shayarisms4lovers June18 240 - इश्क़ करने वाले आँखों की बात समझ लेते है – नशीली आँखों की शायरी

इश्क़ करने वाले आँखों की बात समझ लेते है – नशीली आँखों की शायरी

आँखों की बात इश्क़ करने वाले आँखों की बात समझ लेते है सपनो में यार आए तो उसे मुलाकात समझ लेते है रूठता तो आसमान भी है अपनी ज़मीन के लिए यह तो लोग ही उसे बरसात समझ लेते है Aankhon ki Baat Ishq karnewale Aankhon ki baat samajh lete hai Sapno mein yaar aaye Toh usse mulakat samajh lete hai Roota to aasman bhi hai Apni zameen ke liye Yeh to log hi usse barsaat samajh lete hai… नशीली ऑंखें नशीली आँखों से वो जब हमें देखते हैं हम घबराकर ऑंखें झुका लेते हैं कौन मिलाए उनकी आँखों से ऑंखें सुना है वो आँखों से अपना बना लेते है . Nashili Ankhen Nashili aankho se wo jab hamein dekhte hain, hum ghabraakar ankhen jhuka leite hain, kaun milaye unn ankhon se ankhen, suna hai wo ankho se apna bana leite hai… आँखों से बातें कोई आँखों से बातें करता हैं कोई आँखों से मुलाकाते करता हैं बड़ा मुश्किल होता हैं जवाब देना जब कोई चुप रह के सवाल करता हैं . Aankho se Batein Koi aankho se batein karta hain Koi aankhon se mulakate karta hain Bada mushkil hota hain jawab dena Jab koi chup raheke sawaal karta hain… […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 152 - छोड़कर तेरी चाहत पराई लगे दुनिया सारी – तेरे इश्क़ में

छोड़कर तेरी चाहत पराई लगे दुनिया सारी – तेरे इश्क़ में

बला है इश्क़ कहर है , मौत है , सजा है इश्क़ सच तो यह है बुरी बला है इश्क़ करते सब है पर सब से हारा है इश्क़ Blaa Hai IshQ Kehar Hai, Mout Hai, Saja Hai IshQ Sach To Yeh Hai Buri Blaa Hai IshQ karte sab hai par sab se hara hai ishq आप की मुस्कुराहट मेरी किसी खता पर नाराज़ मत होना अपनी प्यारी सी मुस्कान कभी न खोना सकून मिलता है देख कर आप की मुस्कुराहट को मुझे मौत भी आये तो भी तुम मत रोना Aap ki Muskurahat Meri kisi khata par naraz mat hona Apni pyari si muskan kabhi kabhi na khona Sakoon milta hai dekh kar aap ki muskurahat ko Mujhe mout bhi aaye to bhi tum mat rona मेरा इंतज़ार मुझे भी कोई याद कर रही होगी अपने सपनो मैं वो मुझे सजा रही होगी कोई कहे या न कहे मगर वो मेरा इंतज़ार ज़रूर कर रही होगी Mera Intezar Mujhe bhi koi yaad kar rahi hogi Apne sapno main wo mujhe saja rahi hogi Koi kahe ya na kahe magar Wo mera intezar zaroor ka rahi hogi ज़िन्दगी तेरे नाम हर बला से खूबसूरत तेरी शाम कर दूँ प्यार अपना […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 239 - हम ने एक इंसान को चाहा और गुनहगार हो गए – Hindi Shayari

हम ने एक इंसान को चाहा और गुनहगार हो गए – Hindi Shayari

मैं अश्क़ हूँ मैं अश्क़ हूँ मेरी आँख तुम हो मैं दिल हूँ मेरी धडकन तुम हो मैं जिस्म हूँ मेरी रूह तुम हो मैं जिंदा हूँ मेरी ज़िन्दगी तुम हो मैं साया हूँ मेरी हक़ीक़त तुम हो मैं आइना हूँ मेरी सूरत तुम हो मैं सोच हूँ मेरी बात तुम हो मैं मुकमल हूँ जब मेरे साथ तुम हो मैं तुम मैं हूँ अब तुम ही हो , अब तुम ही हो Main ashq Hoon Main ashq Hoon Meri ankh Tum Ho Main Dil Hoon Meri Dharkan Tum Ho Main jism Hoon Meri Rooh Tum Ho Main Jinda Hoon Meri Zindagi Tum Ho Main saya Hoon Meri Haqiqat Tum Ho Main Aena Hun Meri Surat Tum Ho Main soch Hoon Meri Baat Tum Ho Main Mukmal hoon Jab Mere Sath Tum Ho Main Tum main hoon Ab Tum hi ho , Ab Tum Hi Ho… वादा वादा निभाना हमारी आदत हो गयी हमें भूलने की उनकी आदत है उन्हें याद करने की हमारी आदत हो गयी Wada Wada Nibhana Humari Aadat Ho Gayi Humein Bhulane Ki Unki Aadat Hai Unhe Yaad Karne Ki Humari Aadat Ho Gayi… गुनहगार लोग पत्थर के बूतों को पूज कर भी मासूम रहे “फ़राज़” […]

Continue Reading