Padmanabhaswamy Temple History In Hindi | पद्मनाभस्वामी मंदिर का रहस्य

नमस्कार दोस्तों “shayarisms4lovers.in” में आपका स्वागत है |

दोस्तों वैसे तो केरला में कई सारे मंदिर है जिनकी कलाकृति अद्वितीय है और जिन्हे गिन पाना भी बहुत मुश्किल है, हर एक मंदिर अपने आप में एक अनोखी आस्था की छाप छोड़ता है और जिनके पीछे अपनी एक कहानी छिपी है आज हम ऐसे ही एक मदिर के बारे में बात करने जा रहे है जो भारत के केरल राज्य के तिरुअनन्तपुरम में स्थित, भगवान विष्णु का प्रसिद्ध हिन्दू मंदिर, उस प्रसिद्ध मंदिर का नाम है पद्मनाभस्वामी मंदिर |

Padmanabhaswamy Temple History In Hindi | पद्मनाभस्वामी मंदिर का रहस्य

यह भारत के प्रमुख वैष्णव मंदिरों में से एक है मंदिर के गर्भ गृह में भगवान विष्णु की विशाल मूर्ति है। इस प्रतिमा में भगवान विष्णु शेष नाग पर विराजमान है। यह ऐतिहासिक मंदिर तिरुअनंतपुरम के अनेक पर्यटन स्थलों में से एक है | यह मंदिर विश्व के धनवान मंदिरो में से एक है, यहाँ विश्व भर से लाखो लोग विष्णु भगवान् के दर्शन के लिए यहाँ पहुंचते है | पद्मनाभस्वामी मंदिर विष्णु-भक्तों की प्रख्यात आराधना-स्थली है। यहां केवल हिन्दू ही प्रवेश कर सकते है. इस मंदिर में प्रवेश के लिए पुरुषों को सिर्फ धोती, जबकि औरतों को साड़ी पहनना जरुरी होता है, यह बहुप्रतिस्थित मंदिर प्राचीन वास्तु शिल्प कारीगरी का एक अद्भुत उदाहरण है, मंदिर की संरचना में समय समय पर सुधार कार्य किए जाते रहे हैं, उदाहरणार्थ 1733 ई. में इस मंदिर का पुनर्निर्माण राजा मार्तंड वर्मा ने करवाया था | इस मंदिर के पुनर्निर्माण में अनेक महत्वपूर्ण बातों का ध्यान रखा गया है। सर्वप्रथम इसकी भव्यता को आधार बनाया गया मंदिर को विशाल रूप में निर्मित किया गया जिसमें उसका शिल्प सौंदर्य सभी को प्रभावित करता है। मंदिर के निर्माण में द्रविड़ एवं केरल शैली का मिला जुला प्रयोग देखा जा सकता है।

पद्मनाभस्वामी मंदिर का इतिहास – Sree Padmanabhaswamy Temple History In Hindi

  दोस्तों अब हम पद्मनाभस्वामी मंदिर के इतिहास के बारे में बात करने जा रहे है। वैसे तो पद्मनाभ स्वामी मंदिर के साथ एक पौराणिक कथा जुडी है। मान्यता है कि सबसे पहले इस स्थान से विष्णु भगवान की प्रतिमा प्राप्त हुई थी जिसके बाद उसी स्थान पर इस मंदिर का निर्माण किया गया है। यह बात उस समय की है जब दक्षिण भारत में चोला, पांड्या और चेरा इन तीन प्रमुख साम्राज्यों की त्रिटी थी और उसी समय एक महत्वाकंशी राजा ठाकुर मार्तंड वर्मा हुआ करते थे जिन्होंने अपने आस पास के सभी राज्यों को जीतकर एक बड़े राज्य का …

Continue Reading