hai,
Hum Koshish Bhi Na Karein Yeh Toh Galat Baat Hai.
मंजिल मिले न मिले, ये तो मुकद्दर की बात है
हम कोशिश ही न करे ये तो गलत बात है।

Khud Ko Yun Khokar Zindgi Ko Mayus Na Kar,
Manzilein Charo Taraf Hain Rasto Ki Talash Kar.
खुद को यूँ खोकर जिन्दगी को मायूस न कर,
मंजिलें चारो तरफ हैं रास्तों की तलाश कर।

Apne Kirdaar Ko Mausam Se Bachaye Rakhna,
Laut Kar Phoolo Mein Wapas Nahi Aati Khushbu.
अपने किरदार को मौसम से बचाए रखना,
लौट कर फूलों में वापस नहीं आती खुशबू।

Pankho Ko Khol Ke Zamana Sirf Udaan Dekhta Hai,
Yun Zameen Par Baithkar Aasmaan Kya Dekhta Hai.
पंखों को खोल कि ज़माना सिर्फ उड़ान देखता है,
यूँ जमीन पर बैठकर, आसमान क्या देखता है।

Jab Tutne Lage Hausla Toh Bas Yeh Yaad Rakhna,
Bina Mehnat Ke Haasil Takht-o-Taj Nahi Hote,
Dhundh Lena Andhere Mein Hi Manzil Apni Dosto,
Kyunki Jugnu Kabhi Roshni Ke Mohtaj Nahi Hote.
जब टूटने लगे हौंसला तो बस ये याद रखना,
बिना मेहनत के हासिल तख़्त-ओ-ताज नहीं होते,
ढूढ़ लेना अंधेरे में ही मंजिल अपनी दोस्तों,
क्योंकि जुगनू कभी रोशनी के मोहताज़ नहीं होते।

Fikar Mat Kar Bande Kalam Kudrat Ke Haath Hai,
Likhne Wale Ne Likh Diya Taqdeer Tere Saath Hai,
Fikar Karta Hai Kyun Fikar Se Hota Hai Kya,
Rakh Khuda Pe Bharosa Dekh Phir Hota Hai Kya.
फिकर मत कर बन्दे कलम कुदरत के हाथ है,
लिखने वाले ने लिख दिया तकदीर तेरे साथ है,
फिकर करता है क्यूँ फिकर से होता है क्या,
रख खुदा पे भरोसा देख फिर होता है क्या।

Abhi Mutthi Nahi Kholi Hain Maine Aasman Sun Le,
Tera Bas Waqt Aaya Hai Mera Toh Daur Aayega.
अभी मुठ्ठी नहीं खोली है मैंने आसमां सुन ले,
तेरा बस वक़्त आया है मेरा तो दौर आएगा।

Zinda Rehna Hai Toh Halaat Se Darna Kaisa,
Jang Lazim Ho Toh Lashkar Nahi Dekhe Jaate.
ज़िंदा रहना है तो हालात से डरना कैसा,
जंग लाज़िम हो तो लश्कर नहीं देखे जाते।

Kehti Hai Duniya Bas Ab Haar Maan Ja,
Ummid Pukarti Hai Bas Ek Baar Aur Sahi.
कहती है ये दुनिया बस अब हार मान जा,
उम्मीद पुकारती है बस एक बार और सही।

Utho Toh Aise Utho Fakr Ho Bulandi Ko,
Jhuko Toh Aise Jhuko Bandgi Bhi Naaj Kare.
उठो तो ऐसे उठो फक्र हो बुलंदी को भी,
झुको तो ऐसे झुको बंदगी भी नाज़ करे।

Manzil Toh Mil Hi Jayegi Bhatak Ke Hi Sahi,
Gumraah Toh Woh Hain Jo Ghar Se Nikle Hi Nahi.
मंजिल तो मिल ही जाएगी, भटक के ही सही,
गुमराह तो वो हैं जो घर से निकले ही नहीं।

Rakh Hausla Woh Manzar Bhi Ayega,
Pyase Ke Paas Chal Ke Samandar Bhi Aayega,
Thak Kar Na Baith Aye Manzil Ke Musafir,
Manzil Bhi Milegi…
Aur Milne Ka Mazaa Bhi Aayega.
रख हौसला वो मंजर भी आयेगा,
प्यासे के पास चल के समन्दर भी आयेगा,
थक कर न बैठ ऐ मंजिल के मुसाफिर,
मंजिल भी मिलेगी…
और मिलने का मज़ा भी आयेगा।

Zindgi Ki Asli Udaan Abhi Baaki Hai,
Manzil Ke Kayi Imtihaan Abhi Baaki Hai,
Abhi Toh Naapi Hai Mutthi Bhar Zamin Humne,
Abhi Toh Sara Aasmaan Baaki Hai.
जिंदगी की असली उड़ान अभी बाकी है,
मंजिल के कई इम्तिहान अभी बाकी है,
अभी तो नापी है मुट्ठी भर ज़मीं हमने,
अभी तो सारा आसमान बाकी है।

Kam Karo Aisa Ke Pehchan Ban Jaye,
Har Kadam Aisa Chalo Ki Nishan Ban Jaye,
Yehan Zindgi Toh Har Koi Kaat Leta Hai,
Zindgi Jiyo Is Kadar Ki Misaal Ban Jaye.
काम करो ऐसा कि पहचान बन जाये,
हर कदम ऐसा चलो कि निशान बन जाये,
यहाँ ज़िन्दगी तो हर कोई काट लेता है,
ज़िन्दगी जियो इस कदर कि मिसाल बन जाये।

Agar Paana Hai Manzil Toh
Apna Rehnuma Khud Bano,
Woh Aksar Bhatak Jaate Hain
Jinhein Sahara Mil Jata Hai.
अगर पाना है मंजिल तो
अपना रहनुमा खुद बनो,
वो अक्सर भटक जाते हैं
जिन्हें सहारा मिल जाता है।

Taqdirein Badal Jaati Hain,
Jab Zindgi Ka Koi Maksad Ho,
Varna Zindgi Kat Jaati Hai,
Taqdir Ko ilzaam Dete Dete.
तकदीरें बदल जाती हैं,
जब ज़िन्दगी का कोई मकसद हो,
वर्ना ज़िन्दगी कट ही जाती है
तकदीर को इल्ज़ाम देते देते।

Mushkil Nahi Hai Kuchh Duniya Mein,
Tu Jara Koshish Toh Kar.
Khwab Badlenge Hakeekat Mein,
Tu Jara Koshish Toh Kar.

Aandhiyan Sada Chalti Nahin,
Mushkil Sadaa Rehti Nahin.
Milegi Tujhe Bhi Manzil
Bas
Tu Jara Koshish Toh Kar.

मुश्किल नहीं है कुछ दुनिया में,
तू जरा हिम्मत तो कर।
ख्वाब बदलेंगे हकीकत में,
तू ज़रा कोशिश तो कर।

आंधियाँ सदा चलती नहीं,
मुश्किलें सदा रहती नहीं।
मिलेगी तुझे मंजिल तेरी,
बस
तू ज़रा कोशिश तो कर।

Chhu Le Aasmaan Zamin Ki Talaash Na Kar,
Jee Le Zindgi Khushi Ki Talaash Na Kar,
Takdeer Badal Jaayegi Khud Hi Mere Dost,
Muskurana Seekh Le Wajah Ki Talaash Na Kar.
छू ले आसमान ज़मीं की तलाश न कर,
जी ले जिंदगी ख़ुशी की तलाश न कर,
तकदीर बदल जाएगी खुद ही मेरे दोस्त,
मुस्कुराना सीख ले वजह की तलाश न कर।

Sukh-Dukh Ki Dhoop-Chhaanv Se Aage Nikal Ke Dekh,
Inn Khwaishon Ke Gaaon Se Aage Nikal Ke Dekh,
Toofan Kya Dubayega Teri Kashti Ko,
Aandhion Ki Hawaaon Se Aage Nikal Ke Dekh.
सुख दुःख की धूप-छाँव से आगे निकल के देख,
इन ख्वाहिशों के गाँव से आगे निकल के देख,
तूफान क्या डुबायेगा तेरी कश्ती को,
आँधियों की हवाओं से आगे निकल दे देख।

Mushkilein Jaroor Hain Magar Thehra Nahi Hoon Main,
Manzil Se Jara Keh Do Abhi Pahucha Nahi Hoon Main.

Kadmon Ko Baandh Na Payegi Musibat Ki Zanjirein,
Raston Se Jara Keh Do Abhi Bhatka Nahi Hoon Main.

Dil Mein Chhupa Ke Rakhi Hai Ladakpan Ki Chahtein,
Doston Se Jara Keh Do Abhi Badla Nahi Hoon Main,

Saath Chalta Hai Mere Duaaon Ka Kafila,
Kismat Se Jara Keh Do Abhi Tanha Nahi Hoon Main.

मुश्किलें जरुर हैं मगर ठहरा नहीं हूँ मैं,
मंज़िल से जरा कह दो अभी पहुंचा नहीं हूँ मैं।

कदमो को बाँध न पाएगी मुसीबत की जंजीरें,
रास्तों से जरा कह दो अभी भटका नहीं हूँ मैं।

दिल में छुपा के रखी है लड़कपन की चाहतें,
दोस्तों से जरा कह दो अभी बदला नहीं हूँ मैं।

साथ चलता है मेरे दुआओं का काफिला,
किस्मत से जरा कह दो अभी तनहा नहीं हूँ।

Hukumat Baajuon Ke Zor Par Toh Koyi Bhi Kar Le,
Jo Sabke Dil Pe Chha Jaaye Use Insaan Kahte Hain.
हुकूमत बाजुओं के ज़ोर पर तो कोई भी कर ले,
जो सबके दिल पे छा जाए उसे इंसान कहते हैं।

Hum Bhi Dariya Hain Hamein Apna Hunar Malum Hai,
Jis Taraf Bhi Chal Padenge Raasta Ho Jayega.
हम भी दरिया हैं, हमें अपना हुनर मालूम है,
जिस तरफ़ भी चल पड़ेगे, रास्ता हो जाएगा।

Raaste Kahan Khatm Hote Hain Zindgi Ke Safar Mein,
Manzil Toh Wahi Hai Jahan Khwahishein Tham Jayein.
रस्ते कहाँ खत्म होते हैं जिंदगी के सफर में,
मंजिल तो वही है जहां ख्वाहिशें थम जाएँ।

Manzilon Ke Gham Mein Rone Se Manzilein Nahi Milti,
Haunsle Bhi Toot Jate Hain Aksar Udaas Rehne Se.
मंज़िलों के ग़म में रोने से मंज़िलें नहीं मिलती,
हौंसले भी टूट जाते हैं अक्सर उदास रहने से।