shayarisms4lovers June18 74 - ख्याल-ऐ -इश्क़ शायरी

ख्याल-ऐ -इश्क़ शायरी

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

यह नादान दिल

यह दिल न जाने क्या कर बैठा
मुझ से बिना पूछे यह फैसला कर बैठा
इस ज़मीन पर कभी टूटा तारा भी नहीं गिरा
यह नादान चाँद से दिल लगा बैठा

Yeh Naadan Dil

Yeh dil na jane kya kar betha
Mujh se bina puche yeh fesla kar betha
Is zaamen par kabhi tutaa tara bhi nahi gera
Yeh naadan chand se dil laga betha…


मेरी तक़दीर 

आज मैंने तलाश किया उनको अपने आप में
वो मुझे हर जगह मिले एक तक़दीर के सिवा

Meri Taqdeer

Aaj maine Talaash Kiya Unko Apne Aap Mein
Wo Mujhe Har Jagah Mille Ek Taqdeer Ke Siwa…


हाल-ऐ -दिल

ख़याल था के सुनाएँ गए हाल-ऐ -दिल लेकिन
हम उस के सामने अर्ज़-ऐ-हुनर भी भूल गए

Haal-AE-Dil

Khayaal tha ke sunaayen ge haal-e-dil lekin
Hum us ke saamnay Arz-e-hunar bhi bhool gaye…


मुक़ाम ग़ज़ब का

दीवानो ने दिया है तुझे मुक़ाम ग़ज़ब का
वरना ..!!  ऐ इश्क़ तेरी “दो कौड़ी ” की औकात  नहीं ​

Muqaam Ghazab Ka

Deewanoo Ne Diya Hai Tujhe Muqaam Ghazab Ka
Warna..!!Ae Ishq Teri “Do kaudhi” Ki aukaat Nahi​…


तेरे शहर के लोग

तुझसे मिलने की सजा देंगे तेरे शहर के लोग
यह वफाओं का सिला देंगे तेरे शहर के लोग
क्या खबर थी तेरे मिलने पे क़यामत होगी
मुझको दीवाना बना देंगे तेरे शहर के लोग

Tere Shehar Ke Log

Tujhse milne ki saza denge tere shehar ke log
Ye wafaon ka sila denge tere shehar ke log
Kya khabar thee tere milne pe qayamat hogi
Mujhko deewaana bana denge tere shehar ke log…


शमा और परवाना 

परवाने को शमा पर जल कर कुछ तो मिलता होगा
यूँ ही मरने के लिए कोई मुहब्बत नही करता

Shama Aur Parwana

parwane ko shama par jal kar kuch to milata hoga
Yoon hi marne key liye koi mohabbat nahi karta…

Continue Reading