shayarisms4lovers mar18 21 - Sahir Ludhianvi - Sazaa ka haal sunaayen jazaa ki baat karen...

Sahir Ludhianvi – Sazaa ka haal sunaayen jazaa ki baat karen…

Love Shayari Romantic Shayari Sahir Ludhianvi Shayari

Sazaa ka haal sunaayen jazaa ki baat karen,
Khudaa mila ho jinhe woh khudaa ki baat karen,

Unhen pata bhi chale aur woh khafaa bhi na hon,
Iss ehtiyaat se kya mudaa.aa ki baat karen,

Hamare ehd ki tehzeeb mei qabaa hi nahin,
Agar qabaa ho to band-e-qabaa ki baat karen,

Har ek daur ka mazhab neyaa khuda laaya,
Karen to hum bhi magar kis khuda ki baat karen,

Wafaa-shuaar keyi hain koi haseen bhi to ho,
Chalo phir aaj ussi bewafaa ki baat karen…

सज़ा का हाल सुनाएँ जज़ा की बात करें,
खुदा मिला हो जिन्हें वो खुदा की बात करें,

उन्हें पता भी चले और वो खफा भी ना हों,
इस एहतियात से क्या मुदा.आ की बात करें,

हमारे एहद की तहज़ीब मे काबा ही नहीं,
अगर काबा हो तो बंद-ए-काबा की बात करें,

हर एक दौर का मज़हब नया खुद लाया,
करें तो हम भी मगर किस खुदा की बात करें,

वफ़ा-शुअर कई हैं कोई हसीं भी तो हो,
चलो फिर आज उसी बेवफा की बात करें…