shayarisms4lovers June18 202 - इश्क़ और तन्हाई शायरी

इश्क़ और तन्हाई शायरी

तन्हाई कितनी अजीब है मेरे अंदर की तन्हाई भी ,​ ​हज़ारों अपने हैं मगर याद तुम ही आते हो ..​ Tanhai Kitni Ajeeb Hai Mere Andar Ki Tanhai Bhi,​ ​Hazaron Apne Hain Magar Yaad Tum Hi Atey Ho..​ तन्हाईयाँ तन्हाईयाँ कुछ इस तरह से डसने लगी मुझे मैं आज अपने पैरो की आहट से डर […]

Continue Reading