shayarisms4lovers may18 38 - काश उन्हें भी कभी हम पे ऐतबार तो होता – ऐतबार शायरी

काश उन्हें भी कभी हम पे ऐतबार तो होता – ऐतबार शायरी

काश उन्हें भी कभी हमपे ऐतबार तो होता काश उनका दिल इतना शख्त न होता , प्यार हमसे भी कभी उन्होंने किया होता .. एक हम भी थे उनके चाहने वाले , काश उन्हें भी कभी हमपे ऐतबार तो होता .. kaash unka dil itna saqt na hota kaash unka dil itna saqt na hota, […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 153 - याद-ऐ-गम

याद-ऐ-गम

तुम याद नहीं करते हम भुला नहीं सकते तुम हँसा नहीं सकते हम रुला नहीं सकते दोस्ती इतनी प्यारी है हमारी तुम जान नहीं सकते और हम बता नहीं सकते दिल गुमसुम जुबान खामोश क्यों है यह आँखें आज नम क्यों है जिन्हे कभी पाया ही न था तो आज उन्हें हमे खोने का गम […]

Continue Reading