shayarisms4lovers mar18 220 - बरसों के इंतज़ार का अंजाम लिख दिया

बरसों के इंतज़ार का अंजाम लिख दिया

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

बरसों के इंतज़ार का अंजाम लिख दिया

बरसों के इंतज़ार का अंजाम लिख दिया
काग़ज़ पे शाम काट के फिर शाम लिख दिया

बिखरी पड़ी थी टूट के कलियाँ ज़मीन पर
तरतीब दे के मैंने तेरा नाम लिख दिया

आसान नहीं थी तर्क -ऐ -मुहब्बत की दास्ताँ
दो आंसूओं ने आखरी पैग़ाम लिख दिया

अल्लाह ज़िन्दगी से कब तक निभाऊं मैं
किस बेवफा के साथ मेरा नाम लिख दिया

तक़सीम हो रही थीं खुदाई की नेमतें
इक इश्क़ बच गया सो मेरे नाम लिख दिया

किसी की देंन हैं यह शायरी मेरी
किसकी ग़ज़ल पे किसने मेरा नाम लिख दिया

Barson ke intezar ka anjaam likh diya

Barson ke intezar ka anjaam likh diya
kaghaz pe shaam kaat ke phir shaam likh diya

bikhri paree thi toot ke kaliyan zameen par
tarteeb de ke maine tera naam likh diya

aasan nahin thi tark-e-muhabbat ki daastan
do aansoon ne aakhri paigham likh diya

allah zindagi se kab tak nibhaon main
kis bewafa ke saath mera naam likh diya

taqseem ho rahi thi khudai ki naimatain
ik ishq bach gaya so mere naam likh diya

kissi ki dein hain yeh shairee meri
kiski ghazal pe kisne mera naam likh diya…

Continue Reading