shayarisms4lovers mar18 02 - मुहब्बत की जुबान

मुहब्बत की जुबान

Hindi Poems Love Shayari Poetry Urdu Poetry Whatsapp Status

मुहब्बत की जुबान

यहां तक आये हो कुछ ज़ुबान से कह दो
लफ्ज़ मुहब्बत नहीं कह सकते सलाम तो कह दो

पलकें तो उठाओ अपनी इतनी भी हया कैसी
ज़ुबान से नहीं कुछ कहते निगाह से ही कह दो

दिल को यकीन आये कहदो आप हमारे हो
अपने लिखे खतों का जवाब साथ लाए हो

खत में तो तुम ने हर बात लिख दी
आये हो तो मुस्कुरा कर इक़रार भी कर दो

माना की तारीफ से बढ़ कर ग़ज़ल तुम हो
जुम्बिश लबों को कह अपनी तक़दीर हमें कह दो

Mohabbat ki Juban

ahan tak aaye ho kuch zuban se keh do
lafz muhabbat nahi keh saktay salam to keh do

palkain to uthao apni etni bhi haya kaisi
zuban se nahi kuch kehte nighah se hi keh do

dil ko yaqeen aaye keh aap hamare ho
apne likhe khaton ka jawab sath laye ho

khat mein to tum ne har baat likh di
aaye ho to muskura kar iqraar bhi kar do

mana keh tareef se barh kar ghazal tum ho
jumbish labon ko keh apni taqdeer hamain keh do