shayarisms4lovers June18 262 - Desh bhakti Shayari, Watan ki mohabbat mein khud ko

Desh bhakti Shayari, Watan ki mohabbat mein khud ko

Watan ki mohabbat mein khud ko tapaye baithe hai, Marege watan ke liye shart maut se lagaye baithe hain! वतन की मोहब्बत में खुद को तपाये बैठे है, मरेगे वतन के लिए शर्त मौत से लगाये बैठे हैं!

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 75 - Desh Bhakti Shayari, lutera hai agar azad to

Desh Bhakti Shayari, lutera hai agar azad to

लुटेरा है अगर आजाद तो अपमान सबका है, लुटी है एक बेटी तो लुटा सम्मान सबका है, बनो इंसान पहले छोड़ कर तुम बात मजहब की, लड़ो मिलकर दरिंदों से ये हिंदुस्तान सबका है।

Continue Reading