Bashir Badr - Aansuoon se dhuli khushi ki tarah

Bashir Badr – Aansuoon se dhuli khushi ki tarah

Aansuoon se dhuli khushi ki tarah, Rishtey hotey hain shayari ki tarah, Door reh kar bhi hoon issi ki tarah, Chaand se door chandni ki tarah, Khoobsurat, udaas, khaufzada, Woh bhi hai beesween sadi ki tarah, Jab bhi kabhi badlon mein ghirta hai, Chand lagta hai aadmi ki tarah, Hum khuda ban ke ayenge warna, Hum se mil jao aadmi ki tarah, Sab nazar ka fareb hota hai, Koi hota nahin kisi ki tarah, Janta hoon ke aik din mujhko, Woh badal dega diary ki tarah, Aarzu hai ke koi sher kahoon, Khoobsurat teri gali ki tarah… आंसुओं से धुली खुशी की तरह, रिश्ते होते हैं शायरी की तरह, दूर रह कर भी हूँ इसी की तरह, चाँद से दूर चाँदनी की तरह, खूबसूरत, उदास, ख़ौफज़दा, वो भी है बीसवीं सदी की तरह, जब भी कभी बादलों में घिरता है, चाँद लगता है आदमी की तरह, हम खुदा बन के आएँगे वरना, हम से मिल जाओ आदमी की तरह, सब नज़र का फरेब होता है, कोई होता नहीं किसी की तरह, जनता हूँ के ऐक दिन मुझको, वो बदल देगा डायरी की तरह, आरज़ू है के कोई शेर कहूँ, खूबसूरत तेरी गली की तरह…

Continue Reading