यह सब खा कर कही आप अपनी जान जोखिम में तो नहीं डाल रहे

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

7 Most Dangerous Food for Health, Hindi

ब्रेड में पोटैशियम ब्रोमेट नाम मिलने के बाद फूड रेगुलेटर एफएसएसएआई ने इसे प्रतिबंधित करने का फैसला तो कर लिया है, लेकिन हमारी सेहत के ऐसे ही कई दुश्मन खाने-पीने की चीजों में जमकर इस्तेमाल किए जा रहे हैं। इनमें से कई दुनिया के बाकी देशों में तो बैन भी हैं। देखें कौन सी हैं वो चीजें।

7 Most Dangerous Fod for Health In Hindi :

1. आर्टीफिशियल स्वीटनर एस्परटेम

बाजार में बिकने वाले कई खाद्य पदार्थों के शानदार स्वाद और लुभावने रंग के पीछे एक जहरीली सच्चाई है। जैसे कोल्ड ड्रिंक्स में मिठास लाने वाली आर्टीफिशियल स्वीटनर एस्परटेम यूरोप के कई देशों में बैन है, लेकिन भारत में नहीं, यहां इसका खुलेआम इस्तेमाल होता है।

2. एनर्जी ड्रिंक्स

एनर्जी ड्रिंक्स में ज्यादा कैफीन होने की वजह से इसकी कुछ वेरायटी ऑस्ट्रेलिया में बैन हैं, भारत में नहीं। अब जाकर एफएसएसएआई एनर्जी ड्रिंक्स के लिए मानक तैयार कर रही है।

3. च्विंगम

च्विंगम में प्रिजरवेटिव के रूप में इस्तेमाल होने वाला बीएचटी भी यूरोप में बैन है, भारत में नहीं। कई रिसर्च में इसे कैंसर का एक कारण भी पाया गया है।

4. चिप्स

च्विंगम की तरह चिप्स में भी प्रिजरवेटिव के रूप में इस्तेमाल होने वाला बीएचटी होता है।

5. रंगीन टॉफियां

रंगीन टॉफियां बच्चों को काफी लुभाती हैं, लेकिन क्या आपको पता है ये कितनी खतरनाक हो सकती हैं। टाफियों में कलर देने वाले कई आर्टीफीशियल रंग कई देशों में बैन हैं।

6. चिकन

चिकन में मिलने वाले एंटीबायोटिक की भारी मात्रा भी सेहत के लिए खतरे की घंटी हो सकती है। सीएसी के शोध में 40 फीसदी चिकन सैंपल में ऐसे एंटीबायोटिक पाए गए थे। कई देशों ने पेस्टिसाइड के इस्तेमाल पर भी रोक लगाई है हालांकि भारत में इसका इस्तमाल धड़ल्ले से हो रहा है। एडिक्टिव खाद्य पदार्थों की लिस्ट में ऐसे कई पदार्थ हैं जो सालों पहले जोड़े गए थे, लेकिन नए रिसर्च में उन्हें खतरनाक पाए जाने के बाद भी उनका इस्तेमाल हो रहा है।

7. नूडल्स

पहले नूडल्स में एमएसजी और अब ब्रेड में पोटैशियम ब्रोमेट पर उठे बवाल के बाद भारत की फूड रेगुलेटरी बॉडी एफएसएसएआई ने एडिक्टिव खाद्य पदार्थों की लिस्ट की समीक्षा करने का फैसला किया है। उम्मीद है कि इसके बाद सेहत से खिलवाड़ करने वाले ऐसे कई पदार्थ भारत में भी बैन हो सकेंगे।…

Continue Reading