भगवान श्रीगणेश के 8 अवतारों की कथाएं | 8 Avatar Story of Lord Ganesha

8 Avatar Story of Ganesha in hindi भगवान श्रीगणेश के 8 अवतारों की कथाएं | 8 Avatar Story of Lord Ganesha in Hindi : आपने कई बार भगवान् श्री हरि विष्णु  एवं शिव के अवतारों की कथाए प‌‍ढी होंगी तथा आपको यह जान कर आश्चर्य होगा की अन्य सभी देवताओं के समान भगवान गणेश ने भी आसुरी शक्तियों के विनाश के लिए विभिन्न अवतार लिए। श्रीगणेश के इन अवतारों का वर्णन गणेश पुराण, मुद्गल पुराण, गणेश अंक आदि ग्रंथो में मिलता है। जानिए श्रीगणेश के अवतारों के बारे में : 8 Avatar of Ganesha in hindi 1. वक्रतुंड | Vakratunda वक्रतुंड का अवतार राक्षस मत्सरासुर के दमन के लिए हुआ था। मत्सरासुर शिव भक्त था और उसने शिव की उपासना करके वरदान पा लिया था कि उसे किसी से भय नहीं रहेगा। मत्सरासुर ने देवगुरु शुक्राचार्य की आज्ञा से देवताओं को प्रताडि़त करना शुरू कर दिया। उसके दो पुत्र भी थे सुंदरप्रिय और विषयप्रिय, ये दोनों भी बहुत अत्याचारी थे। सारे देवता शिव की शरण में पहुंच गए। शिव ने उन्हें आश्वासन दिया कि वे गणेश का आह्वान करें, गणपति वक्रतुंड अवतार लेकर आएंगे। देवताओं ने आराधना की और गणपति ने वक्रतुंड अवतार लिया। वक्रतुंड भगवान ने मत्सरासुर के दोनों पुत्रों का […]

Continue Reading

अनंतपुर मंदिर – एक शाकाहारी मगरमच्छ करता है यहाँ की रखवाली

Anantpur Crocodile Temple History, Hindi Anantpur Crocodile Temple History, Hindi: भारत एक विशाल देश है, और यहां हर धर्म, संस्कृति को मानने वाले लोग रहते हैं। मंदिरों के इस देश में लोग भगवान से प्रार्थना करने के लिए मंदिर जाते हैं और अपनी मनोकामना पुरी करते हैं। ठीक इसी तरह है केरल का अनंतपुर मंदिर जहां लोग अपनी मनोकमाना पुर्ण करने के लिए जाते हैं। पर यह मंदिर अनोखा है और रहस्य से भरा हुआ है यहां पर एक मान्यता है जो बहुत विचित्र हैं जिनके बारे में जानकर आप चौंक जाएंगे। ऐसी ही एक मान्यता की जानकारी आज हम आपको दे रहे हैं…अनोखी है मान्यता अनंतपुर मंदिर जो कि केरल में हैं, यह मंदिर झील पर बना हुआ है। इस मंदिर की बहुत ही विचित्र मान्यता है कि इस मंदिर की रखवाली एक मगरमच्छ करता है। ‘बबिआ’ नाम के मगरमच्छ से प्रसिद्ध इस मंदिर में यह भी मान्यता है कि जब इस झील में एक मगरमच्छ की मृत्यु होती है तो रहस्यमयी ढंग से दूसरा मगरमच्छ प्रकट हो जाता है। यह मंदिर भगवान विष्णु (भगवान अनंत-पद्मनाभस्वामी) का है। माना जाता है कि झील में रहने वाला यह मगरमच्छ पूरी तरह शाकाहारी है और पुजारी इसके मुंह में प्रसाद डालकर […]

Continue Reading

इस जन्माष्टमी पर सफलता प्राप्त करने के लिए करे यह खास उपाय

Janmashtmi Samasyao Ke Nivaran Hetu Saral Upaaye “जन्माष्टमी” का त्यौहार हर कोई अपने अनुसार बनाता है कोई इस दिन व्रत रखता है तो कोई श्री कृष्ण के भजन कीर्तन, ध्यान में अपना दिन गुजरता है, अधिकतर जन-समुदाय यह सोचता है की यह सिर्फ श्री कृष्ण का जन्मदिवस है तो वह गलत है क्योकि इस रात्रि को विशेष तांत्रिक ग्रंथो में मोह रात्रि कहा गया है और कहा जाता है की इस रात की गयी आकर्षण-वाशीकरण की साधनाए कभी निष्फल नहीं जाती तथा कृष्ण जन्मदिवस होने के कारण इस दिन की गयी कृष्ण साधनाओं का अचूक फल प्राप्त होता है एवं अपने जीवन की विभिन्न समस्याओं के निवारण हेतु भी इस दिन विशेष अनुष्ठान किये जाते है जिनमे सफलता प्राप्त होती ही है | आगे ऐसे ही जन्माष्टमी पर किये जाने वाले कुछ उपाए है जो अत्यंत सरल है तथा कोई भी इन्हें कर अपने कार्यो में सफलता प्राप्त कर सकता है | जन्माष्टमी के विशेष पर्व पर किये जाने वाले कुछ विशेष उपाय | Janmashtmi Samasyao Ke Nivaran Hetu Saral Upaaye : Janmashtmi Samasyao Ke Nivaran Hetu Saral Upaaye 1. धन लाभ के लिए एवं आर्थिक संकट के निवारण हेतू जन्माष्टमी के दिन प्रात: स्नान आदि करने के बाद किसी भी राधा-कृष्ण मंदिर में […]

Continue Reading

जानिये खाने से पहले क्यों छिडकते है भोजन के चारो तरफ पानी

Dabble Water Around The Plate Before Eating in Hindi Dabble Water Around The Plate Before Eating in Hindi – जानिये खाने से पहले क्यों छिडकते है भोजन के चारो तरफ पानी : भारतीय परंपराओं का हमेशा से ही दुनिया में अलग स्‍थान रहा है, शायद यही कारण है कि दुनियाभर के लोग हमारी सभ्‍यता का अनुसरण करते दिख जाते हैं। वहीं अगर भारतीयों की बात की जाए तो ज्‍यादातर लोग अपनी परंपराओं को भूलते जा रहें है, जिनका हमारे बुजुर्ग बहुत ही ईमानदारी से पालन करते हैं। तमाम मान्‍यताओं के बीच यहां हम एक ऐसी ही मान्‍यता का जिक्र कर रहें हैं जो धीरे-धीरे हमारे बीच से विलुप्‍त होती जा रही है। आपको याद होगा जब आपके पिता या दादा जी भोजन करने से पहले थाली के चारो तरफ तीन बार जल (पानी) छिड़कते थे। इसके साथ ही कुछ लोग मंत्रोच्‍चार भी करते थे। उत्‍तर भारत में इसे चित्र आहति और तमिलनाडू में परिसेशनम के नाम से जाना जाता है। ऐसा इसलिए किया जाता था, क्‍योंकि ऐसा करके हमारे बुजुर्ग अन्‍न के प्रति सम्‍मान प्रकट करते थे। यही नही इसके पीछे वैज्ञानिक कारण और स्वास्थ्य के लिए लाभकारी वजहें भी हैं, जिसे बहुत कम लोग जानते हैं। Dabble Water Around […]

Continue Reading