shayarisms4lovers June18 131 - मैं हूँ इक ख्वाब मगर जागती आँखों का – Ameer Qazalbash Shayari

मैं हूँ इक ख्वाब मगर जागती आँखों का – Ameer Qazalbash Shayari

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

आरज़ू-ऐ-साहिल

उनकी बेरुखी में भी इल्तेफ़ात शामिल है
आज कल मेरी हालत देखने के काबिल है

क़त्ल हो तो मेरा सा मौत हो तो मेरी सी
मेरे सोगवारों में आज मेरा क़ातिल है

मुजतरीब हैं मौजें क्यों उठ रही हैं तूफ़ान क्यों
क्या किसी सफ़ीने को आरज़ू-ऐ-साहिल है

सिर्फ राहजन ही से क्यों “अमीर ” शिकवा हो
मंज़िलों की राहों में राहबर भी शामिल है

Aarazuu-ae-saahil

unki berukhi mein bhi iltefaat shaamil hai
aaj kal meri haalat dekhne ke kabil hai

 

Qatal ho to mera sa maut ho to meri si
mere sog vaaron mein aaj meraa qaatil hai

muztarib hain maujen kyun uth rahe hain tuufaan kyun
kya kisi safine ko aarazuu-ae-saahil hai

sirf rahzan hi se kyon “Ameer” shikva ho
manzilon ki raahon mein raahbar bhi shaamil hai


कभी सोचा न था

जगमगाते शहर की रंगीनियों में क्या न था
ढूंढने निकला था जिस को मैं , वही चेहरा न था

रेत पर लिखे हुए नामों को पढ़ कर देख लो
आज तनहा रह गया हूँ कल मगर ऐसा न था

हम वही तुम भी वही मौसम वही मंज़र वही
फासला बढ़ जाएगा इतना कभी सोचा न था

Kabhi Socha na Tha

Jagmagaate shehar ki ranginiyon mein kya na tha
dhundhane nikala tha jis ko main wahi chehara na tha

ret pe likhe huye naamon ko padh kar dekh lo
aaj tanhaa reh gayaa hoon kal magar aisa na tha

hum wahi tum bhi wahi mausam wahi manzar wahi
fasla bad jaayega itana kabhi socha na tha


तू एक दरिया

आज की रात भी गुज़री है मेरी कल की तरह
हाथ आये न सितारे तेरे आँचल की तरह

रात जलती हुई इक ऐसी चिता है जिस पर
तेरी यादें हैं सुलगते हुए संदल की तरह

तू एक दरिया है मगर मेरी तरह प्यासा है
मैं तेरे पास चला आऊंगा बादल की तरह

मैं हूँ इक ख्वाब मगर जागती आँखों का “अमीर ”
आज भी लोग छोड़ दे न मुझे कल की तरह

To Ek Dariya Hai

Aaj ki raat bhi guzari hai meri kal ki tarah
haath aaye na sitaare tere aanchal ki tarah

raat jalti hui ik aisi chitaa hai jis par
teri yaadein hain sulagate huye sandal ki tarah

to ek dariyaa hai magar meri tarah pyaasa hai
main tere paas chalaa aaunga baadal ki tarah

main hoon ik khwab magar jaagati ankhon ka “Ameer”
aaj bhi log chod de na mujhe kal ki tarah…

Continue Reading
shayarisms4lovers may18 38 - काश उन्हें भी कभी हम पे ऐतबार तो होता – ऐतबार शायरी

काश उन्हें भी कभी हम पे ऐतबार तो होता – ऐतबार शायरी

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

काश उन्हें भी कभी हमपे ऐतबार तो होता

काश उनका दिल इतना शख्त न होता ,
प्यार हमसे भी कभी उन्होंने किया होता ..
एक हम भी थे उनके चाहने वाले ,
काश उन्हें भी कभी हमपे ऐतबार तो होता ..

kaash unka dil itna saqt na hota

kaash unka dil itna saqt na hota,
payar humse bhi kabhi unhone kiya hota..
ek hum bhi the unke chahne waalo,
kash unhee bhi kabhi humpe etbaar to hota..


हमे तो मोहब्बत हो गयी

आप के साथ रहते रहते हमे चाहत सी हो गयी
आप से बात करते करते हमे आदत सी हो गयी
एक पल न मिलो बेचैनी सी लगती है
दोस्ती निभाते निभाते हमे तो मोहब्बत हो गयी

Humay to mohabbat ho gaee

Aap ke saath rehte rehte humay chahat si ho gaee
Aap se baat karte karte humay addat si ho gaee
Ek pal na millo bechaini si lagti hai
Dosti nibhate nibhate humay to mohabbat ho gaee..


वफ़ा

सारा शहर उस के “जनाज़े ” में था शरीक
” वफ़ा “निभाते नभते जो शख्स मर गया

Wafa

Saara Shehar uss ke “Janaazey” mein tha shareek
“wafa” nibhate nbhate jo shaks mar gaya..


सौदागर

मुझसे बिछड़ के बेनाम हो जाओगे ..
सौदागर के हाथों नीलाम  हो जाओगे ..

Saudagar

Mujhse bichar k benaam ho jaao gay..
saudagar ke hathoon neelam hojao gay..


मुझको अच्छा नहीं लगता

मुझको अच्छा नहीं लगता तेरा हर एक से मिलना ..
हर एक से मिलोगे तो आम हो जाओगे …

Mujhko Acha nahi lagta

Mujhko Acha nahi lagta tera har ik se Milna..
Har ik say milogay tu Aam ho jaao gay..


जिंदगी

ऐ जिंदगी मुझसे यूँ दग़ा न कर ,
मैं जिन्दा राहु ऐसी दुआ न कर ,
कोई छूता है उन्हें तो होती है जलन ,
ऐ हवा तू भी उन्हें छुआ न कर ..

Jindagi

ae jindagi mujhse yun daga na kar,
main jinda rahu aisi dua na kar,
koi chuta hai unhe to hoti hai jalan,
ae hawa tu bhi unhe chua na kar..…

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 70 - किसी के दिल में तेरी धड़कन आज भी है

किसी के दिल में तेरी धड़कन आज भी है

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

मुलाक़ात

काश सूरत आपकी इतनी प्यारी न होती
काश आपसे मुलाक़ात हमारी न होती
सपनो में ही हम देख लेते आपको
तो आज मिलने की इतनी बेकरारी न होती !!

Mulaqat

Kaash Surat Apki Itni Pyari Na Hoti
Kaash Aapse Mulaqat Hamari Na Hoti
Sapno Me Hi Hum Dekh Lete Aapko
To Aaj Milne Ki Itni Bekarari Na Hoti !!


दामन

चाहत ही मिले तुझे मायूसी न मिले ,
आँसूओ को तेरी आँखों में इजाज़त न मिले ,
इतनी खुशिया भर जाये दामन में तुम्हारे
रोने की तुझे कभी फुर्सत न मिले

Daman

Chahat Hi mile Tujhe Mayusi Na Mile,
Aansuvon Ko Teri Ankhon Me Ijazat Na Mile,
Itni Khushiya Bhar Jaye Daman Me,
Rone Ki Tujhe Kabi Fursat Na Mile !!


दीदार

किसी के दिल में तेरी धड़कन आज भी है ,
किसी की नज़र में तेरा दीदार आज भी है ,
अगर ज़िन्दगी से हो शिकायत तो याद करना ,
किसी की ज़िन्दगी में तेरी कमी आज भी है !!

Didar

Kisi Ki Dil Me Teri Dhadkan Aj Bhi Hai,
Kisi Ki Nazar Me Tera Didar Aj Bhi Hai,
Agar zindagi Se Ho Shikayat To Yaad Karna,
Kisi Ki zindagi Me Teri Kami Aj Bhi Hai!!


मेहबूब

प्यार का जज़्बा भी क्या ख्वाब दिखा देता है
अजनबी चेहरे को मेहबूब बना देता है !!​

Mehboob

Pyar Ka Jazba Bhi Kya Khwaab Dikha Deta Hai
Ajnabi Chehre Ko Mehboob Bana Deta Hai !!​…

Continue Reading
shayarisms4lovers mar18 141 - इश्क़ की कीमत पूछ लो मुझ से – Passionate Shayari

इश्क़ की कीमत पूछ लो मुझ से – Passionate Shayari

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

तुम्हारा साथ

जी चाहता है तुम से प्यारी सी बात हो
हसीं चाँद तारे हो , लम्बी सी रात हो
एहसास हो , बात हो और तुम्हारा साथ हो
यही सिलसिला तमाम रात हो , तुम्हारा साथ हो
तुम मेरी ज़िन्दगी हो , तुम मेरी कायनात हो .

Tumhara Sath

Jee Chahta Hai Tum Se Pyari Si Baat Ho
Haseen Chand Tare Ho, Lambi Si Raat Ho
Ehsaas ho, baat ho aur tumhara sath ho
Yahi silsila tamam raat ho, tumhare sath ho
Tum Meri Zindagi Ho, Tum Meri Kayinat Ho.


तेरे क़दमों में

तुम न जाओ कहीं
बस एक नज़र देख लेने की इजाज़त दे दो
कुछ वक़्त गुज़ार लू तेरे क़दमों में
इक ज़िन्दगी जीने की इजाज़त दे दो

Tere Kadmo Mein

Tum na jao kahin..
Bas ek nazar dekh lene ki ijazat de do
Kuchh waqt guzar lo tere Kadmo mein
Ik zindagi jeene ki ijaazat de do


ऐतबार

किसी को प्यार इतना देना की हद न रहे
पर ऐतबार भी इतना रखना की शक न रहे
वफ़ा इतनी करना की बेवफाई न हो
और दुआ बस इतनी करना की जुदाई न हो

Aitbaar

Kisi ko pyar itna dena ki had na rahe
par aitbaar bhi itna rakhna ki shak na rahe
wafa itni karna ki bewafai na ho
aur dua bus itni karna ki judai na ho


इश्क़ की कीमत

मौत के पास जा कर भी देखा है
मैंने दिल लगा कर भी देखा है

चाँद को लोग दूर से देखते है
मैंने चाँद को पास बुला कर भी देखा है

इश्क़ की कीमत पूछ लो मुझ से
मैंने घर तक लुटा कर भी देखा है

प्यार तो भीख में भी मिल जाता है
मैंने तो दामन को भी फैला कर देखा है

एक शख्स है जो भूलता नहीं मुझसे
मैंने तो सारी दुनिया को भुला कर भी देखा है

Ishq Ki Kimat

Mout ke paas ja kar bhi Dekha hai
Meine Dil Laga kar bhi dekha hai

Chaand ko log Door se Dekhte hai
Meine chaand ko Pass Bula kar bhi Dekha hai

Ishq Ki Kimat Puch loo mujh say
Meine Ghar Tak Luta kar bhi Dekha hai

pyar to bhekh mein bhi mil jata hai
Meine to daaman ko bhi Pehla kar dekha hai

Ek shaks hai jo bhulta nhi mujh say
Meine to Sari dunya ko bhula kar bhi dekha hai…

Continue Reading
Wasi Shah - Sochta hoon ke usay neend bhi ati hogi..

प्यार, मोहबत और चाहत शायरी – Shayari of Love and Romance

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>
चाहत की महफ़िल

ग़म न कर ज़िन्दगी बहुत बड़ी है
चाहत की महफ़िल तेरे लिए सजी है
बस एक बार मुस्कुरा कर तो देख
तक़दीर खुद तुझसे मिलने बाहर खड़ी है

 

Chahat Ki Mehfil

Gham Na Kar Zindagi Bahut Badi Hai,
Chahat Ki Mehfil Tere Liye Saji Hai,
Bas Ek Baar Muskura Kar Tho Dekh,
Taqdeer Khud Tujhse Milne Bahar Khadi Hai

 


आप के नाम

मंज़िलों की हर राह आप के नाम ,
मोहब्बत की हर अदा आप के नाम
प्यार भरी हर निगाह आप के नाम
और आज लबों पर आने वाली हर दुआ आपके नाम

Aap Ke Naam

Manzilo ki har sadak aap ke naam
Mohabbat ki har adda aap ke naam
Pyaar bhari har nigah aap ke naam
Aur aaj labon par aaane wali har dua aapke naam

 


प्यार की तड़प

प्यार की तड़प को दिखाया नहीं जाता
दिल में लगी आग को बुझाया नहीं जाता
कितनी भी दूरी हो प्यार में मगर
आप जैसे दोस्त को भुलाया नहीं जाता

 

Pyaar ki Tadap

pyaar ki tadap ko dikhaya nahi jata
dil mein lagi aag ko bhujaya nahi jata
kitni bhi doori ho pyaar mein magar
aap jaise dost ko bholaya nahi jata

 


तेरी  तस्वीर

न दिल को “बहलाने” के लिए .
न घर मैं “सजाने” के लिए .
बस आपकी एक “तस्वीर” चाहिए हमें .
अपने सूने घर को “बसाने” के लिए

 

Teri Tasveer

Na Dil Ko “BEHLANEY” Ke Liye.
Na Ghar Main “SAJANEY” Ke Liye.
Bus Aapki Ek “TASVEER” Chahiye Humain.
Apne Sune Ghar ko “BASANE” ke Liye…

Continue Reading