shayarisms4lovers mar18 38 - वो मेरा है मगर इस एहसास से इंकार करता है ​- ग़ज़ल

वो मेरा है मगर इस एहसास से इंकार करता है ​- ग़ज़ल

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

वो मुझ से मांगता है उम्र भर की वफ़ा का वादा

वो मेरा है मगर इस एहसास से इंकार करता है
भरी महफ़िल मैं मुझ को रुसवा वो हर बार करता है

यूँ तो करता है ज़माने भर की बातें मुझ से
मगर जब बात मोहबत की हो तो तकरार करता है

सितम् जब अपने सुनाता है भरी महफ़िल मैं वो
बड़े अंदाज़ से अपने गुनाहों का इज़हार करता है

वो मुझ से मांगता है उम्र भर की वफ़ा का वादा
किस मासूमियत से वो मुझ से फरयाद करता है

मालूम है सब को खफा है आज कल मुझ से वो
मगर मैं जानता हूँ के वो मुझ से प्यार करता है

Hindi and urdu Shayari,Gazal,kalam- वो मेरा है मगर इस एहसास से इंकार करता है

Wo Mujh Se Mangta Hai Umar Bhar Ki Wafa Ka Waada

Wo Mera Hai Magar Is Ihsaas Se Inkar Karta Hai
Bhari Mehfil Main Mujh ko Wo Ruswa Har Baar Karta Hai

Yun Tu Karta Hai Zamane Bhar Ki Batain Mujhe Se
Magar Jab Baat Mohabat Ki Ho To Takrar karta Hai

Sitam Jab Apnay Sunata Hai Bhari Mehfil Main wo
bade Andaaz Se Apne Gunahon Ka Izhaar Karta Hai

Wo Mujh Se Mangta Hai Umar Bhar Ki Wafa Ka Waada
Kis Masomiat Se Wo Mujhe Se Faryaad Karta Hai

Maloom Hai Sab Ko Khafa Hai AAj Kal Mujh Se Wo Haris
Magar Main Janta Hoon Ke Wo Mujh Se Pyar Karta Hai

Hindi and urdu Shayari – Gazal -Wo Mera Hai Magar Is Ihsaas Se Inkar Karta Hai
Continue Reading