shayarisms4lovers June18 53 - सुन्दर परिवारिक ज्ञान

सुन्दर परिवारिक ज्ञान

पति सुख अकेला काट लेता है लेकिन दुःख में  वो अपनी पत्नी को जरूर याद करता है पत्नी दुःख तो अकेले काट लेती है लेकिन सुख में अपने पति को जरूर याद करती है pati sukh akeela kat leta hai lekin dukh main wo apni patni ko jaroor yaad karna hai patni dukh to akele kat […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 199 - संत कबीर अनमोल वाणी – कबीर के दोहे

संत कबीर अनमोल वाणी – कबीर के दोहे

संत कबीर वाणी कबीरा खड़ा बाजार में मांगे सब की खैर न कहु से दोस्ती न कहु से बैर —- बुरा जो देखन में चला , बुरा न मिलया कोई , जो मन खोजा अपना तो मुझ से बुरा न कोई —- चलती चक्की देख के दिया कबीरा रोए दुई पाटन के बीच में साबुत […]

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 199 - एक उम्मीद ज़िन्दगी की – पारिवारिक ज्ञान

एक उम्मीद ज़िन्दगी की – पारिवारिक ज्ञान

उम्मीद  उस   ख़ुशी  का  नाम  है  जिस  के  इंतज़ार  में  ग़म  के  अय्याम  कट  जाते  हैं  रिश्ते आजकल उंगलिया ही निभा रही है रिश्ते आजकल, जुबां से निभाने का वक़्त कहाँ है सब टच में बिजी है पर टच में कोई नहीं है एक उम्मीद ज़िन्दगी की – पारिवारिक ज्ञान – उंगलिया ही निभा […]

Continue Reading