shayarisms4lovers June18 240 - इश्क़ करने वाले आँखों की बात समझ लेते है – नशीली आँखों की शायरी

इश्क़ करने वाले आँखों की बात समझ लेते है – नशीली आँखों की शायरी

आँखों की बात इश्क़ करने वाले आँखों की बात समझ लेते है सपनो में यार आए तो उसे मुलाकात समझ लेते है रूठता तो आसमान भी है अपनी ज़मीन के लिए यह तो लोग ही उसे बरसात समझ लेते है Aankhon ki Baat Ishq karnewale Aankhon ki baat samajh lete hai Sapno mein yaar aaye Toh usse mulakat samajh lete hai Roota to aasman bhi hai Apni zameen ke liye Yeh to log hi usse barsaat samajh lete hai… नशीली ऑंखें नशीली आँखों से वो जब हमें देखते हैं हम घबराकर ऑंखें झुका लेते हैं कौन मिलाए उनकी आँखों से ऑंखें सुना है वो आँखों से अपना बना लेते है . Nashili Ankhen Nashili aankho se wo jab hamein dekhte hain, hum ghabraakar ankhen jhuka leite hain, kaun milaye unn ankhon se ankhen, suna hai wo ankho se apna bana leite hai… आँखों से बातें कोई आँखों से बातें करता हैं कोई आँखों से मुलाकाते करता हैं बड़ा मुश्किल होता हैं जवाब देना जब कोई चुप रह के सवाल करता हैं . Aankho se Batein Koi aankho se batein karta hain Koi aankhon se mulakate karta hain Bada mushkil hota hain jawab dena Jab koi chup raheke sawaal karta hain… […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 21 - तेरे नैनो की शोख अदाओं ने हमे लूटा लिया

तेरे नैनो की शोख अदाओं ने हमे लूटा लिया

हसीं ख्वाब तेरे नैनो की शोख अदाओं ने हमे लूटा लिया तेरी झील सी गहरी आँखों ने हमे लूटा लिया हम तो लूट चुके है इस कदर ऐ हसीं ख्वाब अब डरता हूँ कहीं कोई लूट न ले मेरे ख्वाब Hasin Khwaab Tere naino ki shok adayon ne hume loota liya Teri Jhil si gehri ankhoo ne hume loota liya Hum to loot chuke hai is kadar ae hasin khwaab Ab darta hoon kahin koi loot na le mere khwaab जिनसे चाँद शर्माए जरा सी देर के लिए सब कुछ भुला के देख लेते है तुन्हे हम सामने बैठा कर देख लेते है वो चेहरे कैसे होते है की जिनसे चाँद शर्माए जरा तेरे चेहरे से जुल्फे हटा कर देख लेते है Jinse Chand Sharmaye jara si der ke liye sab kuch bhula ke dekh lete hai tunhe hum samne baitha kar dekh lete hai wo chehre kaise hote hai ki jinse chand sharmaye jara tere chehre se julfe hata kar dekh late hai अपना होश नहीं जब से देखा हैं उन्हें मुझे अपना होश नहीं जाने क्या चीज़ वो नज़रो से मुझे पिला देतें है Mujhe Apna Hosh Nahi jab se dekha hain unhe mujhe apna hosh nahi jane […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 264 - तेरी ज़ुल्फे खुली हो जैसे – तेरी ज़ुल्फे उर्दू शायरी

तेरी ज़ुल्फे खुली हो जैसे – तेरी ज़ुल्फे उर्दू शायरी

मेरे मर जाने की वो सुन के खबर आई  “मोहसिन” घर से रोते हुए वो बिन ज़ुल्फ़ सँवारे निकले ज़ुल्फ़ खुली हो जैसे ऐसा लगता है तेरी ज़ुल्फ़ खुली हो जैसे होके गुलशन से सबा आज चली हो जैसे अध खुले होंठ सियाह ज़ुल्फ़ और गज़ली ऑंखें किसी शायर ने कोई ग़ज़ल तर्ज़ की हो जैसे Zulf khuli ho jaise Aisa lagta hai teri zulf khuli ho jaise Hoke Gulshan se saba aaj chali ho jaise Adh khule hont siyah zulf aur gazali ankheN Kisi shayar ne koi gazal tarz ki ho jaise… ज़ुल्फ़ अगर खुल के बिखर जाये यह ज़ुल्फ़ अगर खुल के बिखर जाये तो अच्छा है इस रात की तक़दीर सँवर जाये तो अच्छा है जिस तरह से थोड़ी सी ज़िन्दगी तेरे साथ कटी है बाकी भी उसी तरह गुज़र जाये तो अच्छा है वैसे तो तुम्ही ने मुझे बर्बाद किया है इल्ज़ाम किसी और के सिर जाये तो अच्छा है Zulf Agar Khul ke Bikhar Jaye Yeh zulf agar khul ke bikhar jaye to accha hai Is raat ki takdir sanwar jaye to accha hai Jis tarah se thodi si zindagi tere saath kati hai Baaki bhi usi tarah guzar jaye to accha hai Waise to […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 204 - Best Collection of Pakistani Two Lines urdu Shayari

Best Collection of Pakistani Two Lines urdu Shayari

कोई ऐसा शख्स जो पुकारता था हर घड़ी , जो जुड़ा था मुझसे लड़ी लड़ी कोई ऐसा शख्स अगर कभी , मुझे भूल जाये तो क्या करूं Koi Aisa Shakhs Jo Pukarta Tha Har Ghadi, Jo Juda Tha Mujhse Ladi Ladi Koi Aisa Shakhs Agar Kabhi, Mujhe Bhool Jaye To Kya Krun जान देने की इजाज़त जान देने की इजाज़त भी नहीं देते हो वरना मर जाएँ और मर के मना लें तुम को Jaan Dene Ki Ejazaat Jaan Dene Ki Ejazaat Bhi Nahi Dete Ho Warna Mar Jayein Aur Mar Ke Manaa Le Tum Ko उम्र भर के साथ उस मरहले को मौत भी कहते हैं दोस्तों एक पल में टूट जाएँ जहाँ उम्र भर के साथ Umar Bhar Ke Sath Us Marhaly Ko Mout Bhi Kehte Hain Dosto Ek Pal Mein Toot Jayen Jahan Umar Bhar Ke Sath मिसल-ऐ-खुशबु सुना है जिन की बातें मिसल-ऐ-खुशबु फैला जाती हैं बहुत बिखरे हुए होते हैं ऐसे लोग अंदर से Misl-ae-Khushbu Suna Hai Jin Ki Baaten Misl-ae-Khushbu fila Jati Hain Bahut Bikhre Hue Hote Hain Aise Log Andar Se

Continue Reading
Wasi Shah - Sochta hoon ke usay neend bhi ati hogi..

प्यार, मोहबत और चाहत शायरी – Shayari of Love and Romance

चाहत की महफ़िल ग़म न कर ज़िन्दगी बहुत बड़ी है चाहत की महफ़िल तेरे लिए सजी है बस एक बार मुस्कुरा कर तो देख तक़दीर खुद तुझसे मिलने बाहर खड़ी है   Chahat Ki Mehfil Gham Na Kar Zindagi Bahut Badi Hai, Chahat Ki Mehfil Tere Liye Saji Hai, Bas Ek Baar Muskura Kar Tho Dekh, Taqdeer Khud Tujhse Milne Bahar Khadi Hai   आप के नाम मंज़िलों की हर राह आप के नाम , मोहब्बत की हर अदा आप के नाम प्यार भरी हर निगाह आप के नाम और आज लबों पर आने वाली हर दुआ आपके नाम Aap Ke Naam Manzilo ki har sadak aap ke naam Mohabbat ki har adda aap ke naam Pyaar bhari har nigah aap ke naam Aur aaj labon par aaane wali har dua aapke naam   प्यार की तड़प प्यार की तड़प को दिखाया नहीं जाता दिल में लगी आग को बुझाया नहीं जाता कितनी भी दूरी हो प्यार में मगर आप जैसे दोस्त को भुलाया नहीं जाता   Pyaar ki Tadap pyaar ki tadap ko dikhaya nahi jata dil mein lagi aag ko bhujaya nahi jata kitni bhi doori ho pyaar mein magar aap jaise dost ko bholaya nahi jata   […]

Continue Reading