shayarisms4lovers June18 205 - काश ! के वो मेरा होता , मेरे नाम की तरहँ – परवीन शाकिर

काश ! के वो मेरा होता , मेरे नाम की तरहँ – परवीन शाकिर

मेरे नाम की तरहँ  यह मेरी ज़ात की सब से बड़ी तमन्ना थी , काश ! के वो मेरा होता , मेरे नाम की तरहँ Mere Naam Ki Tarhan Yeh Meri Zaat Ki Sab Se Bari Tamanna Thi Kaash! Ke Woh Mera Hota, Mere Naam Ki Tarhan दर्द क्या होता है बताएँगे किसी रोज़ दर्द […]

Continue Reading