shayarisms4lovers mar18 69 - थामी है कलाई अब न छुटेगी मुझसे – चूड़ियाँ

थामी है कलाई अब न छुटेगी मुझसे – चूड़ियाँ

यादों का इक झोंखा यादों का इक झोंखा आया मुद्द्तों बाद पहले इतना रोये नहीं जितना रोये बरसों बाद लम्हां लम्हां गुजरा तो  हमे अहसास हुआ पत्थर फैंके बरसों पहले , शीशे टूटे बरसों बाद दस्तक ही उमीद लगाये कब से बैठे हैं हम कल का वादा करने वाले , मिलने आए बरसों बाद.. गुजरे […]

Continue Reading