बशीर बद्र – उर्दू शायरी & ग़ज़ल

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

हमा वक़्त रंज-ओ-मलाल क्या , जो गुज़र गया सो गुज़र गया
उसे याद कर के न दिल दुखा , जो गुज़र गया सो गुज़र गया ।

                  न गिला किया न खफा हुए , यूं ही रास्ते में जुदा हुए
                  न तू बेवफा न में बेवफा , जो गुज़र गया सो गुज़र गया ।

वो ग़ज़ल की एक किताब था , वो गुलाबों में एक गुलाब था
ज़रा देर का कोई ख्वाब था , जो गुज़र गया सो गुज़र गया ।

                   मुझे पतझड़ों की कहानिया , न सुना सुना कर उदास कर
                   तू ख़िज़ाँ का फूल है मुस्कुरा , जो गुज़र गया सो गुज़र गया ।

वो उदास धूप समेट कर , कहीं वादियों में उतर चूका
उसे अब न दे मेरे दिल सदा ,जो गुज़र गया सो गुज़र गया ।

                  यह सफर भी कितना तवील है , यहाँ वक़्त कितना क़लील है
                 कहाँ लौट कर कोई आएगा , जो गुज़र गया सो गुज़र गया ।

वो वफ़ाएँ थी या जफायें थी , यह न सोच किस की खतायें थी
वो तेरे है उस को गले लगा , जो गुज़र गया सो गुज़र गया ।

                  तुझे ऐतबार -ओ -यकीन नहीं , न ही दुनिया इतनी बुरी नहीं
                  न मलाल कर मेरे साथ आ , जो गुज़र गया सो गुज़र गया ।


Hama Waqt Ranj-O-Malaal Kya , Jo Guzaar Gaya So Guzar Gaya
Usay Yaad Kar Key Na Dil Dukha , Jo Guzaar Gya So Guzar Gaya

                    Na Gila Kiya Na Khafa Hue, Yoon Hi Raastey Mein Juda Hue
                    Na Tu Bewafa Na Mein Bewafa, Jo Guzaar Gya So Guzar Gaya

Wo Gazal Ki Ek Kitab Tha , Wo Gulabon Mein Ek Gulab Tha
Zara Der Ka Koi Khwaab Tha, Jo Guzaar Gya So Guzar Gaya

                    Mujhey Patjharon Ki Kahaniya , Na Suna Suna Kar Udaas Kar
                    Tu Kizaan Ka Phool Hai Muskura, Jo Guzaar Gya So Guzar Gaya

Wo Udaas Dhoop Samait Kar , Kahin Wadiyon Mein Utaar Chuka
Usay Ab Na Dey Mere Dil Sada,Jo Guzaar Gya So Guzar Gaya

                    Yeh Safaar Bhi Kitna Taweel Hai, Yahan Waqt Kitna Qaleel Hai
                   Kahan Laut Kat Koi Ayee Ga , Jo Guzaar Gya So Guzar Gaya

Wo Wafaein Thi Ya Jafaien Thi, Yeh Na Soch Kis Ki Khataien Thi
Wo Tere Hai Us Ko Gale Laga, Jo Guzaar Gya So Guzar Gaya

                  Tujhe Aitbar-O-Yakeen Nahin, Na Hi Duniya Itni Buri Nahi
                  Na Malaal Kar Mere Saath Aa , Jo Guzaar Gya So …

Continue Reading
Bashir Badr - Aansuoon se dhuli khushi ki tarah

Bashir Badr – Aansuoon se dhuli khushi ki tarah

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

Aansuoon se dhuli khushi ki tarah,
Rishtey hotey hain shayari ki tarah,
Door reh kar bhi hoon issi ki tarah,
Chaand se door chandni ki tarah,
Khoobsurat, udaas, khaufzada,
Woh bhi hai beesween sadi ki tarah,
Jab bhi kabhi badlon mein ghirta hai,
Chand lagta hai aadmi ki tarah,
Hum khuda ban ke ayenge warna,
Hum se mil jao aadmi ki tarah,
Sab nazar ka fareb hota hai,
Koi hota nahin kisi ki tarah,
Janta hoon ke aik din mujhko,
Woh badal dega diary ki tarah,
Aarzu hai ke koi sher kahoon,
Khoobsurat teri gali ki tarah…

आंसुओं से धुली खुशी की तरह,
रिश्ते होते हैं शायरी की तरह,
दूर रह कर भी हूँ इसी की तरह,
चाँद से दूर चाँदनी की तरह,
खूबसूरत, उदास, ख़ौफज़दा,
वो भी है बीसवीं सदी की तरह,
जब भी कभी बादलों में घिरता है,
चाँद लगता है आदमी की तरह,
हम खुदा बन के आएँगे वरना,
हम से मिल जाओ आदमी की तरह,
सब नज़र का फरेब होता है,
कोई होता नहीं किसी की तरह,
जनता हूँ के ऐक दिन मुझको,
वो बदल देगा डायरी की तरह,
आरज़ू है के कोई शेर कहूँ,
खूबसूरत तेरी गली की तरह……

Continue Reading