shayarisms4lovers June18 53 - सुन्दर परिवारिक ज्ञान

सुन्दर परिवारिक ज्ञान

पति सुख अकेला काट लेता है लेकिन दुःख में  वो अपनी पत्नी को जरूर याद करता है पत्नी दुःख तो अकेले काट लेती है लेकिन सुख में अपने पति को जरूर याद करती है pati sukh akeela kat leta hai lekin dukh main wo apni patni ko jaroor yaad karna hai patni dukh to akele kat leti hai lekin sukh main apne pati ko jaroor yaad karti hai Family Value and Gyan – Husband and wife relationship quote अच्छा  इंसान  बनने  के  लिए  अच्छे   कर्म  करने  पड़ते  है , जो  लोग  दिखावे  की  बजाए   अच्छे   काम  करते  है  दुनिया  उन  को खुद  ढूंढ  लेती  है  Accha insan banne ke liye achhe karm karne padte hai, jo log dekhawe ki bajaye ache karm karte hai duniya unn ko khud hi doond leti hai Family Value and Gyan -Humanity and morality quote  इंसान हमेशा कोशिश करता है वो एक आदर्श माता और पिता साबित हो .. ऐसा करने के लिए उसे आदर्श बनने  की जरूर नहीं.. बल्कि उसे अपने माता पिता की सेवा और साथ की जरूरत पड़ती है ..क्योकि इंसान जैसा सीखता है बैसा बनता है insaan hamesha kosis karta hai wo ek adarsh mata aur pita sabit ho.. aisa […]

Continue Reading

संत कबीर अनमोल वाणी – कबीर के दोहे

संत कबीर वाणी कबीरा खड़ा बाजार में मांगे सब की खैर न कहु से दोस्ती न कहु से बैर —- बुरा जो देखन में चला , बुरा न मिलया कोई , जो मन खोजा अपना तो मुझ से बुरा न कोई —- चलती चक्की देख के दिया कबीरा रोए दुई पाटन के बीच में साबुत बचा न कोई   —- कल करे सो आज कर , आज करे सो अब पल में परलय होगी , बहुरि करोगे कब संत कबीर दास के साधु बचन साईं इतना दीजिये जिसमे  कुटुम्ब समाए , मैं भी भूखा न रहूँ , साधु भी न भूखा जाए —- दुःख में सिमरन सब करें , सुख में करे न कोई जो सुख में सिमरन करे , तो दुःख कहे को होये . —- ऐसी वाणी बोलिये , मन का आपा खोये , अपना तन शीतल करे , औरों को सुख होये . —- धीरे धीरे रे मन धीरे सब कुछ होये , माली सींचे सौ घड़ा , ऋतू आये फल होये . दोहे संत कबीर के जाती न पूछो साधु की , पूछ लीजिये ज्ञान मोल करो तलवार का पड़ी रहें जो मयान . —- जीवत समझे जीवत बुझाय , जीवत ही करो आस , जीवत […]

Continue Reading

एक उम्मीद ज़िन्दगी की – पारिवारिक ज्ञान

उम्मीद  उस   ख़ुशी  का  नाम  है  जिस  के  इंतज़ार  में  ग़म  के  अय्याम  कट  जाते  हैं  रिश्ते आजकल उंगलिया ही निभा रही है रिश्ते आजकल, जुबां से निभाने का वक़्त कहाँ है सब टच में बिजी है पर टच में कोई नहीं है एक उम्मीद ज़िन्दगी की – पारिवारिक ज्ञान – उंगलिया ही निभा रही है रिश्ते आजकल रिश्तों की सिलाई रिश्तों की सिलाई अगर भावनाओ से हुई है तो टूटना मुश्किल है और अगर स्वार्थ से हुई है तो टिकना मुश्किल है एक उम्मीद ज़िन्दगी की – पारिवारिक ज्ञान – रिश्तों की सिलाई ज़िन्दगी का गणित कुएं में उतरने वाली बाल्टी यदि झुकती है तो भर कर बाहर निकलती है ज़िन्दगी का भी यही गणित है जो झुकता है वह प्राप्प्त करता है एक उम्मीद ज़िन्दगी की – पारिवारिक ज्ञान – ज़िन्दगी का भी यही गणित है ज़िन्दगी का मकसक बस दिलो को जीतना ही ज़िन्दगी का मकसक होना चाहिए, वरना , दुनिया जीतकर भी सिकंदर खाली हाथ ही गया था एक उम्मीद ज़िन्दगी की – पारिवारिक ज्ञान – दिलो को जीतना ही ज़िन्दगी का मकसक होना चाहिए वक़्त और हालात जिस तरह मौसम बदलने का एक वक़्त होता है इसी तरह वक़्त बदलने का भी एक मौसम […]

Continue Reading