shayarisms4lovers mar18 109 - कोई आवाज़ फिर मुझे जगा देगी – अल्लामा इक़बाल की शायरी

कोई आवाज़ फिर मुझे जगा देगी – अल्लामा इक़बाल की शायरी

कोई आवाज़ फिर मुझे जगा देगी आज फिर तेरी याद मुश्किल बना देगी सोने से काबिल ही मुझे रुला देगी आँख लग गई भले से , तो डर है कोई आवाज़ फिर मुझे जगा देगी Koi Awaaz Phir Mujhe Jaga Degi Aaj Pher Teri Yaad Mushkil Bana degi Sone Se kabil hi Mujhe Rula degi […]

Continue Reading