shayarisms4lovers mar18 15 - Bewafa shayari in hindi

Bewafa shayari in hindi

Bewafa shayari in hindi रूठ कर जो हमसे यूं मुँह मोड़ लेते हो, खुद ही गमों से रिश्ता जोड़ लेते हो ! कभी करके गुफ्तगू बांट लिया करो गम, क्यों गमों का दामन खुद पे ओढ़ लेते हो !! वक़्त चल रहा था, लोग भी ठहरे नहीं थे, खुली रहती थीं किबाड़, तब उतने पहरे नहीं थे। खुला आसमान, ये चाँद और सितारे बग़ीचे में मचलते ये रंगीन फ़व्वारे। दरख़्तों से निकली हवा की ठंडी फ़ुहारें, कहीं बच्चों के हाथों में रंगीन गुब्बारे। पंछियों के गुटों का घर वापस आना, माँ को देखकर बच्चों का यूँ खिल जाना। काम से थके हारे लोगों घर वापस आना, फिर चौपालों पर बैठकर ठहठहा लगाना। गली नुक्कड़ पर बच्चों का हुजूम लग जाना, फ़िर खेल-करतब करते-करते उनका थक जाना। घर में घुसते ही भूख का ज़ोरों से दौड़ जाना, फिर चूल्हे की रोटी और माँ के हाथ का खाना। शाम अब भी वही है, लोग अब भी वहीं हैं, अब बातें नई हैं और बदल गया है जमाना। बात जब भी सुकून की होती है, तब याद आता है वो गुजरा जमाना! याद आता है वो गुजरा जमाना। तेरे हाथों में मुझे अपनी, तकदीर नजर आती है । देखो मैं जो भी चेहरा […]

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 48 - Bewafa Shayari in Hindi on Ruswaiyon Ka khauf

Bewafa Shayari in Hindi on Ruswaiyon Ka khauf

दुनियाँ को इसका चेहरा दिखाना पड़ा मुझे, पर्दा जो दरमियां था हटाना पड़ा मुझे, रुसवाईयों के खौफ से महफिल में आज, फिर इस बेवफा से हाथ मिलाना पड़ा मुझे ..

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 139 - Bewafa Shayari in Hindi on Bujh Gaye Jalte Diye

Bewafa Shayari in Hindi on Bujh Gaye Jalte Diye

मुझे को अब तुझ से भी मोहब्बत नहीं रही, ऐ ज़िंदगी तेरी भी मुझे ज़रूरत नहीं रही, बुझ गये अब उस के इंतेज़ार के वो जलते दिए, कहीं भी आस-पास उस की आहट नहीं रही..

Continue Reading
shayarisms4lovers June18 269 - Bewafa Shayari in Hindi on Zamana Jalane Ki Zidd

Bewafa Shayari in Hindi on Zamana Jalane Ki Zidd

चाँद तारे ज़मीन पर लाने की ज़िद थी, हमें उनको अपना बनाने की ज़िद थी, अच्छा हुआ वो पहले ही हो गयी बेवफा, वरना उन्हे पाने को ज़माना जलाने की ज़िद थी..

Continue Reading

Bewafa Shayari in Hindi on Teri Berukhi Ki Aag

कई जन्मों से तेरे पीछे चलते रहे हैं हम, होते हुए तरल भी पिघलते रहे हैं हम। तू हो के व्यस्त भूल गया वादे हजार कर के, तेरी बेरुखी की आग में जलते रहे हैं हम।

Continue Reading