Yaadein Shayari – Kuch Rishtey

Shayari on Beauty

Hindi Shayari Shayari SMS Status Whatsapp Status
Iss Darr Se Kabhi Gaur Dekha Nahi Tujhko,
Kehte Hain Lag Jaati Hai Apnon Ki Najar Bhi.
इस डर से कभी गौर से देखा नहीं तुझको​,​
​​कहते हैं कि लग जाती है अपनों की नज़र भी​।Kyun Chandni Raaton Mein Dariya Pe Nahate Ho,
Soye Huye Paani Mein Kya Aag Lagaani Ho.
क्यों चाँदनी रातों में दरिया पे नहाते हो,
सोये हुए पानी में क्या आग लगानी है,

Ai Sanam Jis Ne Tujhe Chaand Si Surat Di Hai,
Usi Allah Ne Mujh Ko Bhi Mohabbat Di Hai.
ऐ सनम जिस ने तुझे चाँद सी सूरत दी है,
उसी अल्लाह ने मुझ को भी मोहब्बत दी है।

Lene Na Paye Unki Balayein Barha Ke Haath,
Uss BadGumaan Ne Thaam Liye Muskura Ke Haath.
लेने न पाए उनकी बलायें बढ़ा के हाथ,
उस बदगुमाँ ने थाम लिए मुस्कुरा के हाथ।

Woh Sharmayi Surat Woh Neechi Nigahein,
Woh Bhule Se Unka Idhar Dekh Lena.
वो शरमाई सूरत वो नीची निगाहें,
वो भूले से उनका इधर देख लेना।

Iss Saadgi Pe Kaun Na Mar Jaye Ai Khuda,
Ladte Hain Aur Haath Mein Talwar Bhi Nahi.
इस सादगी पे कौन न मर जाए ऐ ख़ुदा,
लड़ते हैं और हाथ में तलवार भी नहीं।

Saath Shokhi Ke Kuchh Hijaab Bhi Hai,
Iss Adaa Ka Kahin Jawaab Bhi Hai?
साथ शोखी के कुछ हिजाब भी है,
इस अदा का कहीं जवाब भी है?

Adaayein Unki Dilon Se Khelti Hain,
Woh Kya Jaane Wafa Kya Hai Zafa Kya.
अदाएं उनकी दिलों से खेलती हैं,
वो क्या जाने वफ़ा क्या है जफा क्या।

Woh Kuchh Muskurana Woh Kuchh Jhhenp Jana,
Jawani Adaayein Sikhati Hai Kya Kya.
वो कुछ मुस्कुराना वो कुछ झेंप जाना,
जवानी अदाएँ सिखाती है क्या क्या।

Shokhi Se Thhaherati Nahi Qatil Ki Najar Aaj,
Yeh Barq-e-Bala Dekhiye Girti Hai Kidhar Aaj.
शोख़ी से ठहरती नहीं क़ातिल की नज़र आज,
ये बर्क़-ए-बला देखिए गिरती है किधर आज।

Jabin Par Saadgi, Neechi Nigahein, Baat Mein Narmi,
Mukhatib Kaun Kar Sakta Hai Tumko Lafze-Qatil Se.
जबीं पर सादगी, नीची निगाहें, बात में नरमी,
मुखातिब कौन कर सकता है तुमको लफ्जे-कातिल से।

Yeh Shabab Ke Fasaane Jo Main Dil Se Sun Raha Hun,
Agar Aur Koi Kehta Toh Na Aitbar Hota.
ये शबाब के फ़साने जो मैं दिल से सुन रहा हूँ,
अगर और कोई कहता तो न ऐतबार होता।

Dil Mein Samaa Gayi Hain Qayamat Ki Shokhiyan,
Do-Char Din Raha Tha Kisi Ki Nigaah Mein.
दिल में समा गई हैं क़यामत की शोख़ियाँ,
दो-चार दिन रहा था किसी की निगाह में।

Sahib-e-Aqal Hain Aap Toh Ek Masla Hal Kijiye,
Rukh-e-Yaar Nahi Dekha Kya Meri Eid Ho Gayi.
साहिब-ए-अक्ल हैं आप तो एक मसला हल कीजिये,
रुख-ए-यार नहीं देखा क्या मेरी ईद हो गयी।

Ilaahi Khair Ho Uljhan Pe Uljhan Barhti Jati Hai,
Na Mera Dam Na Unke Gesuon Ka Kham Niklta Hai,
Qayamat Hi Na Aa Jaye Jo Parde Se Nikal Aao,
Tumhare Munh Chhupane Mein To Yeh Aalam Gujrta Hai.
इलाही खैर हो उलझन पे उलझन बढ़ती जाती है,
न मेरा दम न उनके गेसुओं का खम निकलता है।
कयामत ही न हो जाये जो पर्दे से निकल आओ,
तुम्हारे मुँह छुपाने में तो ये आलम गुजरता है।

Jis Rang Mein Dekho Use Woh PardaNashin Hai,
Aur Uss Pe Ye Parda Hai Ke Parda Hi Nahi Hai,
Mujh Se Koi Puchhe Tere Milne Ki Adaayein,
Duniya Toh Yeh Kehti Hai Ke Mumkin Hi Nahi Hai.
जिस रंग में देखो उसे वो पर्दानशीं है,
और उसपे ये पर्दा है कि पर्दा ही नहीं है,
मुझ से कोई पूछे तेरे मिलने की अदायें,
दुनिया तो यह कहती है कि मुमकिन ही नहीं है।

Tum Hakiqat Nahi Ho Hasrat Ho,
Jo Mile Khwaab Mein Wahi Daulat Ho,
Kis Liye Dekhti Ho Ayina,
Tum Toh Khuda Se Bhi Jyada Khoobsurat Ho.
तुम हक़ीकत नहीं हो हसरत हो,
जो मिले ख़्वाब में वही दौलत हो,
किस लिए देखती हो आईना,
तुम तो खुदा से भी ज्यादा खूबसूरत हो।

Khuda Ne Jab Tumhein Banaya Hoga,
Uske Dil Mein Bhi Sukoon Aaya Hoga,
Pehle Socha Hoga Tumhein Apna Lun,
Phir Use Mera Khyaal Aaya Hoga.
खुदा ने जब तुम्हें बनाया होगा,
उसके दिल में भी सकून आया होगा,
पहले सोचा होगा तुम्हें अपना लूँ,
फिर उसे मेरा ख्याल आया होगा।

Meri Hasrat Hain Sirf Tumhe Paane Ki,
Aur Koi Khawahish Nahi Iss Diwane Ki,
Shikwa Mujhe Tumse Nahi Khuda Se Hai,
Kya Jarurat Thi Tumhe Itna Khubsurat Banaane Ki.
मेरी हसरत है सिर्फ तुम्हें पाने की,
और कोई ख्वाहिश नहीं इस दीवाने की,
शिकवा मुझे तुमसे नहीं खुदा से है,
क्या जरूरत थी तुम्हें इतना खूबसूरत बनाने की।

Balaa Hai Qahar Hau Aafat Hai Fitna Qayamat Hai,
Haseeno Ki Jawani Ko Jawani Kaun Kehta Hai.
बला है क़हर है आफ़त है फ़ित्ना है क़यामत है
हसीनों की जवानी को जवानी कौन कहता है।

Angdaai Leke Apna Mujh Par Jo Khumaar Dala,
Kafir Ki Iss Adaa Ne Bas Mujhko Maar Dala.
अंगड़ाई लेके अपना मुझ पर जो खुमार डाला,
काफ़िर की इस अदा ने बस मुझको मार डाला।

Aayine Mein Kya Cheej Abhi Dekh Rahe The,
Phir Kahte Ho Khuda Ki Kudrat Nahi Dekhi.
आईने में क्या चीज़ अभी देख रहे थे,
फिर कहते हो खुदा की कुदरत नहीं देखी।

Adaa Pariyon Ki Surat Hur Ki Aankein Gizalon Ki,
Garaz Maange Ki Har Ek Cheej Inn Husn Walon Ki.
अदा परियों की, सूरत हूर की, आंखें गिजालों की,
गरज माँगे कि हर इक चीज हैं इन हुस्न वालों की।

Chaal Mast Najar Mast Adaa Mein Masti,
Jab Woh Aate Hain Loote Huye Maikhane Ko.
चाल मस्त नजर मस्त अदा में मस्ती,
जब वह आते हैं लूटे हुए मैखाने को।

Yeh Gesuon Ki Ghatayein Yeh Labon Ke Maikhane,
Nigaah-e-Shauq Khudaya Kahan Kahan Thhehre.
यह गेसुओं की घटाएं यह लबों के मैखाने,
निगाहे-शौक खुदाया कहाँ कहाँ ठहरे।

Idhar Gesu Udhar Ru-e-Munawwar Hai Tasawar Mein,
Kahan Yeh Shaam Aayegi Kahan Aisi Sahar Hogi.
इधर गेसू उधर रू-ए-मुनव्वर है तसव्वर में,
कहाँ ये शाम आयेगी कहाँ ऐसी सहर होगी।

Bade Gustakh Hain Jhuk Kar Tera Munh Choom Lete Hain,
Bahut Sa Tu Ne Zalim Gesuon Ko Sar Chadaya Hai.
बड़े गुस्ताख़ हैं झुक कर तिरा मुँह चूम लेते हैं
बहुत सा तू ने ज़ालिम गेसुओं को सर चढ़ाया है।

Yeh Udi-Udi Si Rangat Yeh Khule Khule Se Gesu,
Teri Subah Kah Rahi Hai Teri Raat Ka Fasana.
यह उड़ी-उड़ी सी रंगत ये खुले-खुले से गेसू,
तेरी सुबह कह रही है तेरी रात का फसाना।

Gam-e-Zamana Teri Zulmatein Hi Kya Kam Thi,
Ke Barh Chale Hain Ab Inn Gesuon Ke Bhi Saaye.
ग़म-ए-ज़माना तिरी ज़ुल्मतें ही क्या कम थीं,
कि बढ़ चले हैं अब इन गेसुओं के भी साए।

Humare Dil Ki Halat Gesu-e-Mahboob Jaane Hai,
Pareshan Ki Pareshani Ko Pareshan Khub Jane Hai.
हमारे दिल की हालत गेसु-ए-महबूब जाने है,
परेशाँ की परेशानी परेशाँ ख़ूब जाने है।

Bijliyon Ne Seekh Li Unke Tabassum Ki Adaa,
Rang Zulfon Ki Chura Layi Ghataa Barsat Ki.
बिजलियों ने सीख ली उनके तबस्सुम की अदा,
रंग ज़ुल्फ़ों की चुरा लाई घटा बरसात की।

Puchha Jo Unse Chaand Nikalta Hai Kis Tarah,
Zunfon Ko Rukh Pe Daal Ke Jhatka Diya Ke Yun.
पूछा जो उनसे चाँद निकलता है किस तरह,
ज़ुल्फ़ों को रूख पे डाल के झटका दिया कि यूँ।

Yeh Kah SitamGar Ne Zulfon Ko Jhatka,
Bahut Dil Se Duniya Pareshan Nahi Hai.
ये कह कर सितमगर ने ज़ुल्फ़ों को झटका,
बहुत दिन से दुनिया परेशाँ नहीं है।

Unljha Hai Paav Yaar Ka Zulf-e-Daraz Mein,
Lo Aap Apne Jaal Mein Sayyad Aa Gaya.
उलझा है पाँव यार का ज़ुल्फ़-ए-दराज़ में,
लो आप अपने जाल में सय्याद आ गया।

Na Kuchh Teji Chali Baad-d-Saba Ki,
Bigadne Mein Bhi Zulf Unki Bana Di.
न कुछ तेजी चली बाद-ए-सबा की,
बिगड़ने में भी ज़ुल्फ़ उनकी बना दी।

Jalwe Machal Pade Toh Sahar Ka Gumaan Hua,
Zulfein Bikhar Gayin Toh Syaah Raat Ho Gayi.
जल्वे मचल पड़े तो सहर का गुमाँ हुआ,
ज़ुल्फ़ें बिखर गईं तो सियाह रात हो गई।

Aap Ki Zunfon Ka Saaya Hai,
Log Jisko Bahaar Kahte Hain.
आप की ज़ुल्फ़ों का साया है,
लोग जिसको बहार कहते हैं।

Yeh DilFareb Tabassum, Yeh Mast Najar,
Tumhare Dam Se Chaman Mein Bahaar Baaki Hai.
यह दिलफरेब तबस्सुम, यह मस्त नजर,
तुम्हारे दम से चमन में बहार बाकी है।

Woh Aad Mein Parde Ke Teri Neem-Nigahi,
Tute Huye Teer Ka Tukda Hai Jigar Mein.
वह आड़ में पर्दे के तेरी नीमनिगाही,
टूटे हुए तीर का इक टुकड़ा है जिगर में।

Husn Walo Ko Sanwarne Ki Jarurat Kya Hai,
Woh Toh Saadgi Mein Bhi Qayamat Ki Adaa Rakhte Hain.
हुस्न वालों को संवरने की क्या जरूरत है ,
वो तो सादगी में भी क़यामत की अदा रखते हैं।

Main Tumhari Saadgi Ki Kya Misaal Dun,
Iss Saare Jahaan Mein Be-Misaal Ho Tum.
मैं तुम्हारी सादगी की क्या मिसाल दूँ
इस सारे जहां में बे-मिसाल हो तुम।

Phool Jab Usne Chhu Liya Hoga,
Hosh Toh Khushbu Ke Bhi Urh Gaye Honge.
फूल जब उसने छू लिया होगा,
होश तो ख़ुशबू के भी उड़ गए होंगे।

Usko Sajne Ki Sawarne Ki Jarurat Hi Nahi,
Uspe Sajti Hai Hayaa Bhi Kisi Jewar Ki Tarah.
उसको सजने की संवरने की ज़रूरत​ ​ही नहीं​​,​
​उस पे सजती है हया भी किसी जेवर ​की तरह।

Angdai Leke Apna Mujh Par Jo Khumaar Dala,
Kafir Ki Iss Adaa Ne Bas Mujhko Maar Dala.
अंगराई लेके अपना मुझ पर जो खुमार डाला,
काफ़िर की इस अदा ने बस मुझको मार डाला।

Kitne Najuk Mijaaz Hain Woh Kuchh Na Puchhiye,
Neend Nahi Aati Hai Unhein Dhadkan Ke Shor Se,
कितने नाज़ुक मिजाज़ हैं वो कुछ न पूछिये,
​नींद नही आती है उन्हें धड़कन के शोर से।

Tere Husn Ko Parde Ki Jarurat Kya Hai Zalim,
Kaun Rehta Hai Hosh Mein Tujhe Dekhne Ke Baad.
तेरे हुस्न को परदे की ज़रूरत ही क्या है ज़ालिम,
कौन रहता है होश में तुझे देखने के बाद।

Palkon Ko Jab-Jab Aapne Jhukaya Hai,
Bas Ek Hi Khayal Dil Mein Aaya Hai.
Ki Jis Khuda Ne Tumhein Banaya Hai,
Tumhein Dharti Par Bhejkar Woh Kaise Jee Paya Hai.
पलकों को जब-जब आपने झुकाया है,
बस एक ही ख्याल दिल में आया है,
कि जिस खुदा ने तुम्हें बनाया है,
तुम्हें धरती पर भेजकर वो कैसे जी पाया है।

Jaise Dhuyen Ke Peechhe Se Suraj Ka Chamkana,
Ghane Baadalon Ke Peechhe Se Chaand Ka Dikhna,
Pankhudiyan Khol Kar Kamal Ka Khil-Khilana,
Waise Ghunghat Ki Aad Se Tera Lajabaaj Muskurana.
जैसे धुऐं के पीछे से सूरज का चमकना,
घने बादलों के पीछे से चाँद का खिलना,
पंखुडियाँ खोलकर कमल का खिलखिलाना,
वैसे घूँघट की आढ़ से तेरा लाजवाब मुस्कुराना।

Sarak Gaya Jab Uske Rukh Se Parda Achanak,
Farishte Bhi Kehne Lage Kaash Hum Insaan Hote.
सरक गया जब उसके रुख से पर्दा अचानक,
फ़रिश्ते भी कहने लगे काश हम भी इंसान होते।

Aafat Toh Hai Woh Naaz Bhi Andaaj Bhi Lekin,
Marta Hun Main Jis Par Woh Adaa Aur Hi Kuchh Hai.
आफ़त तो है वो नाज़ भी अंदाज़ भी लेकिन,
मरता हूँ मैं जिस पर वो अदा और ही कुछ है।

Khud Na Chhupa Sake Wo Apna Chehra Nakaab Mein,
Bewajah Humari Aankhon Pe ilzaam Lag Gaya.
ख़ुद न छुपा सके वो अपना चेहरा नक़ाब में,
बेवज़ह हमारी आँखों पे इल्ज़ाम लग गया।

Teri Tareef Mein Kuchh Lafz Kam Pad Gaye,
Varna Hum Bhi Kisi Ghalib Se Kam Nahi.
तेरी तारीफ में कुछ लफ्ज़ कम पड़ गए,
वरना हम भी किसी ग़ालिब से कम नहीं।

Chand Aahein Bharega Phool Dil Thaam Lenge,
Husn Ki Baat Chali To Sab Tera Naam Lenge.

Aisa Chehra Hai Tera Jaisa Roshan Sawera,
Jis Jagah Tu Nahin Hai Us Jagah Hai Andhera.
Kaise Phir Chain Tujh Bin Tere Badnaam Lenge,
Husn Ki Baat Chali To Sab Tera Naam Lenge.

Aankh Naazuk Si Kaliyan Baat Misri Ki Daliyan,
Honth Ganga Ke Saahil Zulfen Jannat Ki Galiyan.
Teri Khatir Farishte Sar Pe ilzaam Lenge,
Husn Ki Baat Chali To Sab Tera Naam Lenge.

Chup Na Hogi Hawa Bhi Kuch Kahegi Ghata Bhi,
Aur Mumkin Hai Tera Jikr Kar De Khuda Bhi.
Phir To Patthar Hi Shaayad Jabt Se Kaam Lenge,
Husn Ki Baat Chali To Sab Tera Naam Lenge.

चाँद आहें भरेगा, फूल दिल थाम लेंगे,
हुस्न की बात चली तो, सब तेरा नाम लेंगे।

ऐसा चेहरा है तेरा, जैसे रोशन सवेरा,
जिस जगह तू नही है, उस जगह है अंधेरा।
कैसे फिर चैन तुझ बिन तेरे बदनाम लेंगे,
हुस्न की बात चली तो, सब तेरा नाम लेंगे।

आँख नाज़ूक सी कलियाँ, बात मिस्री की ड़लियाँ,
होंठ गंगा के साहिल, जुल्फें जन्नत की गलियाँ।
तेरी खातिर फरिश्तें सर पे इल्ज़ाम लेंगे,
हुस्न की बात चली तो, सब तेरा नाम लेंगे।

चुप ना होगी हवा भी, कुछ कहेगी घटा भी,
और मुमकिन है तेरा, जिक्र कर दे खुद़ा भी।
फिर तो पत्थर ही शायद ज़ब्त से काम लेंगे,
हुस्न की बात चली तो, सब तेरा नाम लेंगे।

Har Baar Hum Par Ilzaam Laga Dete Ho Mohhabat Ka,
Kabhi Khud Se Pucha Hai Ki Itne Haseen Kyu Ho?
हर बार हम पर इल्ज़ाम लगा देते हो मोहब्बत का,
कभी खुद से भी पूछा है इतने हसीन क्यों हो?

Adaa Aayi Jafa Aayi Garur Aaya Itaab Aaya,
Hajaron Aaftein Lekar Haseeno Ka Shabaab Aaya.
अदा आई जफा आई गरूर आया इताब आया,
हजारों आफतें लेकर हसीनों का शबाब आया।

Ho Wafa Jis Mein Woh Maashuq Kahan Se Laaun,
Hai Yeh Mushkil Ki Haseen Ho Sitamjaad Na Ho.
हो वफा जिसमें वह माशूक कहाँ से लाऊँ,
है यह मुश्किल कि हसीं हो सितमजाद न हो।

Adaa Pariyon Ki Surat Hoor Ki Aankhein Gizalon Ki,
Garaj Maange Ki Har Ek Cheej Hai Inn Husn Walon Ki.
अदा परियों की सूरत हूर की आंखें गिजालों की,
गरज माँगे कि हर इक चीज है इन हुस्न वालों की।

Andaaj Apna Dekhte Hain Aayine Mein Woh,
Aur Yeh Bhi Dekhte Hain Koyi Dekhta Na Ho.
अन्दाज अपना देखते हैं आइने में वह,
और यह भी देखते हैं कोई देखता न हो।

Iss Pyaar Ka Andaaz Kuchh Aisa Hai,
Hum Kya Batayein Yeh Raaz Kaisa Hai,
Kaun Kahta Hai Ki Aap Chaand Jaise Ho,
Sach Toh Yeh Hai Ki Khud Chaand Aap Jaisa Hai.
इस प्यार का अंदाज़ कुछ ऐसा है,
क्या बताये ये राज़ कैसा है,
कौन कहता है कि आप चाँद जैसे हो,
सच तो ये है कि खुद चाँद आप जैसा है।

Gujar Gaye Hain Bahut Din Rafakat-e-Shab Mein,
Ik Umr Ho Gayi Chehra Woh Chaand Sa Dekhe,
Tere Siwa Bhi Kayi Rang KhushNajar The Magar,
Jo Tujh Ko Dekh Chuka Ho Woh Aur Kya Dekhe.
गुज़र गए हैं बहुत दिन रफ़ाक़त-ए-शब में,
इक उम्र हो गयी चेहरा वो चाँद सा देखे,
तेरे सिवा भी कई रंग खुश नज़र थे मगर,
जो तुझ को देख चुका हो वो और क्या देखे।

Nigaah-e-Yaar Pe Palko Ki Lagaam Na Ho,
Badan Mein Dur Talak Zindgi Ka Naam Na Ho,

Wo Be-naqaab Phirti Hai Gali-Kucho Mein,
Toh Kaise Shahar Ke Logon Mein Qatl-e-Aam Na Ho,

Mujhe Yakeen Hai Ki Duniya Mein Dard Barh Jayein,
Agar Yeh Peene Pilane Ke Ehtmaam Na Ho,

Bitha Ke Saamne Bas Dekhta Rahu Uss Ko,
Iss Ke Siwa Mujhe Duniya Ka Koyi Kaam Na Ho,

Jo Usko Dekh Le Aaftab Ek Najar Mohsin,
Mere Shahar Ki Galiyon Mein Kabhi Shaam Na Ho.

निगाह-ए-यार पे पलकों की अगर लगाम न हो,
बदन में दूर तलक ज़िन्दगी का नाम न हो,

वो बे-नकाब जो फिरती है गली-कूंचों में,
तो कैसे शहर के लोगों में क़त्ल-ए-आम न हो,

मुझे यकीं है कि दुनिया में दर्द बढ़ जाएँ,
अगर ये पीने पिलाने के एहतमाम न हो,

बिठा के सामने बस देखता रहूँ उस को,
इस के सिवा मुझे दुनिया का कोई काम न हो,

जो उसको देख ले अफताब एक नज़र मोहसिन,
मेरे शहर की गलियों में कभी शाम न हो।

Chaand Sa Misra Akela Hai
Mere Kaagaj Pe,
Chhat Pe Aa Jao
Mera Sher Mukammal Kar Do.
चाँद सा मिसरा अकेला है
मेरे कागज पे,
छत पे आ जाओ मेरा शेर
मुक्कमल कर दो।

Abhi Iss Taraf Na Nigah Kar
Main Ghazal Ki Palkein Sanwar Lu,
Mera Lafz-Lafz Ho Ayina
Tujhe Aayine Mein Utaar Lu.
अभी इस तरफ़ न निगाह कर
मैं ग़ज़ल की पलकें सँवार लूँ,
मेरा लफ़्ज़-लफ़्ज़ हो आईना
तुझे आईने में उतार लूँ।

Woh Thaka Hua Meri Baahon Me
Jara So Gaya Tha To Kya Hua,
Abhi Maine Dekha Hai Chaand Bhi
Kisi Shakh-e-Gul Pe Jhuka Hua.
वो थका हुआ मेरी बाहों में
ज़रा सो गया था तो क्या हुआ,
अभी मैंने देखा है चाँद भी
किसी शाख़-ए-गुल पे झुका हुआ।

Main Fanaah Ho Gaya
Uski Ek Jhalak Dekhkar,
Na Jane Har Roz Aayine Par
Kya Guzarati Hogi.
मै तो फना हो गया उसकी
एक झलक देखकर,
ना जाने हर रोज़ आईने पर
क्या गुजरती होगी।

Yeh Baat, Yeh Tabassum,
Yeh Naaz Yeh Nigaahein,
Aakhir Tumhi Batao,
Kyu Kar Na Tumko Chahen.
यह बात, यह तबस्सुम,
यह नाज, यह निगाहें,
आखिर तुम्ही बताओ
क्यों कर न तुमको चाहें।

Hata Kar Zulf Chehre Se
Na Chhat Par Shaam Ko Jana,
Kahin Koyi Eid Na Kar Le,
Abhi Ramdan Baaki Hai.
हटा कर ज़ुल्फ़ चेहरे से
ना छत पर शाम को आना,
कहीं कोई ईद ही ना कर ले
अभी रमज़ान बाकी है।

Parwana Pash-o-Pesh Mein Hai
Jaye To Kis Taraf,
Roshan Shamma Ke
Ru-ba-ru Chehara Hai Aapka.
परवाना पेशोपेश में है
जाए तो किस तरफ,
रौशन शमा के रूबरू
चेहरा है आप का।

Honthhon Pe Apne Yun Na Rakha Karo
Tum Nadaan Kalam Ko,
Varna Nazm Phir Nashili Hokar
Ladkhadati Rahhegi.
होंठो पे अपने यूँ ना रखा करो
तुम नादान कलम को,
वरना नज़्म फिर नशीली होकर
लड़खड़ाती रहेगी।

Wo Aankho Se Yu Shararat Karte Hain,
Apni Adaa Se Bhi Qayamat Karte Hai,
Nigahein Unki Bhi Chehare Se HatTi Nahi,
Aur Wo Humari Najron Se Shikayat Karte Hai.
वो आँखों से यूँ शरारत करते हैं,
अपनी अदा से भी कयामत करते हैं,
निगाहें उनकी भी चेहरे से हटती नहीं,
और वो हमारी नजरों से शिकायत करते हैं।

Faqat Is Shauq Mein Puchhi Hain Hazaron Baatein,
Main Tera Husn Tere Husn-e-Bayan Tak Dekhun!
फ़क़त इस शौक़ में पूछी हैं हज़ारों बातें..
मैं तेरा हुस्न तेरे हुस्न-ए-बयाँ तक देखूँ।

Dhadkano Ko Kuchh To Kaabu Mein Kar Ai Dil,
Abhi Palkein Jhukayi Hain, Muskurana Abhi Baki Hai!
धडकनों को कुछ तो काबू में कर ए दिल,
अभी तो पलकें झुकाई हैं मुस्कुराना अभी बाकी है।

Kam Se Kam Apne Baal To Baandh Liya Karo,
Kambakht..Be-Wajah Mausam Badal Diya Karte Hain!
कम से कम अपने बाल तो बाँध लिया करो।
कमबख्त..बेवजह मौसम बदल दिया करते हैं।

Unko Sote Huye Dekha Dam-e-Subah Kabhi,
Kya Bataun Jo Inn Aankho Ne Shama Dekha!
उनको सोते हुए देखा था दमे-सुबह कभी,
क्या बताऊं जो इन आंखों ने शमां देखा था।