इश्क़ में यह दूरियां – दूरियाँ शायरी

< ?xml encoding="utf8mb4" ?>

इन राहों की दूरियां
निगाहों की दूरियां
हम राहों की दूरियां
फनाह हो सभी दूरियां

तेरी नज़रों से ओझल हो जायेंगे

तेरी नज़रों से ओझल हो जायेंगे हम
दूर फ़िज़ाओं में कहीं खो जायेंगे हम
हमारी यादों से लिपट कर रोते रहोगे
जब ज़मीन की मट्टी में सो जायेंगे हम

Teri Nazron Se Ozhal Ho Jayenge Hum

Teri Nazron Se Ozhal Ho Jayenge Hum
Dur Fizaoon Mein Kahain Kho Jayenge Hum
Hamari Yaadon Se Lipat Kar Rote Rahoge
Jab Zameen Ki Matti Mein So Jayenge Hum


कुछ दूरियां तो कुछ फासले बाकी हैं

अभी कुछ दूरियां तो कुछ फासले बाकी हैं
पल पल सिमटती शाम से कुछ रौशनी बाकी हैं
हमें यकीन है वो देखा हुआ कल आएगा ज़रूर
अभी वो हौसले वो यकीन बाकी हैं

Kuch Dooriyan To Kuch Faasle Baaki Hain

Abhi Kuch Dooriyan To Kuch Faasle Baaki Hain
Pal Pal Simatati Shaam Se Kuch Roshni Baaki Hain
Hame Yakeen Hai Wo Dekha Hua Kal Aayega Zaroor
Abhi Wo Housle Wo Ummedein Baaki Hain


बहुत दूर निकल आये हैं चलते चलते

हम बहुत दूर निकल आये हैं चलते चलते
अब ठहर जाएँ कहीं शाम के ढलते ढलते
रात के बाद सहर होगी मगर किस के लिए
हम भी शायद न रहें रात के ढलते ढलते

Bahut Dur Nikal Aaye Hain Chaltay Chaltay

Hum Bahut Dur Nikal Aaye Hain Chaltay Chaltay
Ab Thehar Jayen Kahin Sham Ke Dhaltay Dhaltay
Raat Ke Baad Sehar Hogi Magar Kis Ke Liye
Hum Bhi Shayad Na Rahain Raat Ke Dhaltay Dhaltay


दूर निगाहों से बार बार जाया न करो

दूर निगाहों से बार बार जाया न करो
दिल को इस कदर तड़पाया न करो
तुम बिन एक पल भी जी न सकेंगे हम
यह एहसास बार बार हमे दिलाया न करो

Dur Nighaon Se Baar Baar Jaya Na Karo

Dur Nighaon Se Baar Baar Jaya Na Karo
Dil Ko Iss Kadar Tadpaya Na Karo
Tum Bin Ek Pal Bhi Jee Na Sakenge Hum
Yeh Ehssas Baar Baar Hume Dilaya Na Karo


उनके दूर जाने के साथ

उनके दूर जाने के साथ आंखे नम थी
ज़िन्दगी उनसे शुरू उन पर खत्म थी
वो रूठ के दूर रहने लगे हमसे
शायद हमारी मोहब्बत में ही कमी थी

Unke Dur Jane Ke Sath

Unke Dur Jane Ke Sath Ankhe Namm Thi
Zindagi Unse Shuru Unpar Khatam Thi
Wo Rooth Ke Dur Rehne Lage Humse
Shayad Hamari Mohabbat mein Hi Kami Thi


चले गए हो दूर

चले …

Continue Reading